Monday, August 20, 2018

Breaking News

   मंगल ग्रह पर आशियाना बनाएगा इंसान, वैज्ञानिकों को मिली पानी की सबसे बड़ी झील     ||   भाजपा नेता का अटपटा ज्ञान, 'मृत्युशैया पर हुमायूं ने बाबर से कहा था, गायों का सम्मान करो'     ||   आज से एक हुए IDEA-वोडाफोन! अब बनेगी देश की सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी     ||   गोवा में बड़ी संख्‍या में लोग बीफ खाते हैं, आप उन्‍हें नहीं रोक सकते: बीजेपी विधायक     ||   चीन फिर चल रहा 'चाल', डोकलाम में चुपचाप फिर शुरू कीं गतिविधियां : अमेरिकी अधिकारी     ||   नीरव मोदी, चोकसी के खिलाफ बड़ा एक्शन, 25-26 सितंबर को कोर्ट में पेश होने के आदेश     ||   जापान में फ़्लैश फ्लड से 200 लोगों की मौत     ||   देहरादून में जलभराव पर सरकार ने लिया संज्ञान अधिकारियों को दिए निर्देश     ||   भारत ने टॉस जीता फील्डिंग करने का फैसला     ||   उपेन्द्र राय मनी लाउंड्रिंग मामले में सीबीआई ने 2 अधिकारियों को गिरफ्तार किया     ||

स्कूली शिक्षा को सुधारने की कवायद तेज, देरी से आने वाले शिक्षकों पर होगी कार्रवाई

अंग्वाल न्यूज डेस्क
स्कूली शिक्षा को सुधारने की कवायद तेज, देरी से आने वाले शिक्षकों पर होगी कार्रवाई

देहरादून। राज्य की शिक्षा व्यवस्था में सुधार लाने की कवायद तेज कर दी गई है। इसके तहत देरी से स्कूल आने वाले शिक्षकों पर शिकंजा कसने की तैयारी शुरू कर दी गई है। शिक्षा सचिव डाॅक्टर भूपिंदर कौर औलख ने कहा कि स्कूलों के शुरू होने और खत्म होने के बीच जिला स्तर के शिक्षा अधिकारी स्कूलों का औचक निरीक्षण करेंगे और अनुपस्थित या फिर देर से आने वाले शिक्षकों पर कार्रवाई करने की बात कही है। पिछले दिनों समीक्षा बैठक में इस बात का खुलासा हुआ था कि तैनाती स्थल के करीब शिक्षकों के रहने से स्कूलों का परिणाम बेहतर रहा था। 

गौरतलब है कि समीक्षा बैठक में इस बात कर भी पता चला कि ज्यादातर शिक्षक अपनी मूल तैनाती वाली जगह से काफी दूर शहरी इलाकों में रहते हैं जिससे उनका अधिकतर समय स्कूलों में आने-जाने में ही बीत जाता है। ऐसे में  छात्रांे की शिक्षा प्रभावित होती है। शिक्षा सचिव डाॅक्टर भूपिंदर कौर औलख ने कहा कि यह कदम सिर्फ शहरी ही नहीं बल्कि दूर-दराज के स्कूलों में तैनात शिक्षकों की लेटलतीफी को ध्यान में रखते हुए लिया गया है।

ये भी पढ़ें - डिग्री काॅलेजों में संविदा पर तैनात शिक्षकों को सरकार ने दी बड़ी राहत, मिला सेवा विस्तार का तोहफा 


यहां बता दें कि राज्य के स्कूलों में पहले से ही शिक्षकों की भारी कमी है और बीच में शिक्षकों के हड़ताल पर चले जाने से शिक्षा व्यवस्था पूरी तरह से चरमरा गई थी। शिक्षकों के आंदोलन पर हाईकोर्ट की सख्ती के बाद इन शिक्षकों ने अपना आंदोलन वापस लिया था। गौर करने वाली बात है कि शिक्षकों की लेटलतीफी पर लगाम लगाने के लिए शिक्षा निदेशक आरके कुंवर ने जिला स्तरीय शिक्षा अधिकारियों को नियमित रूप से स्कूलों का औचक मुआयना शुरू करने के निर्देश दिए हैं। जो भी शिक्षक लगातार देर से आ रहे हैं या फिर गायब हैं, उनके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी।

Todays Beets: