Saturday, November 17, 2018

Breaking News

   एसबीआई ने क्लासिक कार्ड से पैसे निकालने के बदले नियम    ||   बाजार में मंगलवार को आई बहार, सेंसेक्स और निफ्टी में बढ़त     ||   हिंदूराव अस्पताल के ऑपरेशन थियेटर में निकला सांप , हंगामा     ||   सीबीआई के स्पेशल डायरेक्टर राकेश अस्थाना के आरोपों के बाद हो सकता है उनका लाइ डिटेक्टर टेस्ट    ||   देहरादून की मॉडल ने किया मुंबई में हंगामा , वाचमैन के साथ की हाथापाई , पुलिस आई तो उतार दिए कपड़े     ||   दंतेवाड़ा में नक्सली हमला, दो जवान शहीद , दुरदर्शन के कैमरामैन की भी मौत     ||   सेना हर चुनौती से न‍िपटने के ल‍िए तैयार, सर्जिकल स्ट्राइक भी व‍िकल्‍प: रणबीर सिंह    ||   BJP विधायक मानवेंद्र ने बदला पाला, राज्यवर्धन बोले- कांग्रेस ने 70 साल में मंत्री नहीं बनाया    ||   सबरीमाला मंदिर में महिलाओं के प्रवेश पर छिड़ी जंग, हिरासत में 30 प्रदर्शनकारी    ||   विवेक तिवारी हत्याकांडः HC की लखनऊ बेंच ने CBI जांच की मांग ठुकराई    ||

डाईबिटीज की दवा लेने वाली गर्भवती महिलाओं के बच्चे होते हैं मोटापे का शिकार, शोध में हुआ खुलासा

अंग्वाल न्यूज डेस्क
डाईबिटीज की दवा लेने वाली गर्भवती महिलाओं के बच्चे होते हैं मोटापे का शिकार, शोध में हुआ खुलासा

नई दिल्ली। आमतौर पर गर्भवती महिलाओं को कई तरह की जांच करवाने के साथ दवाएं लेनी पड़ती है, पर क्या आपको पता है कि डाईबिटीज की सामान्य दवा लेने वाली गर्भवती महिलाओं के नवजात शिशुओं में मोटापे का खतरा बढ़ जाता है। हाल ही में हुए एक शोष में इस बात का खुलासा हुआ है। नॉर्वे के नॉर्वेजियन यूनिवर्सिटी ऑफ साइंस एंड टेक्नोलॉजी में हुए इस शोध में विशेषज्ञों ने देखा कि ब्लड शुगर का स्तर कम करने वाली दवा मेटफॉर्मिन प्लेसेंटा (गर्भनाल) को पार कर विकसित हो रहे भ्रूण तक पहुंच जाती है। 

गौरतलब है कि प्रमुख शोधकर्ता डॉक्टर ग्युरो एनगेन हानेम ने भी शोध के नतीजों को आश्चर्यनजक बताया है। उन्होंने कहा कि इससे पहले हुए किसी अध्ययन में इस तरह के नतीजे देखने को नहीं मिले थे। शोध के दौरान विशेषज्ञों ने देखा कि गर्भावस्था के दौरान जिन महिलाओं ने मेटफॉर्मिन दवा का सेवन किया था उनके बच्चों का वजन चार साल की उम्र में 0.8 किलो अधिक था। बता दंे कि यह शोध 150 से ज्यादा गर्भवती महिलाओं पर किए गए।


ये भी पढ़ें - बीमारी की रोकथाम के लिए न लें ज्यादा एंटीबायटिक्स, जानलेवा हो सकती है

यहां बता दें कि विशेषज्ञों का मानना है कि मेटमाॅर्फिन दुनिया के अधिकांश देशों में डाईबिटीज के मरीजों को दी जाने वाली दवा है। इस क्षेत्र में पहले हुए शोध में कहा गया था कि मेटफॉर्मिन का बच्चों के चयापचय(मेटाबाॅलिज्म) पर रक्षात्मक प्रभाव होता है। मेटफॉर्मिन दवा पॉलीसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम (पीसीओएस) की शिकार महिलाओं को भी दिया जाता है। बताया जाता है कि प्रजनन काल के दौरान तकरीबन 10 फीसदी महिलाओं को यह समस्या होती है। 

Todays Beets: