Friday, December 14, 2018

Breaking News

   कुशल भ्रष्टाचार और अक्षम प्रशासन का मॉडल है कांग्रेस-कम्युन‍िस्ट सरकार-PM मोदी     ||   CBI: राकेश अस्थाना केस में द‍िल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई 20 द‍िसंबर तक टली     ||   बैडम‍िंटन खि‍लाड़ी साइना नेहवाल ने पी कश्यप से की शादी     ||   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||   बाबा रामदेव रांची में खोलेंगे आचार्यकुलम, क्लास 1 से क्लास 4 तक मिलेगी शिक्षा     ||   मैंने महिलाओं व अन्य वर्गों के लिए काम किया, मेरा काम बोलेगा: वसुंधरा राजे     ||   बजरंगबली पर दिए गए बयान को लेकर हिन्दू महासभा ने योगी को कानूनी नोटिस भेजा     ||   पीएम मोदी 3 द‍िसंबर को हैदराबाद में लेंगे पब्ल‍िक मीट‍िंग     ||   भगत स‍िंह आतंकवादी नहीं, हमारे देश को उन पर गर्व है- फारुख अब्दुल्ला     ||   अन‍िल अंबानी की जेब में देश का पैसा जा रहा है-राहुल गांधी     ||

पैरा एशियाई गेम्स में ‘उत्तराखंडी’ खिलाड़ी भी दिखाएंगे दम, विदेशी खिलाड़ियों को देंगे चुनौती

अंग्वाल न्यूज डेस्क
पैरा एशियाई गेम्स में ‘उत्तराखंडी’ खिलाड़ी भी दिखाएंगे दम, विदेशी खिलाड़ियों को देंगे चुनौती

देहरादून। इंडोनेशिया की राजधानी जकार्ता में 6 अक्टूबर से शुरू होने वाली पैरा एशियाई गेम्स में उत्तराखंड के खिलाड़ी भी अपना कमाल दिखाते नजर आएंगे। भारतीय खिलाड़ियों का दल जर्काता पहुंच चुका है। बता दें कि प्रदेश के तीनों खिलाड़ी देश के 302 सदस्यीय टीम में शामिल हैं। बता दें कि इसमें हाल ही में अर्जुन पुरस्कार से सम्मानित विश्व के नंबर वन पैरा शटलर मनोज सरकार का नाम भी शामिल है। वहीं रुद्रपुर के चिराग बरेठा भी बैडमिंटन में अपनी चुनौती पेश करेंगे। 

गौरतलब है कि जकार्ता में 6 से 13 अक्टूबर के बीच पैरा एशियाई खेलों का आयोजन किया जा रहा है। खेल मंत्री राज्यवर्द्धन सिंह राठौर ने जर्काता रवाना होने से पहले खिलाड़ियों की हौंसलाअफजाई करते हुए कहा था कि सभी खिलाड़ी अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करने के लिए बेताब हैं। बता दें कि मनोज सरकार के नाम जहां 18 गोल्ड समेत करीब 28 पदक हैं, वहीं चिराग भी बेहतरीन पैरा शटलर हैं, जिनसे भारतीय दल को पदक की आस है। 

ये भी पढ़ें - शिक्षा विभाग में सामने आया एक और गड़बड़झाला, नियमों को ताक पर रखकर शिक्षकों को दे दी ज्यादा सैलरी


यहां बता दें कि मूल रूप से पौड़ी के रहने वाले आशीष नेगी भी पैरा एशियाई गेम्स में अपना दम दिखाने के लिए बेताब हैं। वे एफ 12 केटेगरी यानी दृष्टिबाधित वर्ग के शॉटपुट खिलाड़ी हैं। गौर करने वाली बात है कि  आशीष ने मार्च 2018 में नेशनल पैरा गेम्स में स्वर्ण पदक प्राप्त किया किया था। आशीष का कहना है कि उनका मकसद 2020 में टोक्यो में होने वाले ओलंपिक गेम्स में अपनी जगह बनाना है। एशियाई खेलों में भारतीय दल के ध्वजवाहक रियो पैरालंपिक के स्वर्ण पदक विजेता टी मरियप्पन होंगे।

Todays Beets: