Monday, February 19, 2018

Breaking News

   98 साल की उम्र में MA करने वाले राज कुमार का संदेश, कहा-हमेशा कोशिश करते रहें     ||   मुंबई स्टॉक एक्सचेंज ने पार किया 34000 का आंकड़ा, ऑफिस में जश्न का माहौल     ||   पं. बंगाल: मालदा से 2 लाख रुपये के फर्जी नोट बरामद, एक गिरफ्तार    ||   सेक्स रैकेट का भंड़ाभोड़: दिल्ली की लेडी डॉन सोनू पंजाबन अरेस्ट    ||   रूपाणी कैबिनेट: पाटीदारों का दबदबा, 1 महिला को भी मंत्रिमंडल में मिली जगह    ||   पशु तस्करों और पुलिस में मुठभेड़, जवाबी गोलीबारी में एक मरा, घायल गायें बरामद    ||   RTI में खुलासा- भगत सिंह-राजगुरु-सुखदेव को अब तक नहीं मिला शहीद का दर्जा, सरकारी किताब में बताया गया 'आतंकी'     ||    गुजरात चुनाव: रैली में बोले BJP नेता- दाढ़ी-टोपी वालों को कम करना पड़ेगा, डराने आया हूं ताकि वो आंख न उठा सकें    ||   मध्य प्रदेश: बाबरी विध्वंस पर जुलूस निकाल रहे विहिप-बजरंग दल कार्यकर्ता पर पथराव, भड़क गई हिंसा    ||   बैंक अकाउंट को आधार से जोड़ने की तारीख बढ़ी, जानिए क्या है नई तारीख    ||

वजन कम करने और चेहरे को चमकाने के चक्कर में न लें डिटाॅक्स डाइट, हो सकता है भारी नुकसान

अंग्वाल न्यूज डेस्क
वजन कम करने और चेहरे को चमकाने के चक्कर में न लें डिटाॅक्स डाइट, हो सकता है भारी नुकसान

नई दिल्ली। अक्सर लोग अपने मोटापे को कम करने, चेहरे और बालो को चमकदार बनाने के लिए कई तरह के उपाय करते हैं। इनमें डिटाॅक्स डाइट भी शामिल है लेकिन क्या आपको पता है कि ज्यादा डिटाॅक्स करना काफी हानिकारक साबित हो सकता है। यहां बता दें कि वजन को कम करने के लिए लोग खाना छोड़कर कुछ समय तक लगातार लिक्विड डाइट लेना शुरू कर देते हैं इसे अगर सही तरीके से नहीं लिया जाए तो आपको फायदा करने की जगह नुकसान पहुंचाना शुरू कर देता है जो जानलेवा भी साबित हो सकता है। गौरतलब है कि मर्सी मेडिकल सेंटर के डॉक्टर सुजैन बेसर और नॉर्थ वेस्टर्न यूनिवर्सिटी के डॉक्टर लॉरेन का कहना है कि डिटॉक्सिंग के कई साइट इफेक्ट हैं।  डिटॉक्सिंग डाइट और खासकर कोलोनिक्स से डिहाइड्रेशन, यहां तक कि किडनी तक खराब हो सकती है। 

ये हैं डिटॉक्सिफिकेशन के कई तरीके

अधिकतर सेलिब्रिटीज फिट रहने के लिए लेमेन डिटॉक्स डाइट लेना पसंद करते हैं। 10 दिन की इस डाइट में खाने की जगह लेमन जूस, वॉटर, सेइन पीपर और मैपे सीरप लेते हैं  इससे शरीर के टॉक्सिन बाहर निकलते हैं, वजन कम होता है चेहरा और बाल चमकते हैं। 

एप्पल साइडर वेनेगर में डिटॉक्स के तरीके में 3 दिन तक केवल खाने से पहले दो चम्मच एप्पल साइडर वेनेगर को पानी में गोलकर पिया जाता है। इससे लोगों को भूख कम लगती है।  इसके अलावा कच्चा खाने वाली डिटॉक्स डाइट में केले, नट्स, बीज, सूखे मेवे नारियल एवोकेडो ऑलिव ऑयल का इस्तेमाल किया जाता है।  

ये भी पढ़ें - सुबह की जगह रात को नहाने के हैं कई फायदे, जानेंगे तो आप भी शुरू करेंगे नहाना

कोलोनिक्स

बड़ी आंत अर्थात कोलोन शरीर का एक महत्वपूर्ण अंग है। बड़ी आंत के अस्तर से निकलने वाला श्लेष्मा मल को आगे जाने के लिए चिकना बनाता है। कोलोन से टॉक्सिक पदार्थ निकालने वाले तरीकों में कॉफी एनिमा शामिल है। इससे किडनी और लीवर के टॉक्सिक बाहर निकलते हैं।


लैक्साटिव्स

इस तरीके में एक चबाई जा सकने वाली गोली खिलाई जाती है जो मल को पतला करती है और आंत की गति को बढ़ाती है।

लंबे समय तक लेने से कोई फायदा

यहां बता दें कि मर्सी मेडिकल सेंटर के डॉक्टर सुजैन का कहना है कि कब्ज की स्थिति में डॉक्टर्स कोलोनिक्स को लेने की सलाह देते हैं लेकिन अधिकतर लोग कोलोन को क्लींज करने के लिए इन डिटॉक्स तरीकों का इस्तेमाल करने लगे हैं। विशेषज्ञों का मानना है कि लंबे समय तक डिटाॅक्स डाइट लेने से कोई फायदा नहीं होता है। 

डिटॉक्सिफिकेशन हो सकती है खतरनाक

डॉक्टर सुजैन के अनुसार लैक्साटिव्स दूसरी डिटॉक्स डाइट से ज्यादा खतरनाक है। इसमें आंतों की गतिशीलता को बढ़ाया जाता है। इससे डायरिया, चक्कर आना, किडनी का खराब होना और कमजोरी जैसे दुष्परिणाम हो सकते हैं। कॉफी एनिमा की बात करें तो जिसमें गर्म कॉफी आंत में इंजेक्ट की जाती है इससे आंते खराब हो सकती है आंतों में छेद भी हो सकते हैं। 

Todays Beets: