Thursday, April 2, 2020

Breaking News

   भोपाल की बडी झील में पलटी आईपीएस अधिकारियों की नाव, कोई जनहानी नहीं    ||   सुरक्षा परिषद के मंच का दुरुपयोग करके कश्मीर मसले को उछालने की कोशिश कर रहा PAK: भारतीय विदेश मंत्रालय     ||   IIM कोझिकोड में बोले पीएम मोदी- भारतीय चिंतन में दुनिया की बड़ी समस्याओं को हल करने का है सामर्थ    ||   बिहार में रेलवे ट्रैक पर आई बैलगाड़ी को ट्रेन ने मारी टक्कर, 5 लोगों की मौत, 2 गंभीर रूप से घायल     ||   CAA और 370 पर बोले मालदीव के विदेश मंत्री- भारत जीवंत लोकतंत्र, दूसरे देशों को नहीं करना चाहिए दखल     ||   जेएनयू के वाइस चांसलर जगदीश कुमार ने कहा- हिंसा को लेकर यूनिवर्सिटी को बंद करने की कोई योजना नहीं     ||   मायावती का प्रियंका पर पलटवार- कांग्रेस ने की दलितों की अनदेखी, बनानी पड़ी BSP     ||   आर्मी चीफ पर भड़के चिदंबरम, कहा- आप सेना का काम संभालिए, राजनीति हमें करने दें     ||   राजस्थान: BJP प्रतिनिधिमंडल ने कोटा के अस्पताल का दौरा किया, 48 घंटों में 10 नवजात शिशुओं की हुई थी मौत     ||   दिल्ली: दरियागंज हिंसा के 15 आरोपियों की जमानत याचिका पर 7 जनवरी को सुनवाई करेगा तीस हजारी कोर्ट     ||

वैज्ञानिकों ने ग्लोबल वार्मिंग से निपटने के बताए उपाय, ऊंचाई से नमक गिराने से मिलेगी राहत!

अंग्वाल न्यूज डेस्क
वैज्ञानिकों ने ग्लोबल वार्मिंग से निपटने के बताए उपाय, ऊंचाई से नमक गिराने से मिलेगी राहत!

नई दिल्ली। ग्लोबल वार्मिंग के असर को कम करने के लिए दुनिया भर में प्रयास किए जा रहे हैं। वैज्ञानिक इसमें अपने तरीके शोध कर उपाय बताने में लगे हैं। अब वैज्ञानिकों ने एक बहुत ही सस्ता उपाय बताया है। उनका कहना है कि अगर धरती पर 11 मील की ऊंचाई से नमक गिराया जाए तो धरती पर आने वाली पराबैंगनी किरणें नमक के कणों से टकराकर वापस लौट जाएंगी जिससे धरती का तापमान कम हो जाएगा। कुछ वैज्ञानिकों ने इस उपाय का स्वागत तो किया है लेकिन उनका कहना है कि अगर ऐसा होता है तो धरती एक समय के बाद पूरी तरह से ठंडी हो जाएगी और पूरी तरह से नष्ट हो जाएगी। 

यहां बता दें कि कुछ वैज्ञानिकों ने धरती पर आने वाली अल्ट्रावायलेट किरणों को रोकने के लिए आकाश में हीलियम गैस छोड़ने या फिर एक बड़ा शीशा लगाने की बात भी कह चुके हैं। टैक्सस के डॉ रॉबर्ट नेल्सन से यह विकल्प एक कॉफ्रेंस में सुझाया था। उनका कहना है कि ट्रोपोस्फीयर में नमक छिड़कने से वातारवण सफेद हो जाएगा इससे मौसम में कोई बुरा प्रभाव नहीं पड़ेगा। इससे पहले उन्होंने एल्यूमीनियम ऑक्साइड और सल्फर डाइऑक्साइड का प्रयोग करने की सोची थी  लेकिन इससे फेफड़ों में दिक्कत हो सकती है और अम्ल वर्षा यानी एसिड रेन होनी की संभावना रहती है।

ये भी पढ़ें - जानिए एक ऐसी जगह के बारे में, जहां 70 साल की उम्र में भी जवां दिखती हैं महिलाएं


इस लेटेस्ट जियो इंजीनियरिंग प्लैन के कंसेप्ट की तुलना ज्वालामुखी के फूटने से कर सकते हैं। जैसे घरती के गर्म होने पर ज्वालामुखी फूटता है वैसे ही ये कंसेप्ट काम करेगा। वहीं कुछ वैज्ञानिकों का कहना है कि इस कृत्रिम तरीके से धरती को ठंडा तो ठीक है लेकिन इस प्रक्रिया का एकाएक रुकना धरती को नष्ट कर सकता है। 

 

Todays Beets: