Tuesday, November 12, 2019

Breaking News

   दिल्ली में भी भोपाल जैसा हनी ट्रैप , कई रईसजादों को विदेशी लड़कियों की मदद से फंसाया    ||   घाटी में घनघटाने लगीं मोबाइल फोन की घंटियां, इंटरनेट पर अभी भी प्रतिबंध    ||   इकबाल मिर्ची की इमारत में प्रफुल्ल पटेल का भी फ्लैट , ईडी ने भेजा समन    ||   रणवीर सिंह ने ठुकराया संजय लीला भंसाली की फिल्म का ऑफर , आलिया भट्ट हैं फिल्म की हिरोइन    ||   वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण के पति ने भी माना- अर्थव्यवस्था की हालत खराब     ||   दिल्ली में डेंगू ने तोड़ा रिकॉर्ड, इस हफ्ते में 111 नए मामले आए सामने     ||   अगस्ता वेस्टलैंड मनी लॉन्ड्रिंग केस: 25 अक्टूबर तक बढ़ी रतुल पुरी की न्यायिक हिरासत     ||   तमिलनाडु: मसाले की फैक्ट्री में लगी आग, मौके पर दमकल की गाड़ियां मौजूद     ||   Parle में छंटनी का संकट: मयंक शाह बोले- सरकार से अहसान नहीं मांग रहे     ||   ILFS लोन मामले में MNS प्रमुख राज ठाकरे से ED की पूछताछ    ||

स्कूलों में अब बच्चे नहीं दिखा पाएंगे ‘दादागिरी’, जुर्माने के साथ हो सकते हैं निलंबित

अंग्वाल न्यूज डेस्क
स्कूलों में अब बच्चे नहीं दिखा पाएंगे ‘दादागिरी’, जुर्माने के साथ हो सकते हैं निलंबित

नई दिल्ली। केन्द्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) के बाद अब शिक्षा निदेशालय ने स्कूलों में बुलिंग (बच्चों की हेकड़ी) और रैगिंग पर लगाम लगाने की तैयारी शुरू कर दी है।  शिक्षा निदेशालय ने रैगिंग और बुलिंग करने पर सख्त कदम उठाते हुए कहा कि अगर कोई भी बच्चा ऐसा करते हुए पाया गया तो उसे लिखित चेतावनी देने के साथ ही निलंबित भी किया जा सकता है। इसके साथ ही स्कूलों में दादागिरी करने वाले छात्रों के फीडबैक लेने के लिए सुझाव पेटी भी लगाने के निर्देश दिए हैं। 

गौरतलब है कि शिक्षा निदेशालय का मानना है कि स्कूलों के माहौल को स्वस्थ रखने के लिए इस तरह की घटनाओं से दूर रखना चाहिए। निदेशालय का कहना है कि शारीरिक तौर पर कमजोर बच्चों पर दादागिरी दिखाने वाले बच्चों को स्कूल कैंपस से दूर रखने के साथ ही उसे दंडित करने की भी वकालत की है। स्कूलों में बुलिंग और रैगिंग की गतिविधियों को रोकने के लिए एक स्टैंडिंग कमेटी का गठन होना चाहिए।


ये भी पढ़ें- अश्लील सामग्री परोसी तो देना होगा 15 करोड़ का जुर्माना, आईटी एक्ट में होगा बदलाव

यहां बता दें कि शिक्षा निदेशालय ने कहा कि स्कूल संचालकों के लिए ऐसे गाइडलाइंस बनाने के निर्देश दिए हैं जिनमें दंड की भी व्यवस्था होनी चाहिए। निदेशालय ने ऐसे बच्चों को मौखिक और लिखित चेतावनी देने के साथ ही कुछ समय के स्कूल से निलंबन और कुछ जुर्माना लगाए जाने की भी सिफारिश की है। 

Todays Beets: