Sunday, January 17, 2021

Breaking News

   सरकार की सत्याग्रही किसानों को इधर-उधर की बातों में उलझाने की कोशिश बेकार है-राहुल गांधी     ||   थाइलैंड में साइना नेहवाल कोरोना पॉजिटिव, बैडमिंटन चैम्पियनशिप में हिस्सा लेने गई हैं विदेश     ||   एयर एशिया के विमान से पुणे से दिल्ली पहुंची कोरोना वैक्सीन की पहली खेप     ||   फिटनेस समस्या की वजह से भारत-ऑस्ट्रेलिया चौथे टेस्ट से गेंदबाज जसप्रीत बुमराह बाहर     ||   दिल्ली: हरियाणा के डिप्टी सीएम दुष्यंत चौटाला की पार्टी विधायकों के साथ बैठक, किसान आंदोलन पर चर्चा     ||   हम अपने पसंद के समय, स्थान और लक्ष्य पर प्रतिक्रिया देने का अधिकार सुरक्षित रखते हैं- आर्मी चीफ     ||   कानपुर: विकास दुबे और उसके गुर्गों समेत 200 लोगों की असलहा लाइसेंस फाइल हुई गायब     ||   हाथरस कांड: यूपी सरकार ने SC में पीड़िता के परिवार की सुरक्षा पर दाखिल किया हलफनामा     ||   लखनऊ: आत्मदाह की कोशिश मामले में पूर्व राज्यपाल के बेटे को हिरासत में लिया गया     ||   मानहानि केस: पायल घोष ने ऋचा चड्ढा से बिना शर्त माफी मांगी     ||

अलवर में महिला ने दिया 'प्लास्टिक बेबी' को जन्म , बच्चा देख स्टॉफ के उड़ गए होश

अंग्वाल संवाददाता
अलवर में महिला ने दिया

अलवर । राजस्थान के भरतपुर जिले के सीकरी निवासी एक महिला ने गत सोमवार अलवर के एक अस्पताल में दुर्लभ बीमारी से ग्रस्त बच्चे को जन्म दिया है। इस बीमारी से ग्रस्त बच्चों को कोलाडियन बेबी कहा जाता है, जो 3 लाख में से एक बच्चे हो होती है। इस बीमारी से ग्रस्त बच्चा एक प्लास्टिक जैसी परत के भीतर होता है, जिसे हटाने से शिशु के शरीर से खून निकलता है। बहरहाल, प्रसव पीड़ा होने के दौरान जैसे ही अस्पताल स्टॉफ ने इस महिला के नवजात को देखा तो वह खबरा गए। बच्चे के शरीर पर प्लास्टिक जैसी परत को जैसे ही हटाया गया, शिशु के शऱीर से खून निकलने लगा, हालांकि डॉक्टरों ने बाद में बच्चे को बचा लिया।

जानकारी के मुताबिक , भरतपुर निवासी सिमरन को प्रसव पीड़ा होने पर असवर के साहिल अस्पताल में भर्ती करवाया गया। प्रसव के दौरान नवजात ने जन्म लिया तो वह एक प्लास्टिक जैसी एक परत के भीतर था, उसे जैसे ही हटाया गया शिशु के शरीर से खून बहने लगा। यह सब देख अस्पताल का स्टाफ घबरा गया। 


आनन फानन में नवजात को जयपुर के जेके लोन अस्पताल में रेफर किया गया। डॉक्टरों ने बताया कि लाखों बच्चों में एक ऐसा केस होता है, जिसे प्लास्टिक बेबी कहा जाता है। अस्पताल के डॉक्टरों ने बताया कि यह बच्चा कोलोडियोंन बीमारी से ग्रस्त है। य़ह एक प्रकार की आनुवांशिक बीमारी होती है जो समय से साथ ही ठीक होती है। बहरहाल, अस्पताल के डॉक्टरों ने बच्चे का इलाज शुरू कर दिया है, फिलहाल बच्चा खतरे से बाहर है।    

 

Todays Beets: