Monday, April 23, 2018

Breaking News

   मायावती का पलटवार, कहा- सत्ता के अहंकार में जनता को मूर्ख समझ रही BJP; शाह के गुरू मोदी ने गिराया पार्टी का स्तर     ||   चीन के स्‍पर्म बैंक ने रखी अनोखी शर्त, सिर्फ कम्‍युनिस्‍टों का समर्थन करने वाले ही दान कर सकेंगे स्‍पर्म     ||   CBSE पेपर लीक: हिमाचल से टीचर समेत 3 गिरफ्तार, पूछताछ में हो सकता है अहम खुलासा     ||   बिहार: शराब और मुर्गे के साथ गश्त करने वाली पुलिस टीम निलंबित     ||   रेलवे की 90 हजार नौकरियों के आवेदन की आज लास्ट डेट, दो करोड़ 80 लाख कर चुके हैं अप्लाई     ||   कांग्रेस में बड़ा बदलाव: जनार्दन द्विवेदी की छुट्टी, गहलोत बने नए AICC महासचिव     ||   भारत ने चीन की तिब्बत सीमा पर भेजे और सैनिक, गश्त भी बढ़ाई     ||   अब कॉल सेंटर की नौकरियों पर नजर, अमेरिकी सांसद ने पेश किया बिल     ||   ब्लूमबर्ग मीडिया का दावा, 2019 छोड़िए 2029 तक पीएम रहेंगे नरेंद्र मोदी     ||   फेसबुक को डेटा लीक मामले से लगा तगड़ा झटका, 35 अरब डॉलर का नुकसान     ||

इनफ्लुएंजा बुखार को न करें नजरअंदाज, हो सकता है हार्ट अटैक

अंग्वाल न्यूज डेस्क
इनफ्लुएंजा बुखार को न करें नजरअंदाज, हो सकता है हार्ट अटैक

नई दिल्ली। मामूली बुखार को नजरअंदाज करना काफी भारी सकता है। यह कभी-कभी आपके लिए जानलेवा भी साबित हो सकता है। शोध में इस बात का खुलासा हुआ है कि इनफ्लुएंजा बुखार से पीड़ित लोगों में हार्टअटैक का खतरा छह गुना बढ़ जाता है। न्यू इंग्लैंड जर्नल ऑफ मेडिसन में छपे एक लेख में बताया गया कि बुजुर्गों, इनफ्लुएंजा बी संक्रमण व हृदयाघात से पीड़ित रहे मरीजों में यह खतरा और भी ज्यादा हो सकता है। बताया गया है कि बुखार आने के पहले एक सप्ताह में इसका खतरा सबसे ज्यादा रहता है। इसलिए शुरुआत में इसका टीकाकरण बहुत जरूरी है। 

व्यायाम करें और बचें हार्ट अटैक के खतरे से


शोधकर्ताओं ने वर्ष 2009 से लेकर 2014 के बीच 332 ऐसे मरीजों की पहचान की जिन्हें हार्ट अटैक के कारण अस्पताल में भर्ती होना पड़ा। सभी मरीजों की जांच से पता चला है कि वे इनफ्लुएंजा से पीड़ित थे। यहां बता दें कि इनफ्लुएंजा बुखार का वायरस हवा में खांसने, छींकने से लोगों तक पहुंचता है। गौर करने वाली बात है कि भारत में 2017 में एच1एन1 से पीड़ित 38,220 मामले सामने आए जिनमें से 2,186 लोगों की मौत हो गई थी। यह आंकड़ा वर्ष 2016 के मुकाबले काफी ज्यादा रहा। 2016 में कुल 1,786 मामले प्रकाश में आए थे जिनमें मरने वालों की सख्या 265 थी। ऐसे में जरूरत इस बात की है कि आप रोजाना व्यायाम करें और खुद को फिट रखें। 

Todays Beets: