Thursday, September 20, 2018

Breaking News

   ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण के पूर्व जीएम के ठिकानों पर आयकर के छापे     ||   बिहार: पूर्व मंत्री मदन मोहन झा बनाए गए प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष। सांसद अखिलेश सिंह बनाए गए अभियान समिति के अध्यक्ष। कौकब कादिरी समेत चार बनाए गए कार्यकारी अध्यक्ष।     ||   कर्नाटक के मंत्री शिवकुमार के खिलाफ ED ने मनी लॉन्ड्रिंग का केस दर्ज किया    ||   सीतापुर में श्रद्धालुओें से भरी बस खाई में पलटी 26 घायल, 5 की हालत गंभीर     ||   मंगल ग्रह पर आशियाना बनाएगा इंसान, वैज्ञानिकों को मिली पानी की सबसे बड़ी झील     ||   भाजपा नेता का अटपटा ज्ञान, 'मृत्युशैया पर हुमायूं ने बाबर से कहा था, गायों का सम्मान करो'     ||   आज से एक हुए IDEA-वोडाफोन! अब बनेगी देश की सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी     ||   गोवा में बड़ी संख्‍या में लोग बीफ खाते हैं, आप उन्‍हें नहीं रोक सकते: बीजेपी विधायक     ||   चीन फिर चल रहा 'चाल', डोकलाम में चुपचाप फिर शुरू कीं गतिविधियां : अमेरिकी अधिकारी     ||   नीरव मोदी, चोकसी के खिलाफ बड़ा एक्शन, 25-26 सितंबर को कोर्ट में पेश होने के आदेश     ||

स्कूली छात्रों को नहीं होगी किताबों की कमी, एनसीईआरटी ने माना सरकार का अनुरोध

अंग्वाल न्यूज डेस्क
स्कूली छात्रों को नहीं होगी किताबों की कमी, एनसीईआरटी ने माना सरकार का अनुरोध

देहरादून। एनसीईआरटी ने राज्य के हजारों छात्र-छात्राओं को बड़ी राहत दी है। एनसीईआरटी ने सरकार के अनुरोध को मानते हुए बुक वेंडर्स को पर्याप्त मात्रा में किताबें उपलब्ध कराने के निर्देश दिए हैं। इससे प्रदेश सरकार ने राहत की सांस ली है। बता दें कि राज्य में कक्षा 3 से लेकर 12वीं तक के सरकारी स्कूलों में पढ़ने वाले करीब 7 लाख छात्र-छात्राओं को एनसीईआरटी की किताबों की कमी का अंदेशा जताया जा रहा है लेकिन एनसीईआरटी के आदेश के बाद अब इन छात्रों को राहत मिली है। 

गौरतलब है कि पिछले महीने 13 जून को मंत्रिमंडल ने उत्तरप्रदेश के प्रकाशकों की सस्ती किताबों की मदद लेने का निर्णय लिया था। इसके लिए शासनादेश भी जारी किए जा चुके थे। यहां बता दें कि साल 2018-19 के लिए सरकार ने मुफ्त में किताबें छपवाने से खुद ही अपने कदम वापस खींच लिए थे जिसके बाद से सरकारी स्कूलों में पढ़ने वाले छात्र-छात्राओं को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। 

ये भी पढ़ें - राजाजी पार्क में हुए भर्ती घपले पर हाईकोर्ट हुआ सख्त, इससे जुड़े अधिकारियों पर गिरेगी गाज 


यहां बता दें कि राज्य में कक्षा 1 से 8वीं तक सभी छात्र-छात्राओं, कक्षा 9 से 12वीं तक अध्ययनरत सभी छात्रओं और अनुसूचित जाति व अनुसूचित जनजाति व पिछड़ी जाति के छात्र-छात्राओं को मुफ्त किताबों के एवज में किताबों की कीमत डायरेक्ट बेनिफिट ट्रांसफर योजना के तहत उनके बैंक खातों में भेजी जा रही है। इस वजह से करीब 7 लाख से ज्यादा छात्र-छात्राओं को 30 लाख से ज्यादा किताबें बाजार से खरीदनी होंगी लेकिन इतनी संख्या में किताबों की छपाई सरकार की ओर से नहीं कराई जा रही है। 

 

Todays Beets: