Friday, September 21, 2018

Breaking News

   ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण के पूर्व जीएम के ठिकानों पर आयकर के छापे     ||   बिहार: पूर्व मंत्री मदन मोहन झा बनाए गए प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष। सांसद अखिलेश सिंह बनाए गए अभियान समिति के अध्यक्ष। कौकब कादिरी समेत चार बनाए गए कार्यकारी अध्यक्ष।     ||   कर्नाटक के मंत्री शिवकुमार के खिलाफ ED ने मनी लॉन्ड्रिंग का केस दर्ज किया    ||   सीतापुर में श्रद्धालुओें से भरी बस खाई में पलटी 26 घायल, 5 की हालत गंभीर     ||   मंगल ग्रह पर आशियाना बनाएगा इंसान, वैज्ञानिकों को मिली पानी की सबसे बड़ी झील     ||   भाजपा नेता का अटपटा ज्ञान, 'मृत्युशैया पर हुमायूं ने बाबर से कहा था, गायों का सम्मान करो'     ||   आज से एक हुए IDEA-वोडाफोन! अब बनेगी देश की सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी     ||   गोवा में बड़ी संख्‍या में लोग बीफ खाते हैं, आप उन्‍हें नहीं रोक सकते: बीजेपी विधायक     ||   चीन फिर चल रहा 'चाल', डोकलाम में चुपचाप फिर शुरू कीं गतिविधियां : अमेरिकी अधिकारी     ||   नीरव मोदी, चोकसी के खिलाफ बड़ा एक्शन, 25-26 सितंबर को कोर्ट में पेश होने के आदेश     ||

भ्रष्टाचार पर सरकार का जीरो टाॅलरेंस, एनएच 74 घोटाले में शामिल 2 आईएएस अधिकारी निलंबित

अंग्वाल न्यूज डेस्क
भ्रष्टाचार पर सरकार का जीरो टाॅलरेंस, एनएच 74 घोटाले में शामिल 2 आईएएस अधिकारी निलंबित

देहरादून। उत्तराखंड सरकार ने भ्रष्टाचार पर अपनी जीरो टाॅलरेंस नीति का परिचय देते हुए एनएच 74 मुआवजा घोटाले में कार्रवाई करते हुए 2 वरिष्ठ आईएएस अधिकारी पंकज पांडे और चंद्रेश कुमार को निलंबित कर दिया है।  इन अधिकारियांे पर जमीन अधिग्रहण में गड़बड़ी करने का आरोप है। फिलहाल दोनों अधिकारी अपर मुख्यसचिव कार्मिक कार्यालय में जुड़े रहेंगे। इन दोनों के खिलाफ जांच के लिए जल्द ही जांच अधिकारी तैनात किए जाएंगे। 

गौरतलब है कि ऊधमसिंह नगर में सितारगंज से बाजपुर के बीच एनएच 74 के चौड़ीकरण के लिए किसानों की जमीनें ली गई थीं। इनमें बड़े पैमाने पर गड़बड़ी की गई थी। अकृषि योग्य भूमि को भी कृषि योग्य बताकर सरकार को मुआवजा के  नाम पर करोड़ों रुपये का चूना लगाया गया था। इसे लेकर आयकर विभाग ने कई अधिकारियों के कार्यालय और घरों पर छापेमारी भी की गई है।

ये भी पढ़ें -चमोली के बाराहोती में एक फिर ‘ड्रैगन’ ने की घुसपैठ, 4 किलोमीटर तक आए अंदर


यहां बता दें कि एनएच 74 मुआवजा घोटाला की जांच एसआईटी कर रही है। अब उसकी रिपोर्ट के आधार पर ही कार्रवाई की गई है। दोनों अफसर मौजूदा समय में शासन में अपर सचिव के पद पर तैनात हैं। इससे पहले भी दोनों अधिकारियों से पूछताछ की गई थी। मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र रावत ने खुद दोनों अफसरों के निलंबन की पुष्टि की है। बता दें कि एनएच 74 घोटाला करीब 300 करोड़ रुपये का है। इस मामले में अब तक करीब 20 से ज्यादा लोग जेल जा चुके हैं इनमें 5 पीसीएस अधिकारी भी शामिल हैं।  

 

Todays Beets: