Saturday, March 23, 2019

Breaking News

    दिल्लीः NGT ने जर्मन कार कंपनी वोक्सवैगन पर 500 करोड़ का जुर्माना ठोंका     ||    दिल्लीः राहुल गांधी 11 मार्च को बूथ कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित करेंगे     ||    हैदराबाद: टीका लगाने के बाद एक बच्चे की मौत, 16 बीमार पड़े     ||   मध्य प्रदेश के ब्रांड एंबेसडर होंगे सलमान खान, CM कमलनाथ ने दी जानकारी     ||   पाकिस्तान को FATF से मिली राहत, ग्रे लिस्ट में रहेगा बरकरार     ||   आय से अधिक संपत्ति केसः हिमाचल के पूर्व CM वीरभद्र सिंह के खिलाफ आरोप तय     ||   भीमा-कोरेगांव केसः बॉम्बे HC ने आनंद तेलतुंबड़े की याचिका पर सुनवाई 27 तक टाली     ||   हिमाचल प्रदेश: किन्नौर जिले में आया भूकंप, तीव्रता 3.5     ||   PAK सेना के ISPR के डीजी ने कहा- हम युद्ध की तैयारी नहीं कर रहे, भारत धमकी दे रहा है     ||   ICC को खत लिखेगी BCCI- आतंक समर्थक देश के साथ खत्म हो क्रिकेट संबंध     ||

नहीं बदला जाएगा एनआईटी का कैंपस, राज्य और केन्द्र सरकार के बीच बनी सहमति

अंग्वाल न्यूज डेस्क
नहीं बदला जाएगा एनआईटी का कैंपस, राज्य और केन्द्र सरकार के बीच बनी सहमति

देहरादून। राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी संस्थान (एनआईटी) का कैंपस श्रीनगर गढ़वाल में ही रहेगा। आईटीआई और रेशम बोर्ड की जमीन पर अस्थाई तौर पर कैंपस बनाया जाएगा। केंद्र और प्रदेश सरकार बीच इस बात की सहमति बन गई है। मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने नई दिल्ली में केंद्रीय मानव संसाधन मंत्री प्रकाश जावड़ेकर से मुलाकात कर एनआईटी पर गठित हाईपावर कमेटी की रिपोर्ट भी सौंपी है। इस रिपोर्ट में एनआईटी के शासक मंडल (बीओजी) की भूमिका पर सवाल उठाए गए हैं।केंद्रीय मानव संसाधन मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने इस बात का आश्वासन दिया है कि उत्तराखंड को शिक्षा के अधिकार (आरटीई) के तहत मिलने वाली राशि का बकाया हिस्सा जल्द जारी किया जाएगा।

गौरतलब है कि सीएम ने सुमाड़ी में स्थित एनआईटी के स्थाई कैंपस को ही उपयुक्त बताया है। हाईपावर कमेटी की रिपोर्ट में कहा गया है कि सुमाड़ी में स्थित कैंपस में सुविधाएं उपलब्ध कराने के बावजूद उसे वहां से हटाए जाने की कोशिश किया जा रहा है। मुख्यमंत्री और केंद्रीय मंत्री के बीच इस रिपोर्ट पर विस्तार से चर्चा हुई। 

ये भी पढ़ें - छात्रवृत्ति घोटाले में फंसे सदस्य को मिला सरकारी तोहफा, किए गए पदोन्नत

यहां बता दें कि दोनों नेताओं के बीच हुई मुलाकात के बाद इस बात पर सहमति बन गई है कि एनआईटी श्रीनगर का कैंपस नहीं बदला जाएगा। इसके साथ ही एक नया अस्थाई कैंपस भी बनाया जाएगा और यह अस्थाई कैंपस आईटीआई और रेशम बोर्ड की जमीन पर बनाया जाएगा। 


गौर करने वाली बात है कि हाईपावर कमेटी की रिपोर्ट में कहा गया है कि सुमाड़ी में संस्थान के निर्माण के लिए राज्य सरकार 300 एकड़ अतिक्रमणरहित भूमि एनआईटी के नाम हस्तांतरित कर चुकी है। मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत से मुलाकात के बाद केंद्रीय मानव संसाधन मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने इस बात का आश्वासन दिया है कि उत्तराखंड को शिक्षा के अधिकार (आरटीई) के तहत मिलने वाली राशि का बकाया हिस्सा जल्द जारी किया जाएगा। इसके साथ ही उन्होंने विशिष्ट बीटी अध्यापकों के अलावा अन्य शिक्षकों को भी राहत देने का भरोसा दिया है। जवाड़ेकर ने कहा कि विशिष्ट बीटीसी अध्यापकों के लिए केंद्र सरकार ने विधेयक पास कर दिया है।

 

Todays Beets: