Sunday, February 28, 2021

Breaking News

   सरकार की सत्याग्रही किसानों को इधर-उधर की बातों में उलझाने की कोशिश बेकार है-राहुल गांधी     ||   थाइलैंड में साइना नेहवाल कोरोना पॉजिटिव, बैडमिंटन चैम्पियनशिप में हिस्सा लेने गई हैं विदेश     ||   एयर एशिया के विमान से पुणे से दिल्ली पहुंची कोरोना वैक्सीन की पहली खेप     ||   फिटनेस समस्या की वजह से भारत-ऑस्ट्रेलिया चौथे टेस्ट से गेंदबाज जसप्रीत बुमराह बाहर     ||   दिल्ली: हरियाणा के डिप्टी सीएम दुष्यंत चौटाला की पार्टी विधायकों के साथ बैठक, किसान आंदोलन पर चर्चा     ||   हम अपने पसंद के समय, स्थान और लक्ष्य पर प्रतिक्रिया देने का अधिकार सुरक्षित रखते हैं- आर्मी चीफ     ||   कानपुर: विकास दुबे और उसके गुर्गों समेत 200 लोगों की असलहा लाइसेंस फाइल हुई गायब     ||   हाथरस कांड: यूपी सरकार ने SC में पीड़िता के परिवार की सुरक्षा पर दाखिल किया हलफनामा     ||   लखनऊ: आत्मदाह की कोशिश मामले में पूर्व राज्यपाल के बेटे को हिरासत में लिया गया     ||   मानहानि केस: पायल घोष ने ऋचा चड्ढा से बिना शर्त माफी मांगी     ||

माता का ऐसा मंदिर जहां पुरुष 16 श्रृंगार करके है पूजा , मनोकामना पूरी होने पर दान करते हैं श्रृंगार का सामान

अंग्वाल न्यूज डेस्क
माता का ऐसा मंदिर जहां पुरुष 16 श्रृंगार करके है पूजा , मनोकामना पूरी होने पर दान करते हैं श्रृंगार का सामान

नई दिल्ली । क्या आप भारत के ऐसे मंदिर के बारे में जानते हैं जहां पुरुषों को पूरे श्रंगार के साथ प्रवेश करना होता है । अब भले ही आपको सुनने में यह बात अटपटी जरूर लगे , लेकिन बात सच है और यह मंदिर कहीं और नहीं बल्कि केरल के कोल्लम जिले स्थित कोट्टनकुलंगरा में स्थित है । इस मंदिर में प्रवेश के लिए लोगों को पूरे 16 श्रृंगार करना जरूरी है । ऐसी मान्यता है कि ऐसा करके मंदिर में प्रवेश करने वाले पुरुषों को न केवल मनचाही पत्नी मिलती है , बल्कि उन्हें नौकरी भी मिलती है । 

असल में इस मंदिर का नाम है श्री कोट्टनकुलंगरा देवी मंदिर (Shri Kottankulangara Mandir) । ऐसी मान्यता है कि इस मंदिर में देवी की मूर्ति किसी ने स्थापित नहीं की बल्कि यह अपने आप स्थापित हुई है । कुछ चरवाहों ने माता की मूर्ति को देखा और इस मूर्ति की पूजा महिला का रूप धारण करके की ।  तभी से पुरुषों को इस मंदिर में प्रवेश के लिए महिलाओं का रूप धारण करना पड़ता है । 


इस मंदिर में पुरुषों के सजने के लिए एक कमरा बनाया गया है, जहां सजने का सारा इंतजार किया गया है। मसलन यहां महिलाओं के कपड़े , नकली बाल , नकली गहनों से लेकर 16 श्रृंगार में काम आने वाला सारा सामान मौजूद होता है । 

ऐसा कहा जाता है कि जब भी किसी पुरुष की मनोकामना पूरी होती है तो वह इस मंदिर में आकर महिलाओं के श्रृंगार का सामान दान करता है । खास बात यह है कि इस मंदिर में हर साल 23 और 24 मार्च को चाम्याविलक्कू उत्सव धूमधाम से मनाया जाता है । 

Todays Beets: