Friday, April 23, 2021

Breaking News

   कोरोनाः यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ को लगाई गई वैक्सीन     ||   महाराष्ट्रः वसूली केस की होगी सीबीआई जांच, फडणवीस बोले- अनिल देशमुख दें इस्तीफा     ||   ड्रग्स केस में गिरफ्तार अभिनेता एजाज खान कोरोना पॉजिटिव, NCB टीम का भी होगा टेस्ट     ||   मथुराः लेफ्टिनेंट जनरल मनोज कुमार कटियार बने वन स्ट्राइक कोर के कमांडर     ||   कर्नाटकः भ्रष्टाचार के मामले की जांच पर स्टे, सीएम येदियुरप्पा को SC ने दी राहत     ||   छत्तीसगढ़ः नक्सल के खिलाफ लड़ाई अब निर्णायक चरण में, हमारी जीत निश्चित है- अमित शाह     ||   यूपीः पंचायत चुनाव में 5 से अधिक लोगों के साथ प्रचार करने पर रोक, कोरोना के कारण फैसला     ||   स्विटजरलैंड में चेहरा ढकने पर लगाई गई पाबंदी , मुस्लिम संगठनों ने जताई आपत्ति     ||   सिंघु बॉर्डर के नजदीक अज्ञात लोगों ने रविवार रात की हवाई फायरिंग, पुलिस कर रही छानबीन     ||   जम्मू कश्मीर - प्रोफेसर अब्दुल बरी नाइक को पुलिस ने किया गिरफ्तार, युवाओं को बरगलाने का आरोप     ||

उत्तरकाशी में स्थित यह तालाब है रहस्य का केंद्र, ताली बजाने से उठते हैं बुलबुले

अंग्वाल न्यूज डेस्क
उत्तरकाशी में स्थित यह तालाब है रहस्य का केंद्र, ताली बजाने से उठते हैं बुलबुले

उत्तरकाशी। अक्सर आपने ताली बजाने से शरीर में खून का संचार तेज होने की बातें सुनी होगी। अगर कोई आपसे यह कहे कि ताली बजाने से तालाब के पानी में से बुलबुले उठते हैं तो शायद की कोई इस बात पर यकीन करेगा लेकिन यह सच है। जी हां, हम बात कर रहे हैं उत्तराखंड के उत्तरकाशी जिले में स्थित मंगलाछु ताल की। यह ताल उत्तरकाशी से 80 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है और यह पर्यटकों के लिए एक पहेली बनी हुई है। हालांकि इस इलाके के लोग इसे अब भी एक आस्था का विषय मानते हैं। 

गौरतलब है कि हिमालय की सुंदर वादियां हमेशा से रोमांच और साहस से भरपूर खेलों का केंद्र रहा है। इस क्षेत्र में आज भी ऐसे कई क्षेत्र हैं जो उनके लिए एक रहस्य बने हुए हैं। उत्तरकाशी जिले से कुछ दूरी पर स्थित मंगलाछु ताल एक ऐसी ही एक जगह है। ऐसा कहा जाता है कि इस ताल के करीब ताली बजाने या शोर करने से ताल में से बुलबुले उठने लगते हैं। 

बता दें कि यह जगह समुद्र तल से करीब साढ़े 3 हजार मीटर की ऊंचाई पर स्थित है। यह जगह गंगा के शीतकालीन पड़ाव मुखवा के करीब पड़ता है। करीब 6 किलोमीटर लंबा यह ट्रैक फूलों की घाटी के बीच से होकर गुजरता है। आजादी से पहले इस क्षेत्र में भारत-तिब्बत का व्यापार मेला लगता था। 


ये भी पढ़ें - फैशन के इस दौर में एक अनोखा गांव, जूते-चप्पल पहनने की है मनाही

नागणी से 2 किमी की दूरी पर 200 मीटर के दायरे में फैला मंगलाछु ताल है। यह ताल आकार के हिसाब से तो छोटा है, लेकिन रहस्य के हिसाब से बहुत बड़ा है। ट्रैकिंग से जुड़े मुखवा निवासी गगन सेमवाल कहते हैं, मान्यताएं जो भी हों लेकिन मंगलाछु ताल के पास शोर करते ही उसकी निचली सतह से बुलबुले उठते देखना बेहद रोमांचकारी अनुभव होता है। पर्यटक इसे देखने के लिए आतुर रहते हैं। पौराणिक मान्यताओं के अनुसार हिमाचल प्रदेश के कुल्लू से सोमेश्वर देवता को लेकर यहां पहुंचे थे और इसी ताल में स्नान कराया था। वहीं कुछ लोगों का यह भी मानना है कि बारिश न होने की सूरत में स्थानीय लोग देवता को लेकर इस तालाब की पूजा करने आते हैं। 

 

Todays Beets: