Thursday, October 18, 2018

Breaking News

   सेना हर चुनौती से न‍िपटने के ल‍िए तैयार, सर्जिकल स्ट्राइक भी व‍िकल्‍प: रणबीर सिंह    ||   BJP विधायक मानवेंद्र ने बदला पाला, राज्यवर्धन बोले- कांग्रेस ने 70 साल में मंत्री नहीं बनाया    ||   सबरीमाला मंदिर में महिलाओं के प्रवेश पर छिड़ी जंग, हिरासत में 30 प्रदर्शनकारी    ||   विवेक तिवारी हत्याकांडः HC की लखनऊ बेंच ने CBI जांच की मांग ठुकराई    ||   केरलः अंतरराष्ट्रीय हिंदू परिषद ने सबरीमाला फैसले के खिलाफ HC में लगाई याचिका    ||   कोलकाताः HC ने दुर्गा पूजा आयोजकों को ममता के 28 करोड़ देने के फैसले पर रोक लगाई    ||    रूस के साथ S-400 एयर डिफेंस मिसाइल पर भारत की डील    ||   नार्वेः राजधानी ओस्लो में आज होगा शांति के नोबेल पुरस्कार का ऐलान    ||   अंकित सक्सेना मर्डर केसः ट्रायल के लिए अभियोगपक्ष के 2 वकीलों की नियुक्ति    ||   जम्मू कश्मीर में नेशनल कॉफ्रेंस के दो कार्यकर्ताओं की गोली मारकर हत्या, मरने वालों में एक MLA का पीए भी     ||

इनफ्लुएंजा बुखार को न करें नजरअंदाज, हो सकता है हार्ट अटैक

अंग्वाल न्यूज डेस्क
इनफ्लुएंजा बुखार को न करें नजरअंदाज, हो सकता है हार्ट अटैक

नई दिल्ली। मामूली बुखार को नजरअंदाज करना काफी भारी सकता है। यह कभी-कभी आपके लिए जानलेवा भी साबित हो सकता है। शोध में इस बात का खुलासा हुआ है कि इनफ्लुएंजा बुखार से पीड़ित लोगों में हार्टअटैक का खतरा छह गुना बढ़ जाता है। न्यू इंग्लैंड जर्नल ऑफ मेडिसन में छपे एक लेख में बताया गया कि बुजुर्गों, इनफ्लुएंजा बी संक्रमण व हृदयाघात से पीड़ित रहे मरीजों में यह खतरा और भी ज्यादा हो सकता है। बताया गया है कि बुखार आने के पहले एक सप्ताह में इसका खतरा सबसे ज्यादा रहता है। इसलिए शुरुआत में इसका टीकाकरण बहुत जरूरी है। 

व्यायाम करें और बचें हार्ट अटैक के खतरे से


शोधकर्ताओं ने वर्ष 2009 से लेकर 2014 के बीच 332 ऐसे मरीजों की पहचान की जिन्हें हार्ट अटैक के कारण अस्पताल में भर्ती होना पड़ा। सभी मरीजों की जांच से पता चला है कि वे इनफ्लुएंजा से पीड़ित थे। यहां बता दें कि इनफ्लुएंजा बुखार का वायरस हवा में खांसने, छींकने से लोगों तक पहुंचता है। गौर करने वाली बात है कि भारत में 2017 में एच1एन1 से पीड़ित 38,220 मामले सामने आए जिनमें से 2,186 लोगों की मौत हो गई थी। यह आंकड़ा वर्ष 2016 के मुकाबले काफी ज्यादा रहा। 2016 में कुल 1,786 मामले प्रकाश में आए थे जिनमें मरने वालों की सख्या 265 थी। ऐसे में जरूरत इस बात की है कि आप रोजाना व्यायाम करें और खुद को फिट रखें। 

Todays Beets: