Wednesday, January 17, 2018

Breaking News

   98 साल की उम्र में MA करने वाले राज कुमार का संदेश, कहा-हमेशा कोशिश करते रहें     ||   मुंबई स्टॉक एक्सचेंज ने पार किया 34000 का आंकड़ा, ऑफिस में जश्न का माहौल     ||   पं. बंगाल: मालदा से 2 लाख रुपये के फर्जी नोट बरामद, एक गिरफ्तार    ||   सेक्स रैकेट का भंड़ाभोड़: दिल्ली की लेडी डॉन सोनू पंजाबन अरेस्ट    ||   रूपाणी कैबिनेट: पाटीदारों का दबदबा, 1 महिला को भी मंत्रिमंडल में मिली जगह    ||   पशु तस्करों और पुलिस में मुठभेड़, जवाबी गोलीबारी में एक मरा, घायल गायें बरामद    ||   RTI में खुलासा- भगत सिंह-राजगुरु-सुखदेव को अब तक नहीं मिला शहीद का दर्जा, सरकारी किताब में बताया गया 'आतंकी'     ||    गुजरात चुनाव: रैली में बोले BJP नेता- दाढ़ी-टोपी वालों को कम करना पड़ेगा, डराने आया हूं ताकि वो आंख न उठा सकें    ||   मध्य प्रदेश: बाबरी विध्वंस पर जुलूस निकाल रहे विहिप-बजरंग दल कार्यकर्ता पर पथराव, भड़क गई हिंसा    ||   बैंक अकाउंट को आधार से जोड़ने की तारीख बढ़ी, जानिए क्या है नई तारीख    ||

अगर आप 7 से 8 घंटे की नींद लेने के बाद भी तरोताजा महसूस नहीं करते तो ये हो सकते हैं कारण

अंग्वाल न्यूज डेस्क
अगर आप 7 से 8 घंटे की नींद लेने के बाद भी तरोताजा महसूस नहीं करते तो ये हो सकते हैं कारण

नई दिल्ली।  ये बात तो हम सबने सुनी है कि एक इंसान को हर रोज 7 से 8 घंटे की नींद लेनी चाहिए। ऐसा करने से आप एक स्वस्थ शरीर और तेज दिमाग पा सकते हैं। अगर आप 7 से 8 घंटे नींद लेने के बाद भी खुद को तरोताजा महसूस नहीं करते हैं तो इसके पीछे बड़ी वजहें हो सकती हैं। ऑस्ट्रेलिया के स्लीप एक्सपर्ट डॉक्टर कार्मेल के अनुसार यह समस्या उन लोगों में ज्यादा आती है जिनकी नींद का सही रुटीन नहीं होता है।

 

अगर आप सही समय पर नहीं सोते हैं और सही समय पर नहीं उठते हैं तो आपको परेशानी शुरू होने के साथ आपकी भूख भी कम हो जाती है। अपने आपको तरोताजा महसूस करने के लिए ये बेहद जरूरी है कि आप एक निश्चित समय रोज ही सोएं और जागें। स्लीप एक्सपर्ट के अनुसार रात को सोने और सुबह उठने दोनों ही समय बहुत महत्वपूर्ण हैं क्योंकि इनसे ही तय होता है कि किसी इंसान को कितनी नींद मिलती है।


 

विशेषज्ञों का मानना है कि इंसानों की नींद को काफी हद तक मोबाइल फोन भी प्रभावित करते हैं। ऐसे में सोने से पहले मोबाइल को स्वीच आॅफ कर देना चाहिए।  ऑस्ट्रेलिया में कराए गए सेली स्लीप सर्वे में पाया गया कि 70 फीसदी लोग मानते हैं कि उनकी कम नींद का असर उनके रोज के काम पर पड़ता है। स्लीप एक्सपर्ट डॉक्टर कार्मेल के अनुसार यूनिवर्सिटी में पढ़ने वाले और काम करने वाले  18 से 25 साल के लोगों को रात में 7-9 घंटे की नींद लेनी चाहिए। 26-60 साल की महिलाओं को करीब  7-9 घंटे की नींद लेनी चाहिए। वहीं 60 साल से ज्यादा उम्र की महिलाओं को 7-8 घंटे सोना चाहिए। 

Todays Beets: