Saturday, October 20, 2018

Breaking News

   सेना हर चुनौती से न‍िपटने के ल‍िए तैयार, सर्जिकल स्ट्राइक भी व‍िकल्‍प: रणबीर सिंह    ||   BJP विधायक मानवेंद्र ने बदला पाला, राज्यवर्धन बोले- कांग्रेस ने 70 साल में मंत्री नहीं बनाया    ||   सबरीमाला मंदिर में महिलाओं के प्रवेश पर छिड़ी जंग, हिरासत में 30 प्रदर्शनकारी    ||   विवेक तिवारी हत्याकांडः HC की लखनऊ बेंच ने CBI जांच की मांग ठुकराई    ||   केरलः अंतरराष्ट्रीय हिंदू परिषद ने सबरीमाला फैसले के खिलाफ HC में लगाई याचिका    ||   कोलकाताः HC ने दुर्गा पूजा आयोजकों को ममता के 28 करोड़ देने के फैसले पर रोक लगाई    ||    रूस के साथ S-400 एयर डिफेंस मिसाइल पर भारत की डील    ||   नार्वेः राजधानी ओस्लो में आज होगा शांति के नोबेल पुरस्कार का ऐलान    ||   अंकित सक्सेना मर्डर केसः ट्रायल के लिए अभियोगपक्ष के 2 वकीलों की नियुक्ति    ||   जम्मू कश्मीर में नेशनल कॉफ्रेंस के दो कार्यकर्ताओं की गोली मारकर हत्या, मरने वालों में एक MLA का पीए भी     ||

उत्तराखंड के लिए आने वाले 24 घंटे हैं भारी, चंपावत में भूस्खलन से रास्ते बंद

अंग्वाल न्यूज डेस्क
उत्तराखंड के लिए आने वाले 24 घंटे हैं भारी, चंपावत में भूस्खलन से रास्ते बंद

देहरादून। उत्तराखंड में मौसम का कहर लगातार जारी है। पिछले तीन दिनों से प्रदेश के कई हिस्सों में हो रही भारी बारिश हो रही है। चंपावत जिले में लगातार भारी बारिश से पहाड़ों से मलबा सड़कों पर गिर रहा है इससे कई रास्ते बंद हो गए हैं। वहीं मौसम विभाग ने भी अगले 24 घंटों तक राज्य में भारी बारिश की चेतावनी जारी की है। कुदरत के बदलते मिजाज ने लोगों की परेशानियों में इजाफा करने के साथ ही प्रदेश में ठंड का आगाज कर दिया है। केदारनाथ में हुई बर्फबारी ने मैदानी इलाकों में ठंड बढ़ा दिया है। 

गौरतलब है कि मौसम विभाग ने अगले 24 घंटे में प्रदेश के 6 जिलों में भारी बारिश की चेतावनी दी है। इसके साथ ही सभी विभागों को सतर्क रहने और लोगों से सुरक्षित जगह पर रहने की अपील की गई है। वहीं 3 दिनों से राजधानी देहरादून में भी बारिश रुकने का नाम नहीं ले रही है। लगातार हो रही बारिश ने लोगों की मुसीबतों को काफी बढ़ा दिया है। वहीं चारधाम और पिथौरागढ़ की ऊंची पहाड़ियों में हुए हिमपात से तापमान में काफी गिरावट आ गई है। 

ये भी पढ़ें - राज्यसभा सांसद अनिल बलूनी ने पौड़ी के इस गांव को लिया गोद, पायलट प्रोजेक्ट के तहत करेंगे आबाद


यहां बता दें कि यमुनोत्री और यमुना घाटी में भी लगातार बारिश से यमुनोत्री हाईवे डाबरकोट के पास बंद गया है। चंपावत में भी पहाड़ों से हो रहे भूस्खलन ने रास्तों को अवरुद्ध कर दिया है। भारी बारिश ने जहां लोगों की परेशानियों में इजाफा किया है वहीं प्रदेश के पहाड़ी इलाकों में हो रही बर्फबारी से ठंड का भी आगाज हो गया है। लगातार हो रही बारिश के कारण बंद सड़कों को खोलने का काम शुरू नहीं किया जा सका है। 

 

Todays Beets: