Saturday, April 21, 2018

Breaking News

   मायावती का पलटवार, कहा- सत्ता के अहंकार में जनता को मूर्ख समझ रही BJP; शाह के गुरू मोदी ने गिराया पार्टी का स्तर     ||   चीन के स्‍पर्म बैंक ने रखी अनोखी शर्त, सिर्फ कम्‍युनिस्‍टों का समर्थन करने वाले ही दान कर सकेंगे स्‍पर्म     ||   CBSE पेपर लीक: हिमाचल से टीचर समेत 3 गिरफ्तार, पूछताछ में हो सकता है अहम खुलासा     ||   बिहार: शराब और मुर्गे के साथ गश्त करने वाली पुलिस टीम निलंबित     ||   रेलवे की 90 हजार नौकरियों के आवेदन की आज लास्ट डेट, दो करोड़ 80 लाख कर चुके हैं अप्लाई     ||   कांग्रेस में बड़ा बदलाव: जनार्दन द्विवेदी की छुट्टी, गहलोत बने नए AICC महासचिव     ||   भारत ने चीन की तिब्बत सीमा पर भेजे और सैनिक, गश्त भी बढ़ाई     ||   अब कॉल सेंटर की नौकरियों पर नजर, अमेरिकी सांसद ने पेश किया बिल     ||   ब्लूमबर्ग मीडिया का दावा, 2019 छोड़िए 2029 तक पीएम रहेंगे नरेंद्र मोदी     ||   फेसबुक को डेटा लीक मामले से लगा तगड़ा झटका, 35 अरब डॉलर का नुकसान     ||

दिन में कई बार चाय पीने वाले हो जाएं सावधान, दांत और हड्डियां हो सकते हैं कमजोर

अंग्वाल न्यूज डेस्क
दिन में कई बार चाय पीने वाले हो जाएं सावधान, दांत और हड्डियां हो सकते हैं कमजोर

नई दिल्ली। अपने काम के दौरान या फिर दफ्तरों में कई बार चाय की चुस्कियां लेने वाले सावधान हो जाएं। एक दिन में कई बार चाय पीने से आपके दांत और आपकी हड्डियां कमजोर हो सकती है। हाल ही में एक चाय कंपनी द्वारा किए गए शोध में इस बात का खुलासा हुआ है टी बैग में काफी मात्रा में फ्लूरायड पाया जाता है जो दांतों और हड्डियों को नुकसान पहुंचाता है। इस शोध में यह भी कहा गया है कि फ्लूरायड की मात्रा सस्ती चाय में ज्यादा होती है जबकि उच्च गुणवत्ता वाली चाय में फ्लूरायड की मात्रा नियंत्रित रहती है। 

गौरतलब है कि अक्सर ऐसा देखा जाता है कि कई लोगों की ऐसी आदत होती है कि दफ्तर में या फिर कोई अन्य काम करने के दौरान कई बार सड़कों पर मौजूद दुकानों से चाय पीते हैं। इन लोगों को अब सावधान हो जाना चाहिए क्योंकि ऐसा करने से उन्हें फ्लूरोसिस नाम की बीमारी हो सकती है। इस बीमारी में इंसान के दांत और हड्डियां कमजोर हो जाती हैं। विशेषज्ञों का कहना है कि टी बैग में अधिक मात्रा में फ्लूरॉयड होता है, जो दांतों और हड्डियों के लिए हानिकारक हो सकता है।

ये भी पढ़ें - पान मुंह के जायके को बदलने के साथ कई बीमारियों में भी देता है राहत 


अध्ययन में विशेषज्ञों ने कहा कि सस्ती चाय एक साल पुरानी पत्तियों से बनाई जाती है, जिसके कारण इसमें मिनरल अधिक मात्रा में होते हैं। इस शोध में कहा गया है कि अधिक मात्रा में फ्लूरॉयड के शरीर में पहुंचने से स्केलेटल फ्लूरोसिस की आशंका रहती है। इसमें जोड़ों में कैल्शियम जमने लगता है वे अकड़ जाते हैं। विश्व स्वास्थ्य संगठन ने भी प्रतिदिन छह मिलीग्राम से अधिक मात्रा में फ्लूरॉयड शरीर में पहुंचने पर स्केलेटल फ्लूरोसिस होने की आशंका जताई है। इस हिसाब से देखा जाए तो एक दिन में चार कप से अधिक चाय पीना सेहत के लिए खतरनाक हो सकता है।

 

 

Todays Beets: