Monday, June 17, 2019

Breaking News

   अमित शाह बोले - साध्वी प्रज्ञा ठाकुर के गोसडे पर दिए बयान से भाजपा का सरोकार नहीं    ||   भाजपा के संकल्प पत्र में आतंकवाद और भ्रष्टाचार के खिलाफ कार्रवाई का वादा     ||   सुप्रीम कोर्ट ने लोकसभा चुनाव में ईवीएम और वीवीपैट के मिलान को पांच गुना बढ़ाया    ||    दिल्लीः NGT ने जर्मन कार कंपनी वोक्सवैगन पर 500 करोड़ का जुर्माना ठोंका     ||    दिल्लीः राहुल गांधी 11 मार्च को बूथ कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित करेंगे     ||    हैदराबाद: टीका लगाने के बाद एक बच्चे की मौत, 16 बीमार पड़े     ||   मध्य प्रदेश के ब्रांड एंबेसडर होंगे सलमान खान, CM कमलनाथ ने दी जानकारी     ||   पाकिस्तान को FATF से मिली राहत, ग्रे लिस्ट में रहेगा बरकरार     ||   आय से अधिक संपत्ति केसः हिमाचल के पूर्व CM वीरभद्र सिंह के खिलाफ आरोप तय     ||   भीमा-कोरेगांव केसः बॉम्बे HC ने आनंद तेलतुंबड़े की याचिका पर सुनवाई 27 तक टाली     ||

अपने चलने की आदतों में करें बदलाव , BP - कोलेस्ट्रॉल कंट्रोल के साथ शरीर से टॉक्सिन कम करने में पाए मदद

अंग्वाल न्यूज डेस्क
अपने चलने की आदतों में करें बदलाव , BP - कोलेस्ट्रॉल कंट्रोल के साथ शरीर से टॉक्सिन कम करने में पाए मदद

नई दिल्ली । ऑफिस में घंटों कंप्यूर के सामने बैठकर काम करने से भले ही हमारी ऑफिस में छवि बेतहर बनती है , लेकिन हमारी सेहत के लिए यह बड़ा हानिकारक है । इससे हमारी सक्रियता कम होने के साथ ही हमारी सेहत पर भी काफी असर पड़ता है । अमूमन , ऑफिस जॉब करने वाले लोगों में मोटापा, हाई बीपी, डायबिटीज और हार्ट संबंधी समस्याएं देखने में आती हैं । हालांकि लोग इन दिनों अपनी सेहत को लेकर सतर्क भी हो गए हैं,  लेकिन सही तरीके न अपनाने के चलते उनकी सतर्कता उन्हें लाभ और राहत नहीं पहुंचा पाती । ऐसे में कुछ आसान कोशिशें आपकी समस्याओं का खात्मा कर सकती हैं, वो भी सिर्फ नियमित चलने भर से ।

बता दें कि नियमित रूप से चलना ना सिर्फ स्वस्थ रखता है, जोड़ सलामत रहते हैं, बल्कि आप युवा और आकर्षक भी नजर आते हैं। शरीर में ऊर्जा का स्तर अधिक रहता है। असल में लगातार चलने से जहां आपका ब्लड प्रेशर और कोलेस्ट्रॉल का स्तर कम होता है, वहीं ऐसे लोगों को हार्ट संबंधी समस्याएं भी कम होती है। ऐसे लोगों का हार्ट और शरीर तेज हृदय गति के साथ सामंजस्य बिठाने में सक्षम होता है।

अगर बात तेज गति से चलने वाले लोगों की करें तो ऐसे लोगों के फेफड़ों की स्थिति बेहतर मांपी जाती है । ऐसे लोगों का पाचन तंत्र ठीक से कार्य करता है। इतना ही नहीं चलने से आपके शरीर मे मौजूद टॉक्सिन वाहर निकलता है । इतना ही नहीं आपकी रीढ़ का लचीलापन भी बना रहता है । वहीं चलने से शुगर का स्तर सामान्य रहता है, इंसुलिन क्षमता में सुधार होता है। वजन कम नहीं होता तो भी इसके बढ़ने की आशंका कम हो जाती है।

पैदल चलने वाले लोगों के अध्ययन में पाया गया है कि इससे उनके शरीर में खुशी का एहसास करवाने वाले हार्मोन का स्त्राव होता है, बल्कि ऐसा करने से नींद भी बेहतर आती है । वहीं तनाव भी कम होता है ।


 

 

 

 

Todays Beets: