Friday, March 5, 2021

Breaking News

   सरकार की सत्याग्रही किसानों को इधर-उधर की बातों में उलझाने की कोशिश बेकार है-राहुल गांधी     ||   थाइलैंड में साइना नेहवाल कोरोना पॉजिटिव, बैडमिंटन चैम्पियनशिप में हिस्सा लेने गई हैं विदेश     ||   एयर एशिया के विमान से पुणे से दिल्ली पहुंची कोरोना वैक्सीन की पहली खेप     ||   फिटनेस समस्या की वजह से भारत-ऑस्ट्रेलिया चौथे टेस्ट से गेंदबाज जसप्रीत बुमराह बाहर     ||   दिल्ली: हरियाणा के डिप्टी सीएम दुष्यंत चौटाला की पार्टी विधायकों के साथ बैठक, किसान आंदोलन पर चर्चा     ||   हम अपने पसंद के समय, स्थान और लक्ष्य पर प्रतिक्रिया देने का अधिकार सुरक्षित रखते हैं- आर्मी चीफ     ||   कानपुर: विकास दुबे और उसके गुर्गों समेत 200 लोगों की असलहा लाइसेंस फाइल हुई गायब     ||   हाथरस कांड: यूपी सरकार ने SC में पीड़िता के परिवार की सुरक्षा पर दाखिल किया हलफनामा     ||   लखनऊ: आत्मदाह की कोशिश मामले में पूर्व राज्यपाल के बेटे को हिरासत में लिया गया     ||   मानहानि केस: पायल घोष ने ऋचा चड्ढा से बिना शर्त माफी मांगी     ||

अश्लील सामग्री परोसी तो देना होगा 15 करोड़ का जुर्माना, आईटी एक्ट में होगा बदलाव

अंग्वाल न्यूज डेस्क
अश्लील सामग्री परोसी तो देना होगा 15 करोड़ का जुर्माना, आईटी एक्ट में होगा बदलाव

नई दिल्ली। अब मोबाइल ऐप या वेबसाइट पर अश्लील सामग्री देने वालों की खैर नहीं होगी। केन्द्र सरकार ने  सूचना प्रोद्योगिकी अधिनियम की धारा 79 में बदलाव की पूरी तैयारी कर ली है। इस नियम के लागू होने पर जहां  मोबाइल ऐप और वेबसाइट की मुसीबतें बढ़ जाएंगी वहीं चाइल्ड पोर्नोग्राफी और फर्जी खबरों को फैलाने वाले ऐप व साइट पर तुरंत कार्रवाई होगी और इन्हें तत्काल प्रभाव से बंद किया जाएगा। हालांकि यह नियम कब से लागू होगा अभी जानकारी नहीं है। बड़ी बात यह है कि नियम का उल्लंघन करने वालों को 15 करोड़ रुपये का जुर्माना देना होगा। 

गौरतलब है कि कोई भी मोबाइल ऐप या वेबसाइट आईटी एक्ट के नियमों का उल्लंघन करते हुए पाया जाएगा तो उनपर 15 करोड़ जुर्माना या फिर पूरी दुनिया से होने वाली कमाई का 4 फीसदी हिस्सा जुर्माने के तौर पर वसूला जाएगा। वहीं आईटी एक्ट 69ए के तहत सरकार किसी भी वेबसाइट और ऐप को बंद करने का आदेश दे सकती है।


ये भी पढ़ें- लोकसभा चुनाव से पहले भाजपा पकाएगी ‘समरसता खिचड़ी’, पिछड़ों को साधने की कोशिश

यहां बता दें कि सरकार के द्वारा पिछले हफ्ते हुई एक बैठक में साइबर लॉ डिवीजन, सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय, इंटरनेट सेवा प्रदाता संघ के एक अधिकारी, गूगल, फेसबुक, व्हाट्सऐप, अमेजॉन, याहू, ट्विटर, शेयरचैट और सेबी के प्रतिनिधियों शामिल थे। इस अधिनियम के लागू होने के बाद किसी भी मामले पर सोशल मीडिया कंपनियों को सरकार को 72 घंटों के भीतर जानकारी देनी होगी। 

Todays Beets: