Tuesday, June 19, 2018

Breaking News

   उत्तर भारत में धूल: चंडीगढ़ में सुबह 11 बजे अंधेरा छाया, 26 उड़ानें रद्द; दिल्ली में भी धूल कायम     ||   टेस्ट में भारत की सबसे बड़ी जीत: अफगानिस्तान को एक दिन में 2 बार ऑलआउट किया, डेब्यू टेस्ट 2 दिन में खत्म     ||   पेशावर स्कूल हमले का मास्टरमाइंड और मलाला पर गोली चलवाने वाला आतंकी फजलुल्लाह मारा गया: रिपोर्ट     ||   कानपुर जहरीली शराब मामले में 5अधिकारी निलंबित     ||   अब जल्द ही बिना नेटवर्क भी कर सकेंगे कॉल, बस Wi-Fi की होगी जरुरत     ||   मौलाना मदनी ने भी की एएमयू से जिन्‍ना की तस्‍वीर हटाने की वकालत     ||   भारत-चीन सेना के बीच हॉटलाइन की तैयारी, LoC पर तनाव होगा दूर     ||   कसौली में धारा 144 लागू, आरोपित पुलिस की गिरफ्त से बाहर     ||   स्कूली बच्चों पर पत्थरबाजी से भड़के उमर अब्दुल्ला, कहा- ये गुंडों जैसी हरकत     ||   थर्ड फ्रंट: ममता, कनिमोझी....और अब केसीआर की एसपी चीफ अखिलेश यादव के साथ बैठक     ||

दिन में कई बार चाय पीने वाले हो जाएं सावधान, दांत और हड्डियां हो सकते हैं कमजोर

अंग्वाल न्यूज डेस्क
दिन में कई बार चाय पीने वाले हो जाएं सावधान, दांत और हड्डियां हो सकते हैं कमजोर

नई दिल्ली। अपने काम के दौरान या फिर दफ्तरों में कई बार चाय की चुस्कियां लेने वाले सावधान हो जाएं। एक दिन में कई बार चाय पीने से आपके दांत और आपकी हड्डियां कमजोर हो सकती है। हाल ही में एक चाय कंपनी द्वारा किए गए शोध में इस बात का खुलासा हुआ है टी बैग में काफी मात्रा में फ्लूरायड पाया जाता है जो दांतों और हड्डियों को नुकसान पहुंचाता है। इस शोध में यह भी कहा गया है कि फ्लूरायड की मात्रा सस्ती चाय में ज्यादा होती है जबकि उच्च गुणवत्ता वाली चाय में फ्लूरायड की मात्रा नियंत्रित रहती है। 

गौरतलब है कि अक्सर ऐसा देखा जाता है कि कई लोगों की ऐसी आदत होती है कि दफ्तर में या फिर कोई अन्य काम करने के दौरान कई बार सड़कों पर मौजूद दुकानों से चाय पीते हैं। इन लोगों को अब सावधान हो जाना चाहिए क्योंकि ऐसा करने से उन्हें फ्लूरोसिस नाम की बीमारी हो सकती है। इस बीमारी में इंसान के दांत और हड्डियां कमजोर हो जाती हैं। विशेषज्ञों का कहना है कि टी बैग में अधिक मात्रा में फ्लूरॉयड होता है, जो दांतों और हड्डियों के लिए हानिकारक हो सकता है।

ये भी पढ़ें - पान मुंह के जायके को बदलने के साथ कई बीमारियों में भी देता है राहत 


अध्ययन में विशेषज्ञों ने कहा कि सस्ती चाय एक साल पुरानी पत्तियों से बनाई जाती है, जिसके कारण इसमें मिनरल अधिक मात्रा में होते हैं। इस शोध में कहा गया है कि अधिक मात्रा में फ्लूरॉयड के शरीर में पहुंचने से स्केलेटल फ्लूरोसिस की आशंका रहती है। इसमें जोड़ों में कैल्शियम जमने लगता है वे अकड़ जाते हैं। विश्व स्वास्थ्य संगठन ने भी प्रतिदिन छह मिलीग्राम से अधिक मात्रा में फ्लूरॉयड शरीर में पहुंचने पर स्केलेटल फ्लूरोसिस होने की आशंका जताई है। इस हिसाब से देखा जाए तो एक दिन में चार कप से अधिक चाय पीना सेहत के लिए खतरनाक हो सकता है।

 

 

Todays Beets: