Tuesday, December 11, 2018

Breaking News

   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||   बाबा रामदेव रांची में खोलेंगे आचार्यकुलम, क्लास 1 से क्लास 4 तक मिलेगी शिक्षा     ||   मैंने महिलाओं व अन्य वर्गों के लिए काम किया, मेरा काम बोलेगा: वसुंधरा राजे     ||   बजरंगबली पर दिए गए बयान को लेकर हिन्दू महासभा ने योगी को कानूनी नोटिस भेजा     ||   पीएम मोदी 3 द‍िसंबर को हैदराबाद में लेंगे पब्ल‍िक मीट‍िंग     ||   भगत स‍िंह आतंकवादी नहीं, हमारे देश को उन पर गर्व है- फारुख अब्दुल्ला     ||   अन‍िल अंबानी की जेब में देश का पैसा जा रहा है-राहुल गांधी     ||    दिल्ली: TDP नेता वाईएस चौधरी को HC से राहत, गिरफ्तारी पर रोक     ||    पूर्व क्रिकेटर अजहर तेलंगाना कांग्रेस समिति के कार्यकारी अध्यक्ष बनाए गए     ||   किसानों को कांग्रेस ने मजबूर और बीजेपी ने मजबूत बनाया: PM मोदी     ||

असमान छात्र-शिक्षक अनुपात पर बिफरे मंत्री, शिकायत को जल्द दूर करने के निर्देश

अंग्वाल न्यूज डेस्क
असमान छात्र-शिक्षक अनुपात पर बिफरे मंत्री, शिकायत को जल्द दूर करने के निर्देश

देहरादून। ऐसा लगता है कि प्रदेश के शिक्षा विभाग की मुश्किलें कम होने का नाम नहीं ले रहीं हैं। अब शिक्षा विभाग की समीक्षा करते हुए शिक्षा मंत्री अरविंद पांडे अधिकारियों पर बुरी तरह से बिफर गए। उन्होंने कहा कि कई जगहों से ऐसी शिकायतें आ रहीं हैं कि कम छात्रों वाले स्कूल में अधिक शिक्षक हैं और अधिक छात्र संख्या वाले स्कूलों में कम शिक्षक हैं। मंत्री ने अधिकारियों को इस तरह की शिकायत फौरन दूर करने के निर्देश दिए हैं। इसके साथ ही उन्होंने शैक्षिक सत्र 2019-20 के लिए एनसीईआरटी की किताबों का समय पर इंतजाम करने को कहा है। 7 दिसंबर को शिक्षा निदेशक एनसीईआरटी की वेंडरों के साथ बैठक करेंगे।

गौरतलब है कि शिक्षा मंत्री ने अधिकारियों को स्कूलों में छात्रों की संख्या के अनुसार शिक्षकों की तैनाती करने के निर्देश दिए हैं। मंत्री अरविंद पांडे ने कहा कि उन्हें लगातार ऐसी शिकायतें आ रहीं है कि कई स्कूलांे में छात्र अधिक हैं और शिक्षक कम तो वहीं कई स्कूलांे में छात्र कम हैं और शिक्षक ज्यादा। शिक्षा विभाग की समीक्षा करते हुए उन्होंने लक्सर के विधायक संजय गुप्ता की मांग पर मुन्ना खेड़ा कलां हाईस्कूल के उच्चीकरण का प्रस्ताव तैयार करने को कहा है।

ये भी पढ़ें - राज्य सरकार ने पेश किया पहला अनुपूरक बजट, जानें किस मद में दी गई कितनी रकम


यहां बता दें कि प्रदेश सरकार ने दूरस्थ इलाकों के कम छात्रों वाले स्कूलों को बंदकर उसे बड़े स्कूलों के साथ विलय करने की बात कही थी। इसके बाद भी इस तरह की कई शिकायत आ रही है कि स्कूलों में छात्रों की संख्या के अनुसार, शिक्षक मौजूद नहीं हैं। गौर करने वाली बात है कि मंत्री ने कहा कि बेसिक शिक्षकों के ब्लॉक कैडर की व्यवस्था को खत्म करने की तैयारी भी है। जिला स्तर पर शिक्षकों के समायोजन और नियुक्तियों में आ रही समस्या को देखते हुए इसे जिला कैडर करने पर विचार किया जा रहा है। 

 

Todays Beets: