Wednesday, September 20, 2017

Breaking News

   जम्मू कश्मीर के नौगाम में लश्कर कमांडर अबू इस्माइल के साथ मुठभेड़,     ||   राम रहीम मामले पर गौतम का गंभीर प्रहार, कहा- धार्मिक मार्केटिंग का यह एक क्लासिक उदाहरण    ||   ट्राई ने ओवरचार्जिंग के लिए आइडिया पर लगाया 2.9 करोड़ का जुर्माना    ||   मदरसों का 15 अगस्त को ही वीडियोग्राफी क्यों? याचिका दायर, सुनवाई अगले सप्ताह    ||   पंचकूला से लंदन तक दिखा राम-रहीम विवाद का असर, ब्रिटेन ने जारी की एडवाइजरी    ||   PAK कोर्ट ने हिंदू लड़की को मुस्लिम पति के साथ रहने की मंजूरी दी    ||   बिहार आए पीएम मोदी, बाढ़ से हुई तबाही की गहन समीक्षा की    ||   जेल में ही वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए राम रहीम को सुनाई जाएगी सजा    ||   मच्छल में घुसपैठ नाकाम, पांच आतंकी ढेर, भारी मात्रा में गोलाबारूद बरामद    ||   जापान के बाद अब अमेरिका के साथ युद्धाभ्यास की तैयारी में भारत    ||

आपकी थाली में नहीं रही अब पहले जैसी ताकत, फल-सब्जियों में घटे पोषक तत्व - नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ न्यूट्रिशन

अंग्वाल न्यूज डेस्क
आपकी थाली में नहीं रही अब पहले जैसी ताकत, फल-सब्जियों में घटे पोषक तत्व - नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ न्यूट्रिशन

नई दिल्ली । अमूमन ऐसा माना जाता है कि भारतीय अनाज काफी ताकतवर होता है। इसमें सभी प्रकार को प्रोटीन, कार्बोहाइट्रेट्स,आयरन, मैग्नीशियम, विटामिन, जिंक जैसे पोषक तत्वों की भरपूर मात्रा होती है, जो स्वस्थ शरीर के लिए पर्याप्त मात्रा में चाहिए होते हैं। लेकिन नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ न्यूट्रिशन ने एक शोध करके दावा किया है कि अब हमारी थाली में वो ताकत नहीं रह गई है जो आज से 30 साल पहले हुआ करती थी। उन्होंने इसका कारण हमारी मिट्टी में ही पोषक तत्वों की कमी को बताया है, जिसके चलते हमारी सब्जियों, दाल, सब्जी और फल में भी कार्बोहाइड्रेट और प्रोटीन में कमी आई है। 

ये भी पढ़ें- मानसून में फ्लू और कोल्ड जैसी बीमारियों पर काबू पाने में सहायता करेगा नींबू

घरेलू भोजन को ही ज्यादा पोषक बताने वालों के लिए यह शोध काफी चौंकाने वाला साबित हुआ है। इंस्टीट्यूट ने अपने शोध में 528 खाद्य पदार्थों में मौजूद 151 पोषक तत्वों की जांच की। इसके लिए 6 अलग-अलग जगहों से खाद्य पदार्थों के सैंपल लिए गए, ताकि अलग-अलग जगहों की मिट्टी में उगे खाद्य सामाग्री की जांच की जा सके। इस दौरान सामने आया कि हमारे अनाज, फल-सब्जी, दालों में पाए जाने वाले पोषक तत्वों में कमी आई है। शोधकर्ताओं ने इस दौरान सामने आए आंकड़ों की तुलना आज से 30 साल पहले के शोध के आंकड़ों से की तो काफी चौंकाने वाले तथ्य सामने आए। 

ये भी पढ़ें- केवल स्वाद ही नहीं बढ़ाता, बल्कि शरीर को स्वस्थ भी रखता है काला नमक


पता चला कि आज हमारे द्वारा खाया जा रहा अनाज 30 साल पहले की तुलना में काफी कम ताकतवर रह गया है। सामने आया कि पूर्व की तुलना में आज के खाद्य पदार्थों में पोषक तत्व काफी घट गए हैं। शोध में खुलासा हुआ कि आज हम जो मसूर की दाल खा रहे हैं उसमें पहले की तुलना में 10 फीसदी तक पोषक तत्व कम हो गए हैं। वहीं मूंग की दाल में 6.12 फीसदी आयरन की कमी आई है। 

ये भी पढ़ें- मानसून में फ्लू से रहते हैं परेशान तो अपनाएं इन नुस्खों को..,

इसी क्रम में इन दिनों खाए जाने वाले सेब भी बस कहने के लिए ही आयरन से भरपूर बताए जा रहे हैं, जबकि पिछले 30 सालों की तुलना में इन सेबों में 60 फीसदी तक आयरन घट गया है, जो कि एक चिंता का विषय है। अगर बात टमाटर की करें तो अब टमाटरों में भी पहली जैसी बात नहीं रही। खुलासा हुआ है कि इन दिनों मिल रहे टमाटरों में 66 से 73 फीसदी तक विटामिन बी, आयरन और जिंक की मात्रा कम हो गई है। 

ये भी पढ़ें- बढ़ानी है अगर एकाग्रता तो सुधारें अपनी सोने की आदतों को..,

शोध में सामने आया कि हमारी मिट्टी में ही पोषक तत्वों की आने के चलते हमारे अनाज, फल-सब्जियों में पोषक तत्वों की कमी आई है। सामने आया कि हमारी मिट्टी में भी कॉपर 5.4 फीसदी, बोरान 18.3 फीसदी, आयरन 12.1 फीसदी, जिंक 43 फीसदी और मैग्नीशियम 5.6 फीसदी कम हुआ है।

Todays Beets: