Monday, February 19, 2018

Breaking News

   98 साल की उम्र में MA करने वाले राज कुमार का संदेश, कहा-हमेशा कोशिश करते रहें     ||   मुंबई स्टॉक एक्सचेंज ने पार किया 34000 का आंकड़ा, ऑफिस में जश्न का माहौल     ||   पं. बंगाल: मालदा से 2 लाख रुपये के फर्जी नोट बरामद, एक गिरफ्तार    ||   सेक्स रैकेट का भंड़ाभोड़: दिल्ली की लेडी डॉन सोनू पंजाबन अरेस्ट    ||   रूपाणी कैबिनेट: पाटीदारों का दबदबा, 1 महिला को भी मंत्रिमंडल में मिली जगह    ||   पशु तस्करों और पुलिस में मुठभेड़, जवाबी गोलीबारी में एक मरा, घायल गायें बरामद    ||   RTI में खुलासा- भगत सिंह-राजगुरु-सुखदेव को अब तक नहीं मिला शहीद का दर्जा, सरकारी किताब में बताया गया 'आतंकी'     ||    गुजरात चुनाव: रैली में बोले BJP नेता- दाढ़ी-टोपी वालों को कम करना पड़ेगा, डराने आया हूं ताकि वो आंख न उठा सकें    ||   मध्य प्रदेश: बाबरी विध्वंस पर जुलूस निकाल रहे विहिप-बजरंग दल कार्यकर्ता पर पथराव, भड़क गई हिंसा    ||   बैंक अकाउंट को आधार से जोड़ने की तारीख बढ़ी, जानिए क्या है नई तारीख    ||

इनफ्लुएंजा बुखार को न करें नजरअंदाज, हो सकता है हार्ट अटैक

अंग्वाल न्यूज डेस्क
इनफ्लुएंजा बुखार को न करें नजरअंदाज, हो सकता है हार्ट अटैक

नई दिल्ली। मामूली बुखार को नजरअंदाज करना काफी भारी सकता है। यह कभी-कभी आपके लिए जानलेवा भी साबित हो सकता है। शोध में इस बात का खुलासा हुआ है कि इनफ्लुएंजा बुखार से पीड़ित लोगों में हार्टअटैक का खतरा छह गुना बढ़ जाता है। न्यू इंग्लैंड जर्नल ऑफ मेडिसन में छपे एक लेख में बताया गया कि बुजुर्गों, इनफ्लुएंजा बी संक्रमण व हृदयाघात से पीड़ित रहे मरीजों में यह खतरा और भी ज्यादा हो सकता है। बताया गया है कि बुखार आने के पहले एक सप्ताह में इसका खतरा सबसे ज्यादा रहता है। इसलिए शुरुआत में इसका टीकाकरण बहुत जरूरी है। 

व्यायाम करें और बचें हार्ट अटैक के खतरे से


शोधकर्ताओं ने वर्ष 2009 से लेकर 2014 के बीच 332 ऐसे मरीजों की पहचान की जिन्हें हार्ट अटैक के कारण अस्पताल में भर्ती होना पड़ा। सभी मरीजों की जांच से पता चला है कि वे इनफ्लुएंजा से पीड़ित थे। यहां बता दें कि इनफ्लुएंजा बुखार का वायरस हवा में खांसने, छींकने से लोगों तक पहुंचता है। गौर करने वाली बात है कि भारत में 2017 में एच1एन1 से पीड़ित 38,220 मामले सामने आए जिनमें से 2,186 लोगों की मौत हो गई थी। यह आंकड़ा वर्ष 2016 के मुकाबले काफी ज्यादा रहा। 2016 में कुल 1,786 मामले प्रकाश में आए थे जिनमें मरने वालों की सख्या 265 थी। ऐसे में जरूरत इस बात की है कि आप रोजाना व्यायाम करें और खुद को फिट रखें। 

Todays Beets: