Wednesday, September 18, 2019

Breaking News

   Parle में छंटनी का संकट: मयंक शाह बोले- सरकार से अहसान नहीं मांग रहे     ||   ILFS लोन मामले में MNS प्रमुख राज ठाकरे से ED की पूछताछ    ||   दिल्ली: प्रगति मैदान के पास निर्माणाधीन इमारत में लगी आग    ||   मध्य प्रदेश: टेरर फंडिंग मामले में 5 हिरासत में, जांच जारी     ||   जिन्होंने 72 हजार देने का वादा किया था, वे 72 सीटें भी नहीं जीत पाए : मोदी     ||   प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 25 अगस्त को दिन में 11 बजे करेंगे मन की बात     ||   कोलकाता के पूर्व मेयर और TMC विधायक शोभन चटर्जी, बैसाखी बनर्जी BJP में शामिल     ||   गुजरात में बड़ा हमला कर सकते हैं आतंकी, सुरक्षा एजेंसियों का राज्य पुलिस को अलर्ट     ||   अयोध्या केस: मध्यस्थता की कोशिश खत्म, कल सुप्रीम कोर्ट में होगी सुनवाई     ||   पोंजी घोटाला: 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेजा गया आरोपी मंसूर खान     ||

स्कूलों में अब बच्चे नहीं दिखा पाएंगे ‘दादागिरी’, जुर्माने के साथ हो सकते हैं निलंबित

अंग्वाल न्यूज डेस्क
स्कूलों में अब बच्चे नहीं दिखा पाएंगे ‘दादागिरी’, जुर्माने के साथ हो सकते हैं निलंबित

नई दिल्ली। केन्द्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) के बाद अब शिक्षा निदेशालय ने स्कूलों में बुलिंग (बच्चों की हेकड़ी) और रैगिंग पर लगाम लगाने की तैयारी शुरू कर दी है।  शिक्षा निदेशालय ने रैगिंग और बुलिंग करने पर सख्त कदम उठाते हुए कहा कि अगर कोई भी बच्चा ऐसा करते हुए पाया गया तो उसे लिखित चेतावनी देने के साथ ही निलंबित भी किया जा सकता है। इसके साथ ही स्कूलों में दादागिरी करने वाले छात्रों के फीडबैक लेने के लिए सुझाव पेटी भी लगाने के निर्देश दिए हैं। 

गौरतलब है कि शिक्षा निदेशालय का मानना है कि स्कूलों के माहौल को स्वस्थ रखने के लिए इस तरह की घटनाओं से दूर रखना चाहिए। निदेशालय का कहना है कि शारीरिक तौर पर कमजोर बच्चों पर दादागिरी दिखाने वाले बच्चों को स्कूल कैंपस से दूर रखने के साथ ही उसे दंडित करने की भी वकालत की है। स्कूलों में बुलिंग और रैगिंग की गतिविधियों को रोकने के लिए एक स्टैंडिंग कमेटी का गठन होना चाहिए।


ये भी पढ़ें- अश्लील सामग्री परोसी तो देना होगा 15 करोड़ का जुर्माना, आईटी एक्ट में होगा बदलाव

यहां बता दें कि शिक्षा निदेशालय ने कहा कि स्कूल संचालकों के लिए ऐसे गाइडलाइंस बनाने के निर्देश दिए हैं जिनमें दंड की भी व्यवस्था होनी चाहिए। निदेशालय ने ऐसे बच्चों को मौखिक और लिखित चेतावनी देने के साथ ही कुछ समय के स्कूल से निलंबन और कुछ जुर्माना लगाए जाने की भी सिफारिश की है। 

Todays Beets: