Monday, February 24, 2020

Breaking News

   भोपाल की बडी झील में पलटी आईपीएस अधिकारियों की नाव, कोई जनहानी नहीं    ||   सुरक्षा परिषद के मंच का दुरुपयोग करके कश्मीर मसले को उछालने की कोशिश कर रहा PAK: भारतीय विदेश मंत्रालय     ||   IIM कोझिकोड में बोले पीएम मोदी- भारतीय चिंतन में दुनिया की बड़ी समस्याओं को हल करने का है सामर्थ    ||   बिहार में रेलवे ट्रैक पर आई बैलगाड़ी को ट्रेन ने मारी टक्कर, 5 लोगों की मौत, 2 गंभीर रूप से घायल     ||   CAA और 370 पर बोले मालदीव के विदेश मंत्री- भारत जीवंत लोकतंत्र, दूसरे देशों को नहीं करना चाहिए दखल     ||   जेएनयू के वाइस चांसलर जगदीश कुमार ने कहा- हिंसा को लेकर यूनिवर्सिटी को बंद करने की कोई योजना नहीं     ||   मायावती का प्रियंका पर पलटवार- कांग्रेस ने की दलितों की अनदेखी, बनानी पड़ी BSP     ||   आर्मी चीफ पर भड़के चिदंबरम, कहा- आप सेना का काम संभालिए, राजनीति हमें करने दें     ||   राजस्थान: BJP प्रतिनिधिमंडल ने कोटा के अस्पताल का दौरा किया, 48 घंटों में 10 नवजात शिशुओं की हुई थी मौत     ||   दिल्ली: दरियागंज हिंसा के 15 आरोपियों की जमानत याचिका पर 7 जनवरी को सुनवाई करेगा तीस हजारी कोर्ट     ||

अब इंजीनियरिंग और मैनेजमेंट के छात्रों को रट्टा लगाने की जरूरत नहीं, किताबें खोलकर दे सकेंगे परीक्षा

अंग्वाल न्यूज डेस्क
अब इंजीनियरिंग और मैनेजमेंट के छात्रों को रट्टा लगाने की जरूरत नहीं, किताबें खोलकर दे सकेंगे परीक्षा

नई दिल्ली। अब छात्रों को इंजीनिरिंग और मैनेजमेंट काॅलेजों में दाखिले के लिए छात्रों को अब रट्टे लगाने की जरूरत नहीं पड़ेगी। साल 2019 से छात्र किताबें खोलकर परीक्षा दे पाएंगे। केंद्र सरकार ने अखिल भारतीय तकनीकी शिक्षा परिषद (एआईसीटीई) की परीक्षा सुधार नीति को अपनी मंजूरी दे दी है। बता दें कि खुली किताब से परीक्षा देने का मकसद अब रट्टा लगाकर केवल परीक्षा पास करना नहीं बल्कि छात्रों की कौशल को परखना और उन्हें रोजगार एवं समाज से जोड़ना है। देश में पहली बार इस नीति को लागू किया जा रहा है। 

गौरतलब है कि एआईसीटीई के अध्यक्ष प्रोफेसर अनिल सहस्त्रबुद्धे ने बताया कि इंजीनियरिंग और मैनेजमेंट के पाठ्यक्रम और परीक्षा में पहली बार इस नीति को लागू किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि देश में तकनीकी शिक्षा व्यवस्था, उसकी परीक्षा और प्रश्नपत्र की गुणवत्ता लंबे समय से चिंता का कारण रही है। अभी डिग्री हासिल करने के बाद भी सिर्फ 50 फीसदी छात्रों को रोजगार नहीं मिल पा रहा है। 

यहां बता दें कि अभी तक इंजीनियरिंग और मैनेजमेंट में अधिकांश सवाल रट्टा वाले होते थे लेकिन प्रोफेसर अशोक शेट्टार कमेटी ने जो सिफारिश की है उसके बाद अब विश्लेषण मूल्यांकन, प्रयोग और शोध पर विशेष जोर दिया जा रहा है। इसका सीधा मतलब यह है कि अब छात्रों को परीक्षा पास करने के लिए लगातार अभ्यास के साथ नए प्रयोग भी करने होंगे। 

ये भी पढ़ें - अब हर साल 2500 नौजवानों को मिलेगा रोजगार, जानें सरकार क्या करने जा रही उपाय

तीन स्तर पर होगा अंकों का विभाजन

एआईसीटीई के अध्यक्ष का कहना है कि नई परीक्षा नीति के प्रश्नपत्र में तीन स्तर पर अंकों का विभाजन होगा। बीटेक, एमटेक, एमबीए प्रोग्राम में 36 फीसदी प्रश्नों का हल समझ के आधार पर देना होगा। जबकि 46 फीसदी प्रश्न प्रायोगिक आधार पर होंगे। इसके अलावा 18 फीसदी प्रश्न मूल्यांकन व विश्लेषण आधारित होंगे। 

‘वाशिंगटन अकॉर्ड’ के अंतरराष्ट्रीय मानक होंगे पूरे


परीक्षा सुधार नीति वाशिंगटन अकॉर्ड के अंतरराष्ट्रीय मानकों को पूरा करती है। इसके लागू होने के बाद एनबीए की टीम कॉलेजों में जाकर मानकों की जांच भी करेगी। आपको बता दें कि वाशिंगटन समझौता एक अंतरराष्ट्रीय संधि है जिसके तहत भारत ने 2010 में हस्ताक्षर किए थे। इसमें भारतीय इंजीनियरिंग और मैनेजमेंट की डिग्री को विश्व स्तर पर मान्यता मिलती है। इसी के चलते भारतीय युवा दुनिया के किसी भी देश में जाकर नौकरी कर पाते हैं। 

महत्वपूर्ण बिंदु

-नई परीक्षा सुधार नीति लागू करवाने के लिए एआईसीटीई प्रश्न बैंक भी तैयार करके देगा। इसके अलावा प्रश्न पत्रों के सैंपल पेपर भी उपलब्ध करवाए जाएंगे। 

-डिजाइन ओरिएंटेड कोर्स ओपन बुक एग्जाम में शामिल होगा। इसके अलावा आउटकम और परफॉरमेंस आधारित मूल्यांकन शिक्षा पर जोर रहेगा। 

-परीक्षा के प्रारूप में प्रोजेक्ट आधारित लर्निंग मॉड्यूल, मिनी प्रोजेक्ट, इंटर्नशिप एक्सपीरियंस व ई-पोर्टफोलियो शामिल होगा।

 

Todays Beets: