Thursday, August 16, 2018

Breaking News

   मंगल ग्रह पर आशियाना बनाएगा इंसान, वैज्ञानिकों को मिली पानी की सबसे बड़ी झील     ||   भाजपा नेता का अटपटा ज्ञान, 'मृत्युशैया पर हुमायूं ने बाबर से कहा था, गायों का सम्मान करो'     ||   आज से एक हुए IDEA-वोडाफोन! अब बनेगी देश की सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी     ||   गोवा में बड़ी संख्‍या में लोग बीफ खाते हैं, आप उन्‍हें नहीं रोक सकते: बीजेपी विधायक     ||   चीन फिर चल रहा 'चाल', डोकलाम में चुपचाप फिर शुरू कीं गतिविधियां : अमेरिकी अधिकारी     ||   नीरव मोदी, चोकसी के खिलाफ बड़ा एक्शन, 25-26 सितंबर को कोर्ट में पेश होने के आदेश     ||   जापान में फ़्लैश फ्लड से 200 लोगों की मौत     ||   देहरादून में जलभराव पर सरकार ने लिया संज्ञान अधिकारियों को दिए निर्देश     ||   भारत ने टॉस जीता फील्डिंग करने का फैसला     ||   उपेन्द्र राय मनी लाउंड्रिंग मामले में सीबीआई ने 2 अधिकारियों को गिरफ्तार किया     ||

राज्य को पाॅलीथिन से मुक्त करने के वादे खोखले, टास्क फोर्स का कोई अता-पता नहीं

अंग्वाल न्यूज डेस्क
राज्य को पाॅलीथिन से मुक्त करने के वादे खोखले, टास्क फोर्स का कोई अता-पता नहीं

देहरादून। राज्य के मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत 1 अगस्त से राज्य को पूरी तरह से पाॅलीथिन से मुक्त करने की घोषणा कर चुके हैं लेकिन हकीकत में कोई काम होता नजर नहीं आ रहा है। ऐसे में अंदेशा जताया जा रहा है कि प्रदेश में पॉलीथिन पर प्रबंध लगाने की बात सिर्फ कागजों तक ही सिमट कर रह जाएगी। 

गौरतलब है कि 5 जून को विश्व पर्यावरण दिवस पर मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने प्रदेश को पॉलीथिन मुक्त बनाने की घोषणा की थी। उन्होंने कहा था कि 31 जुलाई से एक सप्ताह पहले पॉलीथिन पर प्रतिबंध को लेकर जागरूकता अभियान चलाया जाएगा। उन्होंने मुहिम को प्रभावी रूप से चलाने के लिए टास्क फोर्स के गठन की भी बात कही थी लेकिन अब 1 अगस्त आने में महज 2 दिनों का वक्त है लेकिन टास्क फोर्स कहीं नजर नहीं आ रही है। ऐसे में अब यह सवाल उठ रहा है कि राज्य को पाॅलीथिन से मुक्ति कैसे मिलेगी?

ये भी पढ़ें - आने वाले 48 घंटे हो सकती है आफत की बारिश, भूस्खलन ने रोकी भक्तों की राह


यहां बता दें कि इस बारे में जब मुख्यमंत्री से सवाल पूछा गया तो उन्होंने कहा कि सबकुछ पीएम के स्वच्छता अभियान के मद्देनजर किया जा रहा है। वहीं कार्ययोजना को अमलीजामा पहनाने वाले अधिकारी भी इस मामले पर कुछ बोलने से बचते हुए ही दिखाई दिए। गौर करने वाली बात है कि मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र रावत कई मंचों से राज्य में पाॅलीथिन से मुक्त करने की बातें कह चुके हैं लेकिन जमीनी हकीकत देखकर ऐसा लगता है कि सीएम की बातें सिर्फ कागजों तक ही सीमित रह जाएंगी। 

Todays Beets: