Sunday, February 24, 2019

Breaking News

   पाकिस्तान को FATF से मिली राहत, ग्रे लिस्ट में रहेगा बरकरार     ||   आय से अधिक संपत्ति केसः हिमाचल के पूर्व CM वीरभद्र सिंह के खिलाफ आरोप तय     ||   भीमा-कोरेगांव केसः बॉम्बे HC ने आनंद तेलतुंबड़े की याचिका पर सुनवाई 27 तक टाली     ||   हिमाचल प्रदेश: किन्नौर जिले में आया भूकंप, तीव्रता 3.5     ||   PAK सेना के ISPR के डीजी ने कहा- हम युद्ध की तैयारी नहीं कर रहे, भारत धमकी दे रहा है     ||   ICC को खत लिखेगी BCCI- आतंक समर्थक देश के साथ खत्म हो क्रिकेट संबंध     ||   महाराष्ट्रः ईस्ट इंडिया कंपनी द्वारा चलाई गई शकुंतला नैरो गेज ट्रेन में लगी आग     ||   केरलः दक्षिण पश्चिम तट से अवैध तरीके से भारत में घुसते 3 लोग गिरफ्तार     ||   ताबड़तोड़ एनकाउंटर पर योगी सरकार को SC का नोटिस, CJI बोले- विस्तृत सुनवाई की जरूरत     ||   तेहरान में बोइंग 707 किर्गिज कार्गो प्लेन क्रैश, 10 क्रू मेंबर की मौत     ||

दिन में कई बार चाय पीने वाले हो जाएं सावधान, दांत और हड्डियां हो सकते हैं कमजोर

अंग्वाल न्यूज डेस्क
दिन में कई बार चाय पीने वाले हो जाएं सावधान, दांत और हड्डियां हो सकते हैं कमजोर

नई दिल्ली। अपने काम के दौरान या फिर दफ्तरों में कई बार चाय की चुस्कियां लेने वाले सावधान हो जाएं। एक दिन में कई बार चाय पीने से आपके दांत और आपकी हड्डियां कमजोर हो सकती है। हाल ही में एक चाय कंपनी द्वारा किए गए शोध में इस बात का खुलासा हुआ है टी बैग में काफी मात्रा में फ्लूरायड पाया जाता है जो दांतों और हड्डियों को नुकसान पहुंचाता है। इस शोध में यह भी कहा गया है कि फ्लूरायड की मात्रा सस्ती चाय में ज्यादा होती है जबकि उच्च गुणवत्ता वाली चाय में फ्लूरायड की मात्रा नियंत्रित रहती है। 

गौरतलब है कि अक्सर ऐसा देखा जाता है कि कई लोगों की ऐसी आदत होती है कि दफ्तर में या फिर कोई अन्य काम करने के दौरान कई बार सड़कों पर मौजूद दुकानों से चाय पीते हैं। इन लोगों को अब सावधान हो जाना चाहिए क्योंकि ऐसा करने से उन्हें फ्लूरोसिस नाम की बीमारी हो सकती है। इस बीमारी में इंसान के दांत और हड्डियां कमजोर हो जाती हैं। विशेषज्ञों का कहना है कि टी बैग में अधिक मात्रा में फ्लूरॉयड होता है, जो दांतों और हड्डियों के लिए हानिकारक हो सकता है।

ये भी पढ़ें - पान मुंह के जायके को बदलने के साथ कई बीमारियों में भी देता है राहत 


अध्ययन में विशेषज्ञों ने कहा कि सस्ती चाय एक साल पुरानी पत्तियों से बनाई जाती है, जिसके कारण इसमें मिनरल अधिक मात्रा में होते हैं। इस शोध में कहा गया है कि अधिक मात्रा में फ्लूरॉयड के शरीर में पहुंचने से स्केलेटल फ्लूरोसिस की आशंका रहती है। इसमें जोड़ों में कैल्शियम जमने लगता है वे अकड़ जाते हैं। विश्व स्वास्थ्य संगठन ने भी प्रतिदिन छह मिलीग्राम से अधिक मात्रा में फ्लूरॉयड शरीर में पहुंचने पर स्केलेटल फ्लूरोसिस होने की आशंका जताई है। इस हिसाब से देखा जाए तो एक दिन में चार कप से अधिक चाय पीना सेहत के लिए खतरनाक हो सकता है।

 

 

Todays Beets: