Wednesday, October 17, 2018

Breaking News

   विवेक तिवारी हत्याकांडः HC की लखनऊ बेंच ने CBI जांच की मांग ठुकराई    ||   केरलः अंतरराष्ट्रीय हिंदू परिषद ने सबरीमाला फैसले के खिलाफ HC में लगाई याचिका    ||   कोलकाताः HC ने दुर्गा पूजा आयोजकों को ममता के 28 करोड़ देने के फैसले पर रोक लगाई    ||    रूस के साथ S-400 एयर डिफेंस मिसाइल पर भारत की डील    ||   नार्वेः राजधानी ओस्लो में आज होगा शांति के नोबेल पुरस्कार का ऐलान    ||   अंकित सक्सेना मर्डर केसः ट्रायल के लिए अभियोगपक्ष के 2 वकीलों की नियुक्ति    ||   जम्मू कश्मीर में नेशनल कॉफ्रेंस के दो कार्यकर्ताओं की गोली मारकर हत्या, मरने वालों में एक MLA का पीए भी     ||   सुप्रीम कोर्ट ने कठुआ मामले में सीबीआई जांच की अर्जी को खारिज किया    ||   मध्यप्रदेश सरकार ने पांच नए सूचना आयुक्त चुने, राज्यपाल को भेजी सिफारिश     ||   बिहार: ASI संग शराब बेच रहा था थानेदार, अरेस्ट     ||

राज्य को पाॅलीथिन से मुक्त करने के वादे खोखले, टास्क फोर्स का कोई अता-पता नहीं

अंग्वाल न्यूज डेस्क
राज्य को पाॅलीथिन से मुक्त करने के वादे खोखले, टास्क फोर्स का कोई अता-पता नहीं

देहरादून। राज्य के मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत 1 अगस्त से राज्य को पूरी तरह से पाॅलीथिन से मुक्त करने की घोषणा कर चुके हैं लेकिन हकीकत में कोई काम होता नजर नहीं आ रहा है। ऐसे में अंदेशा जताया जा रहा है कि प्रदेश में पॉलीथिन पर प्रबंध लगाने की बात सिर्फ कागजों तक ही सिमट कर रह जाएगी। 

गौरतलब है कि 5 जून को विश्व पर्यावरण दिवस पर मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने प्रदेश को पॉलीथिन मुक्त बनाने की घोषणा की थी। उन्होंने कहा था कि 31 जुलाई से एक सप्ताह पहले पॉलीथिन पर प्रतिबंध को लेकर जागरूकता अभियान चलाया जाएगा। उन्होंने मुहिम को प्रभावी रूप से चलाने के लिए टास्क फोर्स के गठन की भी बात कही थी लेकिन अब 1 अगस्त आने में महज 2 दिनों का वक्त है लेकिन टास्क फोर्स कहीं नजर नहीं आ रही है। ऐसे में अब यह सवाल उठ रहा है कि राज्य को पाॅलीथिन से मुक्ति कैसे मिलेगी?

ये भी पढ़ें - आने वाले 48 घंटे हो सकती है आफत की बारिश, भूस्खलन ने रोकी भक्तों की राह


यहां बता दें कि इस बारे में जब मुख्यमंत्री से सवाल पूछा गया तो उन्होंने कहा कि सबकुछ पीएम के स्वच्छता अभियान के मद्देनजर किया जा रहा है। वहीं कार्ययोजना को अमलीजामा पहनाने वाले अधिकारी भी इस मामले पर कुछ बोलने से बचते हुए ही दिखाई दिए। गौर करने वाली बात है कि मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र रावत कई मंचों से राज्य में पाॅलीथिन से मुक्त करने की बातें कह चुके हैं लेकिन जमीनी हकीकत देखकर ऐसा लगता है कि सीएम की बातें सिर्फ कागजों तक ही सीमित रह जाएंगी। 

Todays Beets: