Saturday, January 16, 2021

Breaking News

   सरकार की सत्याग्रही किसानों को इधर-उधर की बातों में उलझाने की कोशिश बेकार है-राहुल गांधी     ||   थाइलैंड में साइना नेहवाल कोरोना पॉजिटिव, बैडमिंटन चैम्पियनशिप में हिस्सा लेने गई हैं विदेश     ||   एयर एशिया के विमान से पुणे से दिल्ली पहुंची कोरोना वैक्सीन की पहली खेप     ||   फिटनेस समस्या की वजह से भारत-ऑस्ट्रेलिया चौथे टेस्ट से गेंदबाज जसप्रीत बुमराह बाहर     ||   दिल्ली: हरियाणा के डिप्टी सीएम दुष्यंत चौटाला की पार्टी विधायकों के साथ बैठक, किसान आंदोलन पर चर्चा     ||   हम अपने पसंद के समय, स्थान और लक्ष्य पर प्रतिक्रिया देने का अधिकार सुरक्षित रखते हैं- आर्मी चीफ     ||   कानपुर: विकास दुबे और उसके गुर्गों समेत 200 लोगों की असलहा लाइसेंस फाइल हुई गायब     ||   हाथरस कांड: यूपी सरकार ने SC में पीड़िता के परिवार की सुरक्षा पर दाखिल किया हलफनामा     ||   लखनऊ: आत्मदाह की कोशिश मामले में पूर्व राज्यपाल के बेटे को हिरासत में लिया गया     ||   मानहानि केस: पायल घोष ने ऋचा चड्ढा से बिना शर्त माफी मांगी     ||

उत्तरकाशी में स्थित यह तालाब है रहस्य का केंद्र, ताली बजाने से उठते हैं बुलबुले

अंग्वाल न्यूज डेस्क
उत्तरकाशी में स्थित यह तालाब है रहस्य का केंद्र, ताली बजाने से उठते हैं बुलबुले

उत्तरकाशी। अक्सर आपने ताली बजाने से शरीर में खून का संचार तेज होने की बातें सुनी होगी। अगर कोई आपसे यह कहे कि ताली बजाने से तालाब के पानी में से बुलबुले उठते हैं तो शायद की कोई इस बात पर यकीन करेगा लेकिन यह सच है। जी हां, हम बात कर रहे हैं उत्तराखंड के उत्तरकाशी जिले में स्थित मंगलाछु ताल की। यह ताल उत्तरकाशी से 80 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है और यह पर्यटकों के लिए एक पहेली बनी हुई है। हालांकि इस इलाके के लोग इसे अब भी एक आस्था का विषय मानते हैं। 

गौरतलब है कि हिमालय की सुंदर वादियां हमेशा से रोमांच और साहस से भरपूर खेलों का केंद्र रहा है। इस क्षेत्र में आज भी ऐसे कई क्षेत्र हैं जो उनके लिए एक रहस्य बने हुए हैं। उत्तरकाशी जिले से कुछ दूरी पर स्थित मंगलाछु ताल एक ऐसी ही एक जगह है। ऐसा कहा जाता है कि इस ताल के करीब ताली बजाने या शोर करने से ताल में से बुलबुले उठने लगते हैं। 

बता दें कि यह जगह समुद्र तल से करीब साढ़े 3 हजार मीटर की ऊंचाई पर स्थित है। यह जगह गंगा के शीतकालीन पड़ाव मुखवा के करीब पड़ता है। करीब 6 किलोमीटर लंबा यह ट्रैक फूलों की घाटी के बीच से होकर गुजरता है। आजादी से पहले इस क्षेत्र में भारत-तिब्बत का व्यापार मेला लगता था। 


ये भी पढ़ें - फैशन के इस दौर में एक अनोखा गांव, जूते-चप्पल पहनने की है मनाही

नागणी से 2 किमी की दूरी पर 200 मीटर के दायरे में फैला मंगलाछु ताल है। यह ताल आकार के हिसाब से तो छोटा है, लेकिन रहस्य के हिसाब से बहुत बड़ा है। ट्रैकिंग से जुड़े मुखवा निवासी गगन सेमवाल कहते हैं, मान्यताएं जो भी हों लेकिन मंगलाछु ताल के पास शोर करते ही उसकी निचली सतह से बुलबुले उठते देखना बेहद रोमांचकारी अनुभव होता है। पर्यटक इसे देखने के लिए आतुर रहते हैं। पौराणिक मान्यताओं के अनुसार हिमाचल प्रदेश के कुल्लू से सोमेश्वर देवता को लेकर यहां पहुंचे थे और इसी ताल में स्नान कराया था। वहीं कुछ लोगों का यह भी मानना है कि बारिश न होने की सूरत में स्थानीय लोग देवता को लेकर इस तालाब की पूजा करने आते हैं। 

 

Todays Beets: