Tuesday, February 19, 2019

Breaking News

   महाराष्ट्रः ईस्ट इंडिया कंपनी द्वारा चलाई गई शकुंतला नैरो गेज ट्रेन में लगी आग     ||   केरलः दक्षिण पश्चिम तट से अवैध तरीके से भारत में घुसते 3 लोग गिरफ्तार     ||   ताबड़तोड़ एनकाउंटर पर योगी सरकार को SC का नोटिस, CJI बोले- विस्तृत सुनवाई की जरूरत     ||   तेहरान में बोइंग 707 किर्गिज कार्गो प्लेन क्रैश, 10 क्रू मेंबर की मौत     ||   PM मोदी बोले- जवानों के बाद किसानों की आंखों में धूल झोंक रही कांग्रेस     ||   PM मोदी बोले- हम ईमानदारी से कोशिश करते हैं, झूठे सपने नहीं दिखाते     ||   कुशल भ्रष्टाचार और अक्षम प्रशासन का मॉडल है कांग्रेस-कम्युन‍िस्ट सरकार-PM मोदी     ||   CBI: राकेश अस्थाना केस में द‍िल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई 20 द‍िसंबर तक टली     ||   बैडम‍िंटन खि‍लाड़ी साइना नेहवाल ने पी कश्यप से की शादी     ||   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||

स्कूली छात्रों को नहीं होगी किताबों की कमी, एनसीईआरटी ने माना सरकार का अनुरोध

अंग्वाल न्यूज डेस्क
स्कूली छात्रों को नहीं होगी किताबों की कमी, एनसीईआरटी ने माना सरकार का अनुरोध

देहरादून। एनसीईआरटी ने राज्य के हजारों छात्र-छात्राओं को बड़ी राहत दी है। एनसीईआरटी ने सरकार के अनुरोध को मानते हुए बुक वेंडर्स को पर्याप्त मात्रा में किताबें उपलब्ध कराने के निर्देश दिए हैं। इससे प्रदेश सरकार ने राहत की सांस ली है। बता दें कि राज्य में कक्षा 3 से लेकर 12वीं तक के सरकारी स्कूलों में पढ़ने वाले करीब 7 लाख छात्र-छात्राओं को एनसीईआरटी की किताबों की कमी का अंदेशा जताया जा रहा है लेकिन एनसीईआरटी के आदेश के बाद अब इन छात्रों को राहत मिली है। 

गौरतलब है कि पिछले महीने 13 जून को मंत्रिमंडल ने उत्तरप्रदेश के प्रकाशकों की सस्ती किताबों की मदद लेने का निर्णय लिया था। इसके लिए शासनादेश भी जारी किए जा चुके थे। यहां बता दें कि साल 2018-19 के लिए सरकार ने मुफ्त में किताबें छपवाने से खुद ही अपने कदम वापस खींच लिए थे जिसके बाद से सरकारी स्कूलों में पढ़ने वाले छात्र-छात्राओं को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। 

ये भी पढ़ें - राजाजी पार्क में हुए भर्ती घपले पर हाईकोर्ट हुआ सख्त, इससे जुड़े अधिकारियों पर गिरेगी गाज 


यहां बता दें कि राज्य में कक्षा 1 से 8वीं तक सभी छात्र-छात्राओं, कक्षा 9 से 12वीं तक अध्ययनरत सभी छात्रओं और अनुसूचित जाति व अनुसूचित जनजाति व पिछड़ी जाति के छात्र-छात्राओं को मुफ्त किताबों के एवज में किताबों की कीमत डायरेक्ट बेनिफिट ट्रांसफर योजना के तहत उनके बैंक खातों में भेजी जा रही है। इस वजह से करीब 7 लाख से ज्यादा छात्र-छात्राओं को 30 लाख से ज्यादा किताबें बाजार से खरीदनी होंगी लेकिन इतनी संख्या में किताबों की छपाई सरकार की ओर से नहीं कराई जा रही है। 

 

Todays Beets: