Wednesday, June 20, 2018

Breaking News

   उत्तर भारत में धूल: चंडीगढ़ में सुबह 11 बजे अंधेरा छाया, 26 उड़ानें रद्द; दिल्ली में भी धूल कायम     ||   टेस्ट में भारत की सबसे बड़ी जीत: अफगानिस्तान को एक दिन में 2 बार ऑलआउट किया, डेब्यू टेस्ट 2 दिन में खत्म     ||   पेशावर स्कूल हमले का मास्टरमाइंड और मलाला पर गोली चलवाने वाला आतंकी फजलुल्लाह मारा गया: रिपोर्ट     ||   कानपुर जहरीली शराब मामले में 5अधिकारी निलंबित     ||   अब जल्द ही बिना नेटवर्क भी कर सकेंगे कॉल, बस Wi-Fi की होगी जरुरत     ||   मौलाना मदनी ने भी की एएमयू से जिन्‍ना की तस्‍वीर हटाने की वकालत     ||   भारत-चीन सेना के बीच हॉटलाइन की तैयारी, LoC पर तनाव होगा दूर     ||   कसौली में धारा 144 लागू, आरोपित पुलिस की गिरफ्त से बाहर     ||   स्कूली बच्चों पर पत्थरबाजी से भड़के उमर अब्दुल्ला, कहा- ये गुंडों जैसी हरकत     ||   थर्ड फ्रंट: ममता, कनिमोझी....और अब केसीआर की एसपी चीफ अखिलेश यादव के साथ बैठक     ||

मासंपेशियों के प्रोटीन से दूर की जा सकती है इनसोमिनिया की बीमारी

अंग्वाल न्यूज डेस्क
मासंपेशियों के प्रोटीन से दूर की जा सकती है इनसोमिनिया की बीमारी

अमेरिका। अमूमन सबका मानना है कि नींद से जुड़े सभी विकार हमारे दिमाग में होते हैं, लेकिन हाल ही में हुए शोध में पाया गया है कि मांसपेशियों में प्रोटीन से इनसोमिनिया का इलाज संभव किया जा सकता है। अमेरिका की यूनिवर्सिटी ऑफ टेक्सास के न्यूरोसाइंस विभाग के अध्यक्ष जोसेफ ताकाशाही ने बताया कि यह बहुत ही चौंका देने वाला खुलासा है। यह शोध नींद से संबंधित हुए शोध की दिशा बदलने वाला है। अध्यक्ष जोसेफ ने बताया कि चूहों पर किए गए इस अध्ययन में पाया गया है कि इस प्रोटीन की मस्तिष्क में उपस्थिति या अनुपस्थिति का नींद की बीमारी पर बहुत कम प्रभाव पड़ा है, लेकिन जब चूहों की मांसपेशियों में बीएमएएल-1 प्रोटीन की ज्यादा मात्रा मिलाई चतो वे इनसोमिनिया यानी नींद न आने की बीमारी से तेजी से उबर सके। 


साथ ही उन्होंने बताया कि मांसपेशियों में इस प्रोटीन की उपस्थिति से मस्तिष्क को एक संदेश जाता है, जो नींद को प्रभावित करता है। शोध के मनुष्य पर लागू किया तो संभव ही नींद से जुड़ी बीमारियों के उपचार का नया तरीका खोजा जा सकेगा। 

Todays Beets: