Sunday, July 12, 2020

Breaking News

   राजस्थान में फिर सियासी ड्रामा, BJP के बहाने गहलोत-पायलट में ठनी     ||   कानपुर गोलीकांड की जांच के लिए एसआईटी गठित, 31 जुलाई तक सौंपनी होगी रिपोर्ट     ||   धमकी देकर फरीदाबाद में रिश्तेदार के घर रुका था विकास, अमर दुबे से हुआ था झगड़ा     ||   राजस्थान: विधायकों को राज्य से बाहर जाने से रोकने के लिए सीमा पर बढ़ाई गई चौकसी     ||   हार्दिक पटेल गुजरात प्रदेश कांग्रेस कमेटी के कार्यकारी अध्यक्ष नियुक्त     ||   गुवाहाटी केंद्रीय जेल में बंद आरटीआई कार्यकर्ता अखिल गोगोई समेत 33 कैदी कोरोना पॉजिटिव     ||   अमिताभ बच्चन कोरोना पॉजिटिव, नानावती अस्पताल में कराए गए भर्ती     ||   राजस्थान सरकार का प्राइवेट स्कूलों को आदेश- स्कूल खुलने तक फीस न लें     ||   गुजरात सरकार में मंत्री रमन पाटकर कोरोना वायरस से संक्रमित     ||   विकास दुबे पर पुलिस की नाकामी से भड़के योगी, खुद रख रहे ऑपरेशन पर नजर!     ||

जल्द ही स्कूलों में पढ़ाई जाएगी , ब्रज, भोजपुरी , अवधी और बुंदेलखंड़ी , एनसीईआरटी ने लिया फैसला

अंग्वाल न्यूज डेस्क
जल्द ही स्कूलों में पढ़ाई जाएगी , ब्रज, भोजपुरी , अवधी और बुंदेलखंड़ी , एनसीईआरटी ने लिया फैसला

नई दिल्ली । मनुष्य किसी भी भाषा के ज्ञान को अपनी बोली में ज्यादा अच्छे से समझ पाता है इसी बात को ध्यान में रखते हुए एनसीईआरटी ने सरकारी स्कूलों में बच्चों को हिंदी भाषा सिखाने के लिए नई योजना बनाई है।  एनसीईआरटी की तरफ से सरकारी स्कूलों की पहली और दूसरी कक्षा के बच्चों को हिंदी के "कलरव" को ब्रज, अवधी , भोजपुरी और बुंदेलखंड़ी जैसी  देशज भाषा में सिखाने का काम किया जाएगा।

यें भी पढ़ें- देश से फरार हीरा कारोबारी ‘नीरव’ को जल्द लाया जाएगा भारत, विशेष कोर्ट ने प्रत्यर्पण की अपील की मंजूर

 राज्य शैक्षिक अनुसंधान एवं प्रशिक्षण परिषद (एससीईआरटी) ने हिंदी की किताबों का अनुवाद देशज भाषा में करवाना शुरू भी कर दिया है जिसमें से अवधी भाषा की किताबें डिजिटल और ऑडियो में छप भी गई हैं तो वहीं बुंदेलखंडी, भोजपुरी और ब्रज भाषा में अनुवाद का काम चल रहा है। बता दें कि अनुवाद की गई किताबें देश के उन राज्यों में जाएगी जहां इन भाषाओं का प्रयोग होता है। 


यें भी पढ़ें- गढ़वा में नक्सलियों का जगुआर फोर्स पर हमला, 6 जवान शहीद 5 घायल

एनसीईआरटी के संयुक्त निदेशक अजय कुमार सिंह ने कहा है कि अभी हम अनुवाद की गई पुस्तकों का प्रयोग पहली और दूसरी कक्षा के बच्चों पर कर रहे हैं । अगर इस प्रयोग का फायदा होता है तो तीसरी कक्षा के छात्रों की हिंदी की  पुस्तकों का भी अनुवाद और ऑडियो तैयार किया जाएगा।

Todays Beets: