Friday, March 5, 2021

Breaking News

   सरकार की सत्याग्रही किसानों को इधर-उधर की बातों में उलझाने की कोशिश बेकार है-राहुल गांधी     ||   थाइलैंड में साइना नेहवाल कोरोना पॉजिटिव, बैडमिंटन चैम्पियनशिप में हिस्सा लेने गई हैं विदेश     ||   एयर एशिया के विमान से पुणे से दिल्ली पहुंची कोरोना वैक्सीन की पहली खेप     ||   फिटनेस समस्या की वजह से भारत-ऑस्ट्रेलिया चौथे टेस्ट से गेंदबाज जसप्रीत बुमराह बाहर     ||   दिल्ली: हरियाणा के डिप्टी सीएम दुष्यंत चौटाला की पार्टी विधायकों के साथ बैठक, किसान आंदोलन पर चर्चा     ||   हम अपने पसंद के समय, स्थान और लक्ष्य पर प्रतिक्रिया देने का अधिकार सुरक्षित रखते हैं- आर्मी चीफ     ||   कानपुर: विकास दुबे और उसके गुर्गों समेत 200 लोगों की असलहा लाइसेंस फाइल हुई गायब     ||   हाथरस कांड: यूपी सरकार ने SC में पीड़िता के परिवार की सुरक्षा पर दाखिल किया हलफनामा     ||   लखनऊ: आत्मदाह की कोशिश मामले में पूर्व राज्यपाल के बेटे को हिरासत में लिया गया     ||   मानहानि केस: पायल घोष ने ऋचा चड्ढा से बिना शर्त माफी मांगी     ||

कंप्यूटर डाटा के बाद अब सरकार सभी ऑनलाइन प्लेटफॉर्म पर रखेगी नजर, नया कानून लाने की तैयारी

अंग्वाल न्यूज डेस्क
कंप्यूटर डाटा के बाद अब सरकार सभी ऑनलाइन प्लेटफॉर्म पर रखेगी नजर, नया कानून लाने की तैयारी

नई दिल्ली। केन्द्र सरकार के द्वारा हाल ही में सूचना-प्रौद्योगिकी अधिनियम की धारा 69 के तहत 10 एजेंसियों को किसी भी व्यक्ति के कंप्यूटर डाटा की जांच के अधिकार दिए हैं। अब सरकार धारा 79 को अमल में लाने की तैयारी में जुटी है। इसके तहत सोशल मीडिया और मोबाइल कंपनियों को सरकार के द्वारा मांगी गई जानकारी देनी होगी। अगर सरकार को किसी भी व्यक्ति के मोबाइल संदेश, चैट या फिर सोशल मीडिया पर शेयर की गई जानकारी पर संदेह होता है तो वह सभी मीडिया प्लेटफाॅर्म से इसकी जानकारी मांग सकती है।

गौरतलब है कि पिछले ही दिनों गृह मंत्रालय ने किसी भी शख्स के कंप्यूटर डाटा की जांच का अधिकार 10 एजंेसियों को दे दिया है। सरकार के मुताबिक सूचना प्रौद्योगिकी अधिनियम की धारा 69 के तहत यदि एजेंसियों को किसी भी संस्थान या व्यक्ति पर देशविरोधी गतिविधियों में शामिल होने का संदेह होता है तो वे उनके कंप्यूटरों में मौजूद सामग्रियों को जांच सकती हैं और उन पर कार्रवाई कर सकती हैं। 

ये भी पढ़ें - कुछ लोगों के लिए सत्ता आक्सीजन के समान , उसके बिना जी नहीं सकते - PM नरेंद्र मोदी 


यहां बता दें कि अब सरकार के द्वारा धारा 79 को लागू करने की तैयारी की जा रही है। एक अंग्रेजी अखबार की खबरों के अनुसार, यह धारा देश में इस्तेमाल होने वाले सभी ऑनलाइन प्लेटफॉर्म पर लागू होगा। इस अधिनियम के लागू होने के बाद फेसबुक, ट्विटर, व्हाट्सऐप, शेयरचैट, गूगल, अमेजॉन और याहू जैसी कंपनियों को सरकार द्वारा पूछे गए किसी मैसेज के बारे में पूरी जानकारी देनी होगी। इसके लिए कंपनियों को एंड टू एंड एंक्रिप्शन तोड़कर मैसेज के बारे में सरकार को पूरी जानकारी देनी होगी।

आपको बता दें कि एंड टू एंड एंक्रिप्शन एक ऐसा ऐसा सुरक्षा कवच होता है जिसके तहत भेजा गया संदेश भेजने वाले और पाने वाले को ही पता होता है लेकिन धारा 79 के तहत गैर कानूनी तरीके से आॅनलाइन देखे जाने वाले कंटेट पर रोक लगाई जा सकेगी।  इस अधिनियम के लागू होने के बाद किसी भी मामले पर सोशल मीडिया कंपनियों को सरकार को 72 घंटों के भीतर जानकारी देनी होगी।

Todays Beets: