Saturday, February 23, 2019

Breaking News

   पाकिस्तान को FATF से मिली राहत, ग्रे लिस्ट में रहेगा बरकरार     ||   आय से अधिक संपत्ति केसः हिमाचल के पूर्व CM वीरभद्र सिंह के खिलाफ आरोप तय     ||   भीमा-कोरेगांव केसः बॉम्बे HC ने आनंद तेलतुंबड़े की याचिका पर सुनवाई 27 तक टाली     ||   हिमाचल प्रदेश: किन्नौर जिले में आया भूकंप, तीव्रता 3.5     ||   PAK सेना के ISPR के डीजी ने कहा- हम युद्ध की तैयारी नहीं कर रहे, भारत धमकी दे रहा है     ||   ICC को खत लिखेगी BCCI- आतंक समर्थक देश के साथ खत्म हो क्रिकेट संबंध     ||   महाराष्ट्रः ईस्ट इंडिया कंपनी द्वारा चलाई गई शकुंतला नैरो गेज ट्रेन में लगी आग     ||   केरलः दक्षिण पश्चिम तट से अवैध तरीके से भारत में घुसते 3 लोग गिरफ्तार     ||   ताबड़तोड़ एनकाउंटर पर योगी सरकार को SC का नोटिस, CJI बोले- विस्तृत सुनवाई की जरूरत     ||   तेहरान में बोइंग 707 किर्गिज कार्गो प्लेन क्रैश, 10 क्रू मेंबर की मौत     ||

उत्तराखंड के लिए आने वाले 24 घंटे हैं भारी, चंपावत में भूस्खलन से रास्ते बंद

अंग्वाल न्यूज डेस्क
उत्तराखंड के लिए आने वाले 24 घंटे हैं भारी, चंपावत में भूस्खलन से रास्ते बंद

देहरादून। उत्तराखंड में मौसम का कहर लगातार जारी है। पिछले तीन दिनों से प्रदेश के कई हिस्सों में हो रही भारी बारिश हो रही है। चंपावत जिले में लगातार भारी बारिश से पहाड़ों से मलबा सड़कों पर गिर रहा है इससे कई रास्ते बंद हो गए हैं। वहीं मौसम विभाग ने भी अगले 24 घंटों तक राज्य में भारी बारिश की चेतावनी जारी की है। कुदरत के बदलते मिजाज ने लोगों की परेशानियों में इजाफा करने के साथ ही प्रदेश में ठंड का आगाज कर दिया है। केदारनाथ में हुई बर्फबारी ने मैदानी इलाकों में ठंड बढ़ा दिया है। 

गौरतलब है कि मौसम विभाग ने अगले 24 घंटे में प्रदेश के 6 जिलों में भारी बारिश की चेतावनी दी है। इसके साथ ही सभी विभागों को सतर्क रहने और लोगों से सुरक्षित जगह पर रहने की अपील की गई है। वहीं 3 दिनों से राजधानी देहरादून में भी बारिश रुकने का नाम नहीं ले रही है। लगातार हो रही बारिश ने लोगों की मुसीबतों को काफी बढ़ा दिया है। वहीं चारधाम और पिथौरागढ़ की ऊंची पहाड़ियों में हुए हिमपात से तापमान में काफी गिरावट आ गई है। 

ये भी पढ़ें - राज्यसभा सांसद अनिल बलूनी ने पौड़ी के इस गांव को लिया गोद, पायलट प्रोजेक्ट के तहत करेंगे आबाद


यहां बता दें कि यमुनोत्री और यमुना घाटी में भी लगातार बारिश से यमुनोत्री हाईवे डाबरकोट के पास बंद गया है। चंपावत में भी पहाड़ों से हो रहे भूस्खलन ने रास्तों को अवरुद्ध कर दिया है। भारी बारिश ने जहां लोगों की परेशानियों में इजाफा किया है वहीं प्रदेश के पहाड़ी इलाकों में हो रही बर्फबारी से ठंड का भी आगाज हो गया है। लगातार हो रही बारिश के कारण बंद सड़कों को खोलने का काम शुरू नहीं किया जा सका है। 

 

Todays Beets: