Saturday, January 25, 2020

Breaking News

   सुरक्षा परिषद के मंच का दुरुपयोग करके कश्मीर मसले को उछालने की कोशिश कर रहा PAK: भारतीय विदेश मंत्रालय     ||   IIM कोझिकोड में बोले पीएम मोदी- भारतीय चिंतन में दुनिया की बड़ी समस्याओं को हल करने का है सामर्थ    ||   बिहार में रेलवे ट्रैक पर आई बैलगाड़ी को ट्रेन ने मारी टक्कर, 5 लोगों की मौत, 2 गंभीर रूप से घायल     ||   CAA और 370 पर बोले मालदीव के विदेश मंत्री- भारत जीवंत लोकतंत्र, दूसरे देशों को नहीं करना चाहिए दखल     ||   जेएनयू के वाइस चांसलर जगदीश कुमार ने कहा- हिंसा को लेकर यूनिवर्सिटी को बंद करने की कोई योजना नहीं     ||   मायावती का प्रियंका पर पलटवार- कांग्रेस ने की दलितों की अनदेखी, बनानी पड़ी BSP     ||   आर्मी चीफ पर भड़के चिदंबरम, कहा- आप सेना का काम संभालिए, राजनीति हमें करने दें     ||   राजस्थान: BJP प्रतिनिधिमंडल ने कोटा के अस्पताल का दौरा किया, 48 घंटों में 10 नवजात शिशुओं की हुई थी मौत     ||   दिल्ली: दरियागंज हिंसा के 15 आरोपियों की जमानत याचिका पर 7 जनवरी को सुनवाई करेगा तीस हजारी कोर्ट     ||   रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह की सुरक्षा में चूक, मोटरसाइकिल काफिले के सामने आया शख्स     ||

बलिदान बैज विवाद : धोनी के साथ खड़ा हुआ BCCI - खेल मंत्रालय, सीईओ राहुल चौधरी ICC से बात करने जा रहे इंग्लैंड

अंग्वाल न्यूज डेस्क
बलिदान बैज विवाद : धोनी के साथ खड़ा हुआ BCCI - खेल मंत्रालय, सीईओ राहुल चौधरी ICC से बात करने जा रहे इंग्लैंड

नई दिल्ली  । भारतीय विकेटकीपर महेंद्र सिंह धोनी के दस्तानों पर बलिदान बैज को लेकर मचा हंगामा खत्म होने का नाम नहीं ले रहा है । जहां इस मुद्दे पर BCCI के COA चीफ विनोद राय ने कहा - हम आईसीसी को एमएस धोनी को उनके दस्ताने पर 'बालिदान' पहनने के लिए अनुमति लेने के लिए पहले ही चिठ्ठी लिख चुके हैं। इसके बाद संकेत मिल रहे हैं कि इस मुद्दे पर ICC झुक सरती है । आईसीसी सूत्रों के मुताबिक, 'अगर एमएस धोनी और बीसीसीआई आईसीसी को यह सुनिश्चित करे कि 'बलिदान बैज' में कोई राजनीतिक, धार्मिक या नस्लीय संदेश नहीं है, तो आईसीसी इस अनुरोध पर विचार कर सकता है। इससे इतर सोशल मीडिया में यह मुद्दा चरम पर पहुंच गया है । लोग पाकिस्‍तान के 30 मार्च, 2011 के मोहाली में खेले एक मैच का वीडियो और फोटो शेयर कर रहे हैं , जिसमें भारत के खिलाफ खेले गए उस मैच में पाकिस्‍तानी टीम को मैदान में नमाज पढ़ते देखा जा सकता है । पाकिस्‍तानी मूल के कनाडाई लेखक तारेक फतेह ने भी आईसीसी की इस अपील पर आपत्ति उठाई है । उन्‍होंने ट्वीट कर कहा, ''पाकिस्‍तान टीम जब मैदान में नमाज पढ़ती है तो आईसीसी आपत्ति क्‍यों नहीं उठाता?'' वहीं इस मुद्दे पर खेल मंत्रालय भी महेंद्र सिंह धोनी के पक्ष में खड़ा हो गया है ।

BCCI Vs ICC

ICC ने इस मसले पर BCCI से आग्रह किया कि वह धोनी को बलिदान बैज वाले दस्ताने उतारने को कहे । लिहाजा शुक्रवार को बीसीसीआई की इस मुद्दे पर हुई बैठक में फैसला किया गया कि बीसीसीआई CEO राहुल चौधरी मुद्दे के समाधान के लिए आज ही इंग्‍लैंड जाएंगे । वहां पर आईसीसी अधिकारियों के समक्ष अपना पक्ष रखेंगे ।

महेंद्र सिंह धोनी के 'बलिदान बैज' पर ICC बिफरा , माही को निर्देश - अपने दस्तानों से हटाएं बैज, नहीं तो भुगतने होंगे परिणाम

COA चीफ बोले- हम अपने खिलाड़ियों के साथ

इससे पहले बीसीसीआई के COA चीफ विनोद राय ने इस मुद्दे पर कहा है कि, 'हम अपने खिलाड़ियों के साथ खड़े हैं । धोनी के दस्ताने पर जो निशान है, वह किसी धर्म का प्रतीक नहीं है और न ही यह कमर्शियल है । हम आईसीसी को एमएस धोनी को उनके दस्ताने पर 'बालिदान' पहनने के लिए अनुमति लेने के लिए पहले ही चिठ्ठी लिख चुके हैं ।

क्या मोदी सरकार गांधी परिवार की छोटी बहु को देगी बड़ा पद , क्या जेठानी सोनिया गांधी बोलेंगी मेनका को मैडम स्पीकर!


कब दिखा दस्तानों पर बलिदान बैज

असल में धोनी के दस्तानों पर 'बलिदान बैज' क्रिकेट वर्ल्‍ड कप (cricket world cup 2019) में भारत और दक्षिण अफ्रीका के मैच के दौरान उस समय दिखाई दिया जब उन्होंने मैच के 40वें ओवर के दौरान युजवेंद्र चहल की गेंद पर दक्षिणी अफ्रीकी बल्लेबाज एंडिले फेहलुकवायो को स्टंप्स आउट किया था । 'बलिदान बैज' वाले दस्ताने पहने धोनी की यह तस्वीर बाद में सोशल मीडिया पर वायरल हो गई ।

सरकार में राजनाथ के 'कद' पर माथापच्ची , सुबह कद घटाया तो रात में बढ़ा , 2 से बढ़ाकर 6 कमेटियों का बनाया सदस्य

आईसीसी के नियम

दरअसल इस संदर्भ में ये जानना बहुत जरूरी है कि आईसीसी के नियम इस बारे में क्‍या कहते हैं? आईसीसी के नियम के मुताबिक, "आईसीसी के कपड़ों या अन्य चीजों पर अंतराष्ट्रीय मैच में राजनीति, धर्म या नस्लभेदी जैसी चीजों का संदेश नहीं होना चाहिए ।" हालांकि इसका विरोध करने वाले कई लोगों का कहना है कि मैच के दौरान जब नमाज पढ़ने की इजाजत है तो बलिदान बैज को क्‍यों नहीं पहना जा सकता?

 

 

Todays Beets: