Tuesday, November 21, 2017

Breaking News

   मैदान पर विराट के आक्रामक रवैये पर राहुल द्रविड़ को सताई चिंता     ||   अजहर को अंतर्राष्ट्रीय आतंकी घोषित नहीं करेगा चीन, प्रस्ताव पर रोक लगाने के संकेत     ||   दुनिया की सबसे लंबी सुरंग बनाकर चीन अब ब्रह्मपुुत्र नदी का पानी रोकने का बना रहा है प्लान     ||   पीएम मोदी को शीला दीक्षित ने दिया जवाब- हमने नहीं भुलाया पटेल का योगदान    ||   पटना पहुंचे मोहन भागवत, यज्ञ में भाग लेने जाएंगे आरा, नीतीश भी जाएंगे    ||   अखिलेश को आया चाचा शिवपाल का फोन, कहा- आप अध्यक्ष हैं आपको बधाई    ||   अमेरिका में सभी श्रेणियों में H-1B वीजा के लिए आवश्यक कार्रवाई बहाल    ||   रोहिंग्या पर किया वीडियो पोस्ट, म्यांमार की ब्यूटी क्वीन का ताज छिना    ||   अब गेस्ट टीचरों को लेकर CM केजरीवाल और LG में ठनी    ||   केरल में अमित शाह के बाद योगी की पदयात्रा, राजनीतिक हत्याओं पर लेफ्ट को घेरने की रणनीति    ||

गैजेट नहीं, आपका अपने बच्चे के साथ गुजारा गया कुछ समय आपके लाड़ले को बनाएगा होशियार

अंग्वाल संवाददाता
गैजेट नहीं, आपका अपने बच्चे के साथ गुजारा गया कुछ समय आपके लाड़ले को बनाएगा होशियार

एक पिता का अपने बच्चों से रिश्ता, दुनिया के सबसे अनमोल रिश्तों में से एक होता है। हर पिता अपने बच्चे को दिलों जान से प्यार करता है। हर एक की ख्वाहिश होती है कि उसके बच्चे उससे भी ज्यादा सफल हों, उसका नाम रोशन करें। लेकिन क्या आप जानते हैं कि एक बच्चे को उसके पिता द्वारा समय देना, जहां उनका फर्ज होता है, वहीं बच्चे के संपूर्ण विकास के लिए भी काफी जरूरी होता है। अगर आप भी उन पिताओं की श्रेणी में आते हैं जो अपने बच्चों को बुद्धिमान बनाने के लिए उसके नन्हें हाथों में गैजेट पकड़ा देते हैं तो हमारी इस खबर को गौर से पढ़ें। आपका बच्चे को गैजेट देना भले ही उसे होशियार न बनाए लेकिन आपके उसके साथ गुजारे गए कुछ पल उसे जरूरी होशियार बनाएंगे। एक शोध में सामने आया है कि आपके द्वारा अपने बच्चे के साथ बिताया गया समय उस बच्चे के मस्तिष्क पर काफी सकारात्मक प्रभाव डालता है, जो उसके संपूर्ण विकास के लिए काफी मददगार होता है।

बता दें कि इम्पीरियल कॉलेज ऑफ लंदन के शोधकर्ताओं ने एक अध्ययन में पाया है कि अगर पिता अपने छोटे च्चों के साथ अच्छा समय व्यतीत करते हैं, तो इसका सकरात्मक प्रभाव उसकी बुद्धिमत्ता पर पड़ता है। अध्ययन में यह बात भी सामने आई है कि शांत, संवेदनशील, हसमुख और कम चिंता करने वाले लोगों के बच्चे की बुद्धिमता अन्य बच्चों की तुलना में अच्छी होती हैं। बच्चों के साथ घुलने-मिलने से बच्चों की क्षमताओं को उभारने व निखारने में मदद मिलती है।


इस शोध के मुताबिक, एक प्रोफेसर का कहना है कि एक पिता को अपने बच्चे के साथ अच्छा वक्त व्यतीत करना चाहिए, फिर वह चाहे छोटा हो या बड़ा। इस अध्ययन के लिए शोधकर्ताओं ने 128 पिताओं और उनके बच्चों पर शोध किया। उन्होंने तीन महीने तक के बच्चों के साथ उनके पिता के खेलते के कई वीडियो बनाए। इसके दो साल बाद बच्चों के ‘मेंटल डेवेलपमेंट इंडेक्स’ का टेस्ट लिया, जैसे कि रंगों या आकारों को पहचानना आदि। शोध में पाया गया कि वह बच्चे अन्य बच्चों की तुलना में अधिक बुद्धिमान और समझदार हैं, जिनके साथ उनके पिता ने खेल खेले थे। तो देर किस बात की है, अगर आप अपने बच्चों को अपना समय नहीं दे पा रहे हैं तो उससे होने वाले नुकसान से आप वाकिफ हो ही गए होंगे। उनके सुनहरे भविष्य के लिए आपको देना होगा अपना कुछ समय। तो बच्चों को

Todays Beets: