Monday, November 19, 2018

Breaking News

   एसबीआई ने क्लासिक कार्ड से पैसे निकालने के बदले नियम    ||   बाजार में मंगलवार को आई बहार, सेंसेक्स और निफ्टी में बढ़त     ||   हिंदूराव अस्पताल के ऑपरेशन थियेटर में निकला सांप , हंगामा     ||   सीबीआई के स्पेशल डायरेक्टर राकेश अस्थाना के आरोपों के बाद हो सकता है उनका लाइ डिटेक्टर टेस्ट    ||   देहरादून की मॉडल ने किया मुंबई में हंगामा , वाचमैन के साथ की हाथापाई , पुलिस आई तो उतार दिए कपड़े     ||   दंतेवाड़ा में नक्सली हमला, दो जवान शहीद , दुरदर्शन के कैमरामैन की भी मौत     ||   सेना हर चुनौती से न‍िपटने के ल‍िए तैयार, सर्जिकल स्ट्राइक भी व‍िकल्‍प: रणबीर सिंह    ||   BJP विधायक मानवेंद्र ने बदला पाला, राज्यवर्धन बोले- कांग्रेस ने 70 साल में मंत्री नहीं बनाया    ||   सबरीमाला मंदिर में महिलाओं के प्रवेश पर छिड़ी जंग, हिरासत में 30 प्रदर्शनकारी    ||   विवेक तिवारी हत्याकांडः HC की लखनऊ बेंच ने CBI जांच की मांग ठुकराई    ||

भ्रष्टाचार पर सरकार का जीरो टाॅलरेंस, एनएच 74 घोटाले में शामिल 2 आईएएस अधिकारी निलंबित

अंग्वाल न्यूज डेस्क
भ्रष्टाचार पर सरकार का जीरो टाॅलरेंस, एनएच 74 घोटाले में शामिल 2 आईएएस अधिकारी निलंबित

देहरादून। उत्तराखंड सरकार ने भ्रष्टाचार पर अपनी जीरो टाॅलरेंस नीति का परिचय देते हुए एनएच 74 मुआवजा घोटाले में कार्रवाई करते हुए 2 वरिष्ठ आईएएस अधिकारी पंकज पांडे और चंद्रेश कुमार को निलंबित कर दिया है।  इन अधिकारियांे पर जमीन अधिग्रहण में गड़बड़ी करने का आरोप है। फिलहाल दोनों अधिकारी अपर मुख्यसचिव कार्मिक कार्यालय में जुड़े रहेंगे। इन दोनों के खिलाफ जांच के लिए जल्द ही जांच अधिकारी तैनात किए जाएंगे। 

गौरतलब है कि ऊधमसिंह नगर में सितारगंज से बाजपुर के बीच एनएच 74 के चौड़ीकरण के लिए किसानों की जमीनें ली गई थीं। इनमें बड़े पैमाने पर गड़बड़ी की गई थी। अकृषि योग्य भूमि को भी कृषि योग्य बताकर सरकार को मुआवजा के  नाम पर करोड़ों रुपये का चूना लगाया गया था। इसे लेकर आयकर विभाग ने कई अधिकारियों के कार्यालय और घरों पर छापेमारी भी की गई है।

ये भी पढ़ें -चमोली के बाराहोती में एक फिर ‘ड्रैगन’ ने की घुसपैठ, 4 किलोमीटर तक आए अंदर


यहां बता दें कि एनएच 74 मुआवजा घोटाला की जांच एसआईटी कर रही है। अब उसकी रिपोर्ट के आधार पर ही कार्रवाई की गई है। दोनों अफसर मौजूदा समय में शासन में अपर सचिव के पद पर तैनात हैं। इससे पहले भी दोनों अधिकारियों से पूछताछ की गई थी। मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र रावत ने खुद दोनों अफसरों के निलंबन की पुष्टि की है। बता दें कि एनएच 74 घोटाला करीब 300 करोड़ रुपये का है। इस मामले में अब तक करीब 20 से ज्यादा लोग जेल जा चुके हैं इनमें 5 पीसीएस अधिकारी भी शामिल हैं।  

 

Todays Beets: