Friday, November 24, 2017

Breaking News

   मैदान पर विराट के आक्रामक रवैये पर राहुल द्रविड़ को सताई चिंता     ||   अजहर को अंतर्राष्ट्रीय आतंकी घोषित नहीं करेगा चीन, प्रस्ताव पर रोक लगाने के संकेत     ||   दुनिया की सबसे लंबी सुरंग बनाकर चीन अब ब्रह्मपुुत्र नदी का पानी रोकने का बना रहा है प्लान     ||   पीएम मोदी को शीला दीक्षित ने दिया जवाब- हमने नहीं भुलाया पटेल का योगदान    ||   पटना पहुंचे मोहन भागवत, यज्ञ में भाग लेने जाएंगे आरा, नीतीश भी जाएंगे    ||   अखिलेश को आया चाचा शिवपाल का फोन, कहा- आप अध्यक्ष हैं आपको बधाई    ||   अमेरिका में सभी श्रेणियों में H-1B वीजा के लिए आवश्यक कार्रवाई बहाल    ||   रोहिंग्या पर किया वीडियो पोस्ट, म्यांमार की ब्यूटी क्वीन का ताज छिना    ||   अब गेस्ट टीचरों को लेकर CM केजरीवाल और LG में ठनी    ||   केरल में अमित शाह के बाद योगी की पदयात्रा, राजनीतिक हत्याओं पर लेफ्ट को घेरने की रणनीति    ||

सरकार ने दी स्टेट वाइल्ड लाइफ बोर्ड को मंजूरी, विकास कार्यों में आएगी तेजी

अंग्वाल न्यूज डेस्क
सरकार ने दी स्टेट वाइल्ड लाइफ बोर्ड को मंजूरी, विकास कार्यों में आएगी तेजी

देहरादून। राज्य में राष्ट्रीय पार्कों और इको सेंसिटिव जोन के लिए जमीनों के हस्तांतरण में अब तेजी आएगी। सरकार ने स्टेट वाइल्ड लाइफ बोर्ड को मंजूरी दे दी है। इसके वजूद में आने के बाद रुके हुए कार्यों में तेजी आने की संभावना बढ़ गई है। जल्द ही इसके विधिवत आदेश दे दिए जाएंगे। बता दें कि पिछले कुछ समय से यह बोर्ड वजूद में नहीं था जिसकी वजह से विकास कार्यों के शुरू होने में दिक्कतें आ रहीं थीं। 

विकास कार्य होंगे तेज

गौरतलब है कि करीब 6 महीने पहले बोर्ड के गठन के लिए फाइल शासन को भेजी गई थी लेकिन इस पर कुछ कारणों से कार्रवाई नहीं हो पाई थी। बता दें कि इस बोर्ड का अध्यक्ष खुद मुख्यमंत्री होते हैं और इसमें 10 सदस्य होते हैं। मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र रावत ने बोर्ड के सदस्यों की संख्या 10 से कमकर 8 कर दी है और इनमें एक पूर्व पत्रकार के साथ ही पर्यावरण के क्षेत्र में काम करने वाले एनजीओ को भी सदस्य के रूप में लिया है। बोर्ड के अब वजूद में आने से राष्ट्रीय पार्को और सेंक्चुरी से होकर यदि कोई नई बिजली लाइन जानी है या फिर भूमि हस्तातंरण के मसले हैं, उनके कामों में तेजी आने की उम्मीद है। 

ये भी पढ़ें - राज्य की लचर शिक्षा व्यवस्था के लिए विभाग जिम्मेदार, कैग ने सर्वशिक्षा के अमल पर उठाए सवाल 


स्थानीय लोगों को राहत

आपको बता दें कि इस बोर्ड के वजूद में आने से पार्कों से लगे ईको सेंसटिव जोन में रहने वाले लोगों की परेशानियां दूर होंगी। यहां रहने वालों को कोई भी नया काम करने से पहले बोर्ड से मंजूरी लेनी होती है। गौर करने वाली बात यह है कि राज्य में 13 पार्क एवं सेंक्चुरी हैं, इन सभी पार्कों के 2 किलोमीटर से लेकर 10 किलोमीटर के दायरा को ईको सेंसटिव जोन में शामिल करने का प्रस्ताव केंद्र को पूर्व में भेजा जा चुका है।  

Todays Beets: