Friday, December 15, 2017

Breaking News

   पशु तस्करों और पुलिस में मुठभेड़, जवाबी गोलीबारी में एक मरा, घायल गायें बरामद    ||   RTI में खुलासा- भगत सिंह-राजगुरु-सुखदेव को अब तक नहीं मिला शहीद का दर्जा, सरकारी किताब में बताया गया 'आतंकी'     ||    गुजरात चुनाव: रैली में बोले BJP नेता- दाढ़ी-टोपी वालों को कम करना पड़ेगा, डराने आया हूं ताकि वो आंख न उठा सकें    ||   मध्य प्रदेश: बाबरी विध्वंस पर जुलूस निकाल रहे विहिप-बजरंग दल कार्यकर्ता पर पथराव, भड़क गई हिंसा    ||   बैंक अकाउंट को आधार से जोड़ने की तारीख बढ़ी, जानिए क्या है नई तारीख    ||   पशु तस्करों और पुलिस में मुठभेड़, जवाबी गोलीबारी में एक मरा, घायल गायें बरामद     ||   अश्विन ने लगाया विकेटों का सबसे तेज 'तिहरा शतक', लिली को छोड़ा पीछे     ||   पूरा हुआ सपना चौधरी का 'सपना', बेघर होने के साथ बॉलीवुड से मिला बड़ा ऑफर    ||   PAK सरकार ने शर्तें मानीं, प्रदर्शन खत्म करने कानून मंत्री को देना पड़ा इस्तीफा    ||   मैदान पर विराट के आक्रामक रवैये पर राहुल द्रविड़ को सताई चिंता     ||

फर्जी शिक्षक भर्ती मामले में संलिप्त अधिकारी भी नपेंगे, एसआईटी ने शासन से मांगी अनुमति

अंग्वाल न्यूज डेस्क
फर्जी शिक्षक भर्ती मामले में संलिप्त अधिकारी भी नपेंगे, एसआईटी ने शासन से मांगी अनुमति

देहरादून। राज्य के सरकारी और अनुदान वाले अशासकीय स्कूलों में शिक्षकों की फर्जी नियुक्ति करने व अनुदान देने वाले अधिकारियों पर कार्रवाई होगी। फर्जी शिक्षकों की जांच कर रही एसआईटी ने ऐसे अधिकारियों की लिस्ट तैयार कर शासन से कड़ी कार्रवाई की अनुमति मांगी है। एसआईटी की इस कार्रवाई से शिक्षकों की नियुक्ति और अनुदान देनो वाले अफसरों में हड़कंप मचा हुआ है।

अधिकारियों में हड़कंप

गौरतलब है कि राज्य में सरकारी और अशासकीय स्कूलों में शिक्षकों की भर्ती में बड़े पैमाने पर फर्जीवाड़ा हुआ था। फर्जी दस्तावेजों के आधार पर नौकरी पाने वाले शिक्षकों की जांच अब एसआईटी कर रही है। हरिद्वार और दून में ऐसे शिक्षकों के खिलाफ दो मुकदमे भी दर्ज हो गए हैं लेकिन शिक्षकों को नियुक्ति देने तथा स्कूलों को अनुदान देने वाले अफसर इस कार्रवाई से बचते फिर रहे हैं। 

ये भी पढ़ें - आज से तीन दिनों तक सरकारी कामकाज रहेंगे ठप, राज्य कर्मचारियों ने किया कार्य बहिष्कार का ऐलान

विभागीय जांच


आपको बता दें कि एसआईटी अब शिक्षकों की नियुक्ति मामले में संलिप्त अफसरों की जिम्मेदारी तय करने जा रही है। इसके लिए शासन से जिम्मेदार अफसरों के खिलाफ भी मुकदमा दर्ज करने या विभागीय जांच की कार्रवाई करने की अनुमति मांगी है। शासन को लिखे पत्र में एसआईटी ने कहा है कि शिक्षकों की नियुक्ति के दौरान अफसरों ने प्रमाणपत्रों की जांच करते हुए डिग्रियों में अंतर कैसे नहीं देखा? दस्तावेजों के अलावा अन्य कई मानक भी शिक्षक पूरा नहीं करते हैं। एसआइटी की इस कार्रवाई से नियुक्ति व अनुदान जारी करने वाले अफसरों में हड़कंप मचा हुआ है। 

शासन से अनुमति के बाद होगी कार्रवाई

यहां गौर करने वाली बात है कि एएसपी एवं एसआईटी प्रभारी श्वेता चौबे ने कहा है कि अनुदान जारी करने तथा नियुक्ति देने वाले अफसरों की पूरे प्रकरण में मिलीभगत की जांच जरूरी है। उनका कहना है कि शाासन को इसके लिए पत्र लिखा गया है वहां से अनुमति मिलने के बाद ही इन अधिकारियों के खिलाफ जांच एवं मुकदमे की कार्रवाई की जाएगी। 

Todays Beets: