Monday, July 16, 2018

Breaking News

   जापान में फ़्लैश फ्लड से 200 लोगों की मौत     ||   देहरादून में जलभराव पर सरकार ने लिया संज्ञान अधिकारियों को दिए निर्देश     ||   भारत ने टॉस जीता फील्डिंग करने का फैसला     ||   उपेन्द्र राय मनी लाउंड्रिंग मामले में सीबीआई ने 2 अधिकारियों को गिरफ्तार किया     ||   नीतीश का गठबंधन को जवाब कहा गठबंधन सिर्फ बिहार में है बाहर नहीं     ||   जापान में बारिश का कहर जारी 100 से ज्यादा लोगों की मौत     ||   PM मोदी के नोएडा दौरे से पहले लगा भारी जाम, पढ़ें पूरी ट्रैफिक एडवाइजरी     ||    नीतीश ने दिए संकेत: केवल बिहार में है भाजपा और जदयू का गठबंधन, राष्ट्रीय स्तर पर हम साथ नहीं    ||   निर्भया मामले में तीनों दोषियों को होगी फांसी, सुप्रीम कोर्ट ने याचिका ठुकराई    ||   उत्तर भारत में धूल: चंडीगढ़ में सुबह 11 बजे अंधेरा छाया, 26 उड़ानें रद्द; दिल्ली में भी धूल कायम     ||

स्कूली छात्रों को नहीं होगी किताबों की कमी, एनसीईआरटी ने माना सरकार का अनुरोध

अंग्वाल न्यूज डेस्क
स्कूली छात्रों को नहीं होगी किताबों की कमी, एनसीईआरटी ने माना सरकार का अनुरोध

देहरादून। एनसीईआरटी ने राज्य के हजारों छात्र-छात्राओं को बड़ी राहत दी है। एनसीईआरटी ने सरकार के अनुरोध को मानते हुए बुक वेंडर्स को पर्याप्त मात्रा में किताबें उपलब्ध कराने के निर्देश दिए हैं। इससे प्रदेश सरकार ने राहत की सांस ली है। बता दें कि राज्य में कक्षा 3 से लेकर 12वीं तक के सरकारी स्कूलों में पढ़ने वाले करीब 7 लाख छात्र-छात्राओं को एनसीईआरटी की किताबों की कमी का अंदेशा जताया जा रहा है लेकिन एनसीईआरटी के आदेश के बाद अब इन छात्रों को राहत मिली है। 

गौरतलब है कि पिछले महीने 13 जून को मंत्रिमंडल ने उत्तरप्रदेश के प्रकाशकों की सस्ती किताबों की मदद लेने का निर्णय लिया था। इसके लिए शासनादेश भी जारी किए जा चुके थे। यहां बता दें कि साल 2018-19 के लिए सरकार ने मुफ्त में किताबें छपवाने से खुद ही अपने कदम वापस खींच लिए थे जिसके बाद से सरकारी स्कूलों में पढ़ने वाले छात्र-छात्राओं को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। 

ये भी पढ़ें - राजाजी पार्क में हुए भर्ती घपले पर हाईकोर्ट हुआ सख्त, इससे जुड़े अधिकारियों पर गिरेगी गाज 


यहां बता दें कि राज्य में कक्षा 1 से 8वीं तक सभी छात्र-छात्राओं, कक्षा 9 से 12वीं तक अध्ययनरत सभी छात्रओं और अनुसूचित जाति व अनुसूचित जनजाति व पिछड़ी जाति के छात्र-छात्राओं को मुफ्त किताबों के एवज में किताबों की कीमत डायरेक्ट बेनिफिट ट्रांसफर योजना के तहत उनके बैंक खातों में भेजी जा रही है। इस वजह से करीब 7 लाख से ज्यादा छात्र-छात्राओं को 30 लाख से ज्यादा किताबें बाजार से खरीदनी होंगी लेकिन इतनी संख्या में किताबों की छपाई सरकार की ओर से नहीं कराई जा रही है। 

 

Todays Beets: