Sunday, January 21, 2018

Breaking News

   98 साल की उम्र में MA करने वाले राज कुमार का संदेश, कहा-हमेशा कोशिश करते रहें     ||   मुंबई स्टॉक एक्सचेंज ने पार किया 34000 का आंकड़ा, ऑफिस में जश्न का माहौल     ||   पं. बंगाल: मालदा से 2 लाख रुपये के फर्जी नोट बरामद, एक गिरफ्तार    ||   सेक्स रैकेट का भंड़ाभोड़: दिल्ली की लेडी डॉन सोनू पंजाबन अरेस्ट    ||   रूपाणी कैबिनेट: पाटीदारों का दबदबा, 1 महिला को भी मंत्रिमंडल में मिली जगह    ||   पशु तस्करों और पुलिस में मुठभेड़, जवाबी गोलीबारी में एक मरा, घायल गायें बरामद    ||   RTI में खुलासा- भगत सिंह-राजगुरु-सुखदेव को अब तक नहीं मिला शहीद का दर्जा, सरकारी किताब में बताया गया 'आतंकी'     ||    गुजरात चुनाव: रैली में बोले BJP नेता- दाढ़ी-टोपी वालों को कम करना पड़ेगा, डराने आया हूं ताकि वो आंख न उठा सकें    ||   मध्य प्रदेश: बाबरी विध्वंस पर जुलूस निकाल रहे विहिप-बजरंग दल कार्यकर्ता पर पथराव, भड़क गई हिंसा    ||   बैंक अकाउंट को आधार से जोड़ने की तारीख बढ़ी, जानिए क्या है नई तारीख    ||

चिली को मात देकर पहली बार जर्मनी ने FIFA कॉन्फेडरेशन कप को जीता

अंग्वाल संवाददाता
चिली को मात देकर पहली बार जर्मनी ने FIFA कॉन्फेडरेशन कप को जीता

जर्मनी ने रविवार को रूस के सेंट पीटर्सबर्ग में खेले गए कॉन्फेडरेशन कप के फाइनल मुकाबले में चिली को 1-0 के अंतर से मात देकर पहली बार कॉन्फेडरेशन कप अपने नाम किया। मुकाबले के दौरान सबसे खास बात यह रही कि जर्मनी टीम के फुटबॉलर लार्स स्टिंडल ने पहले हाफ में यह गोल किया। चिली की टीम के मिडफीस्डर मार्सेलो डियाज की गलती का खामियाजा टीम को भारी पड़ी। डियाज ने अपने ही गोल के पास गलती करते हुए गेंद लार्स स्टिंडल को थमा दी, जिसके बाद उन्होंने चिली पर 20वें मिनट में ही गोल दाग दिया। हालांकि चिली फुटबॉल टीम अपने चिरपरिचित अंदाज में जर्मन की टीम पर आक्रमण करती रही, लेकिन मैच में वापसी नहीं कर सकी। 

यह भी पढ़े -  मोदी की चाय की दुकान बनेगी टूरिस्ट प्लेस, वडनगर स्टेशन को किया जाएगा पर्यटन स्थल के रूप में विकसित

आपको बता दें कि जर्मनी ने अब तक चार बार विश्वकप (1954, 1974, 1990, 2014) और तीन बार यूएफा कप (1972, 1980, 1996 ) खिताब जीता है, लेकिन जर्मीनी की कॉन्फेडेरेशन कप जीतने की इच्छा रविवार को पूराी हुई। 


यह भी पढ़ेदो हफ्ते में बताए महाराष्ट्र सरकार, संजय दत्त को क्यों जेल से जल्दी रिहा किया - हाईकोर्ट

मैच के बाद टूर्नामेंट का मैन ऑप दा मैच चुने जाने पर 'गोल्डन बॉल' हासिल करने वाले जर्मन कप्तान जूलियन ड्रैक्सलर ने कहा, 'अविश्वसनीय. हमने अच्छी तरह मुकाबला किया और इस जीत के हकदार थे। हम इस टूर्नामेंट से पहले साथ में नहीं खेले थे जिससे यह जीत और महत्वपूर्ण बन जाती है।'

वहीं टूर्नामेंट के सर्वश्रेष्ठ गोलकीपर चुने गए चिली के कप्तान क्लाउडियो ब्रावो ने खिताब के करीब आने के बाद भी इससे चूक जाने पर कहा, 'दोनों टीमों में बेहद कम अंतर था। हमें दुख है कि हम जीत नहीं पाए लेकिन हम एक विश्वस्तरीय टीम के खिलाफ खेले। हमें अपनी गलतियों से सबक लेना होगा। 

Todays Beets: