Friday, April 23, 2021

Breaking News

   कोरोनाः यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ को लगाई गई वैक्सीन     ||   महाराष्ट्रः वसूली केस की होगी सीबीआई जांच, फडणवीस बोले- अनिल देशमुख दें इस्तीफा     ||   ड्रग्स केस में गिरफ्तार अभिनेता एजाज खान कोरोना पॉजिटिव, NCB टीम का भी होगा टेस्ट     ||   मथुराः लेफ्टिनेंट जनरल मनोज कुमार कटियार बने वन स्ट्राइक कोर के कमांडर     ||   कर्नाटकः भ्रष्टाचार के मामले की जांच पर स्टे, सीएम येदियुरप्पा को SC ने दी राहत     ||   छत्तीसगढ़ः नक्सल के खिलाफ लड़ाई अब निर्णायक चरण में, हमारी जीत निश्चित है- अमित शाह     ||   यूपीः पंचायत चुनाव में 5 से अधिक लोगों के साथ प्रचार करने पर रोक, कोरोना के कारण फैसला     ||   स्विटजरलैंड में चेहरा ढकने पर लगाई गई पाबंदी , मुस्लिम संगठनों ने जताई आपत्ति     ||   सिंघु बॉर्डर के नजदीक अज्ञात लोगों ने रविवार रात की हवाई फायरिंग, पुलिस कर रही छानबीन     ||   जम्मू कश्मीर - प्रोफेसर अब्दुल बरी नाइक को पुलिस ने किया गिरफ्तार, युवाओं को बरगलाने का आरोप     ||

असम की हेमप्रभा ने पूरी श्रीमदभागवद गीता को उतारा कपड़े पर, अंग्रेजी अनुवाद भी बुने

अंग्वाल न्यूज डेस्क
असम की हेमप्रभा ने पूरी श्रीमदभागवद गीता को उतारा कपड़े पर, अंग्रेजी अनुवाद भी बुने

नई दिल्ली। असम की हेमप्रभा चुटिया ने कपड़ों पर बुनाई को एक नई ऊंचाई दी है। हेमप्रभा ने श्रीमदभागवत गीता के संस्कृत के 700 पदों को रेशम के एक कपड़े पर उतार दिया है। मूल रूप से डिब्रुगढ़ के रहने वाली हेमप्रभा चुटिया ने भगवद गीता के एक अध्याय के अंग्रेजी अनुवाद को भी कपड़े पर उतारा है। इससे पहले उन्होंने शंकरदेव के गुणमाला और महादेव के नाम घोसा को रेशम के कपड़े पर बुना था। हेमप्रभा को इसके लिए कई पुरस्कार से भी नवाजा जा चुका है। 

गौरतलब है कि असम की रहने वाली 62 साल की इस महिला ने पिछले 20 महीनों से श्रीमदभागवदगीता के पदों को रेशम के कपड़े पर बुनने का काम कर रही थी। आपको बता दें कि हेमप्रभा ने जिस रेशमी कपड़े पर इन 700 पदों को बुना है उसकी लंबाई 150 फीट है और चौड़ाई 2 फीट है। हेमप्रभा ने इस काम को पूरा करने के बाद कहा कि हिंदू संस्कृति का हिस्सा होने की वजह से इन पदों को कपड़े पर बुनकर उतारने की उनकी इच्छा थी जो अब पूरी हुई है। 


ये भी पढ़ें - महिला द्वारा हाथ मिलाने से इंकार करने पर नौकरी न देना पड़ा महंगा, लगा 3 लाख रुपये का जुर्माना

आपको बता दें कि हेमप्रभा ने इस बात भी खुशी जताई कि उनके काम को म्यूजियम में संरक्षित रखा जाएगा। इससे पहले भी उन्होंने कई अन्य संस्कृत के पदों को कपड़े पर बुनकर उतारा है और सरकार की ओर से कई पुरस्कारों से नवाजा गया है जिसमें बाकुल बोन अवॉर्ड, आई कनकलता अवॉर्ड और राज्य सरकार का हैंडलूम एंड टेक्सटाइल अवॉर्ड शामिल हैं। 

Todays Beets: