Wednesday, April 24, 2019

Breaking News

   भाजपा के संकल्प पत्र में आतंकवाद और भ्रष्टाचार के खिलाफ कार्रवाई का वादा     ||   सुप्रीम कोर्ट ने लोकसभा चुनाव में ईवीएम और वीवीपैट के मिलान को पांच गुना बढ़ाया    ||    दिल्लीः NGT ने जर्मन कार कंपनी वोक्सवैगन पर 500 करोड़ का जुर्माना ठोंका     ||    दिल्लीः राहुल गांधी 11 मार्च को बूथ कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित करेंगे     ||    हैदराबाद: टीका लगाने के बाद एक बच्चे की मौत, 16 बीमार पड़े     ||   मध्य प्रदेश के ब्रांड एंबेसडर होंगे सलमान खान, CM कमलनाथ ने दी जानकारी     ||   पाकिस्तान को FATF से मिली राहत, ग्रे लिस्ट में रहेगा बरकरार     ||   आय से अधिक संपत्ति केसः हिमाचल के पूर्व CM वीरभद्र सिंह के खिलाफ आरोप तय     ||   भीमा-कोरेगांव केसः बॉम्बे HC ने आनंद तेलतुंबड़े की याचिका पर सुनवाई 27 तक टाली     ||   हिमाचल प्रदेश: किन्नौर जिले में आया भूकंप, तीव्रता 3.5     ||

अब प्राथमिक शिक्षक संघ में सेवानिवृत्त शिक्षक नहीं बनेंगे पदाधिकारी, जल्द ही हटाने के लिए आएगा प्रस्ताव

अंग्वाल न्यूज डेस्क
अब प्राथमिक शिक्षक संघ में सेवानिवृत्त शिक्षक नहीं बनेंगे पदाधिकारी, जल्द ही हटाने के लिए आएगा प्रस्ताव

देहरादून। अब सेवानिवृत्ति के बाद कोई भी शिक्षक प्राथमिक शिक्षक संघ के पदाधिकारी पद पर नहीं रहेंगे। संघ की महासभा जल्द ही इसके लिए प्रस्ताव लाने की तैयारी कर रही है। प्राथमिक शिक्षक संघ काफी समय से सेवानिवृत्त हो चुके शिक्षकों को पदाधिकारी पदों से हटाने की मांग कर कर रहे हैं। हालांकि प्राथमिक शिक्षक संघ के जिला अध्यक्ष वीरेन्द्र कृषाली 31 अगस्त को सेवानिवृत्त होने के बावजूद इस पद पर बने हुए हैं। गौर करने वाली बात है कि सेवानिवृत्त कर्मचारियों को संघ पदाधिकारी न बनाने को लेकर राज्य सरकार भी निर्देश जारी कर चुकी है।

गौरतलब है कि राज्य के प्राथमिक शिक्षक संघों में कई सेवानिवृत्त शिक्षक पदाधिकारी के पद पर तैनात हैं। प्राथमिक शिक्षक संघ के जिलाध्यक्ष वीरेंद्र कृषाली काफी समय से सेवानिवृत्त शिक्षकों को पद से हटाने की मांग करते आ रहे हैं। हालांकि वह खुद भी 31 अगस्त को सेवानिवृत्त होने के बावजूद अपने पद पर डटे हुए हैं। ऐसे में शिक्षकों के बीच असंतोष बढ़ता जा रहा है। 

ये भी पढ़ें - सहायक शिक्षकों की नियुक्ति में 2 शिक्षा अधिकारी अवमानना के दोषी, 13 सितंबर को सुनाई जाएगी सजा

यहां बता दें कि प्रदेश सरकार भी पहले ही सेवानिवृत्त शिक्षकों और कर्मचारियों को पदाधिकारी न बनाने के निर्देश जारी कर चुकी है। सरकार ने अपनी नाराजगी जताते हुए कहा कि नियमावली के अनुसार भी सेवानिवृत्त कर्मचारी संघ का सदस्य नहीं हो सकता है। 


आपको बता दें कि 18 और 19 सितंबर को होने वाले संघ के दो दिवसीय अधिवेशन होना है। इसके बाद नई प्रदेश कार्यकारिणी का गठन किया जाएगा। इससे पहले महासभा में सेवानिवृत्त होने पर पद छोड़ने का प्रस्ताव लाया जाएगा। 

 

Todays Beets: