Saturday, September 21, 2019

Breaking News

   Parle में छंटनी का संकट: मयंक शाह बोले- सरकार से अहसान नहीं मांग रहे     ||   ILFS लोन मामले में MNS प्रमुख राज ठाकरे से ED की पूछताछ    ||   दिल्ली: प्रगति मैदान के पास निर्माणाधीन इमारत में लगी आग    ||   मध्य प्रदेश: टेरर फंडिंग मामले में 5 हिरासत में, जांच जारी     ||   जिन्होंने 72 हजार देने का वादा किया था, वे 72 सीटें भी नहीं जीत पाए : मोदी     ||   प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 25 अगस्त को दिन में 11 बजे करेंगे मन की बात     ||   कोलकाता के पूर्व मेयर और TMC विधायक शोभन चटर्जी, बैसाखी बनर्जी BJP में शामिल     ||   गुजरात में बड़ा हमला कर सकते हैं आतंकी, सुरक्षा एजेंसियों का राज्य पुलिस को अलर्ट     ||   अयोध्या केस: मध्यस्थता की कोशिश खत्म, कल सुप्रीम कोर्ट में होगी सुनवाई     ||   पोंजी घोटाला: 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेजा गया आरोपी मंसूर खान     ||

आखिरकार भारत की मांगों के आगे झुका व्हाट्सएप, अभिजीत बोस को बनाया कंट्री हेड

अंग्वाल न्यूज डेस्क
आखिरकार भारत की मांगों के आगे झुका व्हाट्सएप, अभिजीत बोस को बनाया कंट्री हेड

नई दिल्ली। मैसेजिंग कंपनी व्हाट्सएप को आखिरकार भारत सरकार की मांग के आगे झुकना पड़ा है। कंपनी ने भारत में अपना प्रमुख एक भारतीय अभिजीत बोस को स्थानीय (भारत) प्रमुख नियुक्त करने की घोषणा की है।  व्हाट्सएप की तरफ से दिए गए बयान में कहा गया है कि बोस अगले साल (2019) की शुरुआत में कंपनी से जुड़ेंगे। वह कैलिफोर्निया से बाहर गुड़गांव में एक नई टीम बनाएंगे। बता दें कि कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने व्हाट्सएप को भारत में अपना टावर लगाने और किसी भारतीय को उसका प्रमुख बनाने की बात कही थी।

गौरतलब है कि भारत में व्हाट्सएप के यूजर्स की संख्या को देखते हुए कंपनी ने कहा कि वह भारत के लिए पूरी तरह से प्रतिबद्ध है। कंपनी की ओर से कहा गया है कि वह ऐसे उत्पाद विकसित करने के लिए तैयार है जो लोगों के एक-दूसरे के साथ संपर्क करने में मददगार हो और डिजिटल अर्थव्यवस्था का भी समर्थन करता हो। 

ये भी पढ़ें - मोबाइल उपभोक्ता ध्यान दें, बंद हो सकती है आपकी इंकमिंग काॅल!


यहां बता दें कि देश में अफवाहों की वजह से माॅब लिंचिंग की बढ़ती घटनाओं को देखते हुए केंद्रीय सूचना प्रौद्योगिकी मंत्री रविशंकर प्रसाद ने अगस्त में व्हाट्सएप के मुख्य कार्यकारी अधिकारी क्रिस डेनियल्स से मुलाकात की थी और कहा था कि प्लेटफार्म को भारत के कानूनों का पालन करना चाहिए और इंस्टेंट मैसेजिंग प्लेटफार्म का दुरुपयोग रोकने के लिए मुनासिब कदम उठाना चाहिए। इसके बाद ही कंपनी की ओर से यह कदम उठाया गया है। 

 

Todays Beets: