Thursday, April 2, 2020

Breaking News

   भोपाल की बडी झील में पलटी आईपीएस अधिकारियों की नाव, कोई जनहानी नहीं    ||   सुरक्षा परिषद के मंच का दुरुपयोग करके कश्मीर मसले को उछालने की कोशिश कर रहा PAK: भारतीय विदेश मंत्रालय     ||   IIM कोझिकोड में बोले पीएम मोदी- भारतीय चिंतन में दुनिया की बड़ी समस्याओं को हल करने का है सामर्थ    ||   बिहार में रेलवे ट्रैक पर आई बैलगाड़ी को ट्रेन ने मारी टक्कर, 5 लोगों की मौत, 2 गंभीर रूप से घायल     ||   CAA और 370 पर बोले मालदीव के विदेश मंत्री- भारत जीवंत लोकतंत्र, दूसरे देशों को नहीं करना चाहिए दखल     ||   जेएनयू के वाइस चांसलर जगदीश कुमार ने कहा- हिंसा को लेकर यूनिवर्सिटी को बंद करने की कोई योजना नहीं     ||   मायावती का प्रियंका पर पलटवार- कांग्रेस ने की दलितों की अनदेखी, बनानी पड़ी BSP     ||   आर्मी चीफ पर भड़के चिदंबरम, कहा- आप सेना का काम संभालिए, राजनीति हमें करने दें     ||   राजस्थान: BJP प्रतिनिधिमंडल ने कोटा के अस्पताल का दौरा किया, 48 घंटों में 10 नवजात शिशुओं की हुई थी मौत     ||   दिल्ली: दरियागंज हिंसा के 15 आरोपियों की जमानत याचिका पर 7 जनवरी को सुनवाई करेगा तीस हजारी कोर्ट     ||

असम की हेमप्रभा ने पूरी श्रीमदभागवद गीता को उतारा कपड़े पर, अंग्रेजी अनुवाद भी बुने

अंग्वाल न्यूज डेस्क
असम की हेमप्रभा ने पूरी श्रीमदभागवद गीता को उतारा कपड़े पर, अंग्रेजी अनुवाद भी बुने

नई दिल्ली। असम की हेमप्रभा चुटिया ने कपड़ों पर बुनाई को एक नई ऊंचाई दी है। हेमप्रभा ने श्रीमदभागवत गीता के संस्कृत के 700 पदों को रेशम के एक कपड़े पर उतार दिया है। मूल रूप से डिब्रुगढ़ के रहने वाली हेमप्रभा चुटिया ने भगवद गीता के एक अध्याय के अंग्रेजी अनुवाद को भी कपड़े पर उतारा है। इससे पहले उन्होंने शंकरदेव के गुणमाला और महादेव के नाम घोसा को रेशम के कपड़े पर बुना था। हेमप्रभा को इसके लिए कई पुरस्कार से भी नवाजा जा चुका है। 

गौरतलब है कि असम की रहने वाली 62 साल की इस महिला ने पिछले 20 महीनों से श्रीमदभागवदगीता के पदों को रेशम के कपड़े पर बुनने का काम कर रही थी। आपको बता दें कि हेमप्रभा ने जिस रेशमी कपड़े पर इन 700 पदों को बुना है उसकी लंबाई 150 फीट है और चौड़ाई 2 फीट है। हेमप्रभा ने इस काम को पूरा करने के बाद कहा कि हिंदू संस्कृति का हिस्सा होने की वजह से इन पदों को कपड़े पर बुनकर उतारने की उनकी इच्छा थी जो अब पूरी हुई है। 


ये भी पढ़ें - महिला द्वारा हाथ मिलाने से इंकार करने पर नौकरी न देना पड़ा महंगा, लगा 3 लाख रुपये का जुर्माना

आपको बता दें कि हेमप्रभा ने इस बात भी खुशी जताई कि उनके काम को म्यूजियम में संरक्षित रखा जाएगा। इससे पहले भी उन्होंने कई अन्य संस्कृत के पदों को कपड़े पर बुनकर उतारा है और सरकार की ओर से कई पुरस्कारों से नवाजा गया है जिसमें बाकुल बोन अवॉर्ड, आई कनकलता अवॉर्ड और राज्य सरकार का हैंडलूम एंड टेक्सटाइल अवॉर्ड शामिल हैं। 

Todays Beets: