Friday, January 19, 2018

Breaking News

   98 साल की उम्र में MA करने वाले राज कुमार का संदेश, कहा-हमेशा कोशिश करते रहें     ||   मुंबई स्टॉक एक्सचेंज ने पार किया 34000 का आंकड़ा, ऑफिस में जश्न का माहौल     ||   पं. बंगाल: मालदा से 2 लाख रुपये के फर्जी नोट बरामद, एक गिरफ्तार    ||   सेक्स रैकेट का भंड़ाभोड़: दिल्ली की लेडी डॉन सोनू पंजाबन अरेस्ट    ||   रूपाणी कैबिनेट: पाटीदारों का दबदबा, 1 महिला को भी मंत्रिमंडल में मिली जगह    ||   पशु तस्करों और पुलिस में मुठभेड़, जवाबी गोलीबारी में एक मरा, घायल गायें बरामद    ||   RTI में खुलासा- भगत सिंह-राजगुरु-सुखदेव को अब तक नहीं मिला शहीद का दर्जा, सरकारी किताब में बताया गया 'आतंकी'     ||    गुजरात चुनाव: रैली में बोले BJP नेता- दाढ़ी-टोपी वालों को कम करना पड़ेगा, डराने आया हूं ताकि वो आंख न उठा सकें    ||   मध्य प्रदेश: बाबरी विध्वंस पर जुलूस निकाल रहे विहिप-बजरंग दल कार्यकर्ता पर पथराव, भड़क गई हिंसा    ||   बैंक अकाउंट को आधार से जोड़ने की तारीख बढ़ी, जानिए क्या है नई तारीख    ||

साबुन, शैंपू में पाएं जाने वाले रसायन जन्मजात विकारों के बनते हैं कारण

अंग्वाल संवाददाता
 साबुन, शैंपू  में पाएं जाने वाले रसायन जन्मजात विकारों के बनते हैं कारण

नई दिल्ली। घरों में रोजाना की जरुरतों के कई उत्पाद रसायनिक पदार्थों से बने होते हैं। इन  उत्पादों का ज्यादा इस्तेमाल हमारी सेहत के लिए काफी हानिकारक भी साबित होता है। इसमें मौजूद रसायन  हमारे स्वास्थय पर काफी प्रभाव डालते हैं। इतना ही नहीं इससे उत्पन्न होने वाले विकार आनुवांशिक भी हो सकते हैं। इस बात का खुलासा एक शोध कार्य में हुआ है। शोध के अध्ययन में बताया गया कि कपड़े धोने वाला साबुन, शैंपू , कंडीशनर, फर्नीचर साफ करने वाले स्प्रे और आंख में ड़ालने वाली दवाई में भी क्वाटरनेरी आमोनियम कंपाउंड 'क्वाट्स' पाए जाते हैं। वैज्ञानिकों ने शोध के दौरान इस रसायन और जन्मजात विकारों के बीच संबंध एवं इसके असर का पता लगाया है। 

 

इस शोध को एडवर्ड विया कॉलेज ऑफ ऑस्टियोपौथिक मेडिसन में प्रोफेसर टेरी रूबेक ने मूल रूप से दो क्वाट्स पर अपने अध्ययन को केंद्रित किया था। यह क्वाट्स अलकाइल डिमथाइल बेनजाइल अमोनियम क्लोराइड और डिडेसाइल डिमथाइल आमोनियम क्लोराइड हैं। शोधकर्ता रूबेक का कहना है कि उत्पादों पर इन रसायनों का नाम एडीबीएसी और डीडीएसी के नाम से अंकित किया होता है। इन रसायनों को रोगाणुरोधी गुणों के कारण के लिए जाना जाता है।

आपको बता दें कि यह रसायन तंत्रिका तंत्र संबंधी जन्मजात विकार का कारण हो सकते हैं। शोधकर्तों का कहना है कि जन्मजात विकार माता-पिता दोनों या फिर किसी एक के भी इन रसायनों के इस्तेमाल करने पर हो सकते हैं।


 

दो पीढ़ियों में मिले हैं विकार

चूहों पर किए गए शोध में नतीजों के लिए चूहों को इन रसायनों की खुराक नहीं दी, लेकिन जिस जगह चूहों को रखा गया था, उनमें सिर्फ क्वाट्स का इस्तेमाल जन्मजात विकारों के लिए काफी थी। शोधकर्ता के अनुसार, रसायनों को चूहों से दूर रखने के बावजूद चूहों में दो पीढ़ियों में जन्मजात विकार देखने को मिले ।

Todays Beets: