Saturday, December 16, 2017

Breaking News

   पशु तस्करों और पुलिस में मुठभेड़, जवाबी गोलीबारी में एक मरा, घायल गायें बरामद    ||   RTI में खुलासा- भगत सिंह-राजगुरु-सुखदेव को अब तक नहीं मिला शहीद का दर्जा, सरकारी किताब में बताया गया 'आतंकी'     ||    गुजरात चुनाव: रैली में बोले BJP नेता- दाढ़ी-टोपी वालों को कम करना पड़ेगा, डराने आया हूं ताकि वो आंख न उठा सकें    ||   मध्य प्रदेश: बाबरी विध्वंस पर जुलूस निकाल रहे विहिप-बजरंग दल कार्यकर्ता पर पथराव, भड़क गई हिंसा    ||   बैंक अकाउंट को आधार से जोड़ने की तारीख बढ़ी, जानिए क्या है नई तारीख    ||   पशु तस्करों और पुलिस में मुठभेड़, जवाबी गोलीबारी में एक मरा, घायल गायें बरामद     ||   अश्विन ने लगाया विकेटों का सबसे तेज 'तिहरा शतक', लिली को छोड़ा पीछे     ||   पूरा हुआ सपना चौधरी का 'सपना', बेघर होने के साथ बॉलीवुड से मिला बड़ा ऑफर    ||   PAK सरकार ने शर्तें मानीं, प्रदर्शन खत्म करने कानून मंत्री को देना पड़ा इस्तीफा    ||   मैदान पर विराट के आक्रामक रवैये पर राहुल द्रविड़ को सताई चिंता     ||

उत्तराखंड में क्रिकेट खिलाड़ियों का भविष्य होगा बेहतर, दोनों एसोसिएशनों का हुआ विलय

अंग्वाल न्यूज डेस्क
उत्तराखंड में क्रिकेट खिलाड़ियों का भविष्य होगा बेहतर, दोनों एसोसिएशनों का हुआ विलय

देहरादून। उत्तराखंड में खिलाड़ियों के हितों को सबसे ऊपर रखते हुए राजनीतिक विरोधी मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत और कांग्रेस के पूर्व विधायक हीरा सिंह बिष्ट ने आपस में हाथ मिला लिया है। दोनों ने मिलकर यूसीए के पूर्व सचिव राजेन्द्र पाल को सीएयू डेवलपमेंट कमेटी का नया अध्यक्ष बनाया है। इसके साथ ही यूसीए और सीएयू ने आपसी विलय की घोषणा कर दी। ऐसा होने से अब उत्तराखंड को बीसीसीआई से मान्यता मिलने का रास्ता साफ हो गया है। 

खिलाड़ियों का भविष्य बेहतर

गौरतलब है कि एसोसिएशनों के अहम की लड़ाई के चलते ही बीसीसीआई से उत्तराखंड क्रिकेट को मान्यता नहीं मिल रही थी। जिससे राज्य के खिलाड़ियों को दूसरे राज्यों में जाकर खेलना पड़ता था। यहां बता दें कि यूसीए के अध्यक्ष मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत हैं और क्रिकेट एसोसिएशन आॅफ उत्तराखंड (सीएयू) के अध्यक्ष हीरा सिंह बिष्ट हैं। क्रिकेट और खिलाड़ियों की भलाई को देखते हुए उन्होंने राजनीति को दरकिनार करते हुए कांग्रेस के पूर्व मंत्री हीरा सिंह बिष्ट से हाथ मिला लिया है। यूसीए ने अपने सभी पदाधिकारियों को अपनी एसोसिएशन को भंग करते हुए सीएयू में विलय कर लिया। खिलाड़ियों की बेहतरी के लिए उठाए गए इस कदम की काफी तारीफ हो रही है।

ये भी पढ़ें - सरकार के रवैये से नाराज प्राईवेट स्कूल आज मनाएंगे काला दिवस, करेंगे कार्यबहिष्कार

टी-20 एसोसिएशन ने किया समर्थन


आपको बता दें कि यूसीए के सचिव संजय गुसाईं ने बताया कि एसोसिएशनों के अहम के चलते ही बीसीसीआई से मान्यता मिलने में बड़ी अड़चन थी जो अब खत्म हो गई है। यूसीए और सीएयू के विलय को टी-20 एसोसिएशन ने भी अपना समर्थन दिया है। अब सबकी नजर 15 अक्टूबर को होने वाली बैठक पर टिकी है जिसमें बीसीसीआई से मान्यता की मांग पर भी चर्चा होगी। 

 

 

Todays Beets: