Wednesday, June 26, 2019

Breaking News

   आईबी के निदेशक होंगे 1984 बैच के आईपीएस अरविंद कुमार, दो साल का होगा कार्यकाल    ||   नीति आयोग के सीईओ अमिताभ कांत का कार्यकाल सरकार ने दो साल बढ़ाया    ||   BJP में शामिल हुए INLD के राज्यसभा सांसद राम कुमार कश्यप और केरल के पूर्व CPM सांसद अब्दुल्ला कुट्टी    ||   टीम इंडिया की जर्सी पर विवाद के बीच आईसीसी ने दी सफाई, इंग्लैंड की जर्सी भी नीली इसलिए बदला रंग    ||   PIL की सुनवाई के लिए SC ने जारी किया नया रोस्टर, CJI समेत पांच वरिष्ठ जज करेंगे सुनवाई    ||   अमित शाह बोले - साध्वी प्रज्ञा ठाकुर के गोसडे पर दिए बयान से भाजपा का सरोकार नहीं    ||   भाजपा के संकल्प पत्र में आतंकवाद और भ्रष्टाचार के खिलाफ कार्रवाई का वादा     ||   सुप्रीम कोर्ट ने लोकसभा चुनाव में ईवीएम और वीवीपैट के मिलान को पांच गुना बढ़ाया    ||    दिल्लीः NGT ने जर्मन कार कंपनी वोक्सवैगन पर 500 करोड़ का जुर्माना ठोंका     ||    दिल्लीः राहुल गांधी 11 मार्च को बूथ कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित करेंगे     ||

शिक्षा विभाग में सामने आया एक और गड़बड़झाला, नियमों को ताक पर रखकर शिक्षकों को दे दी ज्यादा सैलरी

अंग्वाल न्यूज डेस्क
शिक्षा विभाग में सामने आया एक और गड़बड़झाला, नियमों को ताक पर रखकर शिक्षकों को दे दी ज्यादा सैलरी

देहरादून। लगातार विवादों में घिरे रहने वाले शिक्षा विभाग में एक और बड़े गड़बड़झाले का खुलासा हुआ है। इसमें चयन वेतनमान और ग्रेड पे संशोधन को लेकर बड़ा घपला किया गया है। 4200 वाले ग्रेड पे से पदोन्नत होकर 4600 ग्रेड पे में पहुंचे शिक्षकों को अधिकारियों ने नियमों को ताक पर रखते हुए सीधी भर्ती वाले एलटी शिक्षकों के सामन एंट्री पे स्केल दे दिया। इससे राज्य सरकार को काफी नुकसान उठाना पड़ा। बता दें कि यह मामला पिछले 5 सालों से चल रहा है। अब मामला सामने आने पर शिक्षा मंत्री अरविंद पांडे ने अब तक गलत तरीके से बांटे गए धन का ब्योरा मांगा है। 

गौरतलब है कि राज्य की शिक्षा व्यवस्था को बेहतर बनाने के लिए सरकार की ओर से कोशिशें की जा रहीं हैं लेकिन विभाग के अधिकारी ही उनपर पलीता लगाने पर तुले हुए हैं। बता दें कि शिक्षा विभाग ने छठे वेतन आयोग की सिफारिशों के अनुसार बेसिक शिक्षकों के लिए 4200, एलटी के लिए 4600 और प्रवक्ता के लिए 4800 रुपये ग्रेड पे तय किए हैं। इसके तहत तीनों कैडर की एंट्री पे 13,500 रुपये, 17,140 और 18,150 रुपये तय की गई। ये एंट्री पे केवल सीधी भर्ती के शिक्षकों के लिए ही थी।

ये भी पढ़ें - स्थाई राजधानी की मांग को लेकर आंदोलनकारियों का सीएम आवास कूच की कोशिश नाकाम, 150 से ज्यादा हु...


यहां बता दें कि ग्रेड पे और एंट्री पे के स्पष्ट मानक होने के बाद भी अधिकारियों ने कई जगहों पर मनमाने तरीके से ग्रेड पे तय कर दिए और 4200 से 4600 ग्रेड पे में पहुंचे शिक्षकों को भी 17,140 रुपये का पे दे दिया गया। कोर्ट में शिकायत के बाद शिक्षा निदेशालय ने 5 सदस्यों की एक कमेटी बनाई एवं कमेटी ने ज्यादा सैलरी एपाने वाले शिक्षकों से रकम की वसूली की बात कही लेकिन हाईकोर्ट ने इस पर स्टे लगा दिया। शिक्षा मंत्री ने कहा कि यह तो बड़ा घपला साबित हो सकता है ऐसे में इसकी जांच की जा रही है। 

 

Todays Beets: