Monday, October 23, 2017

पूजा स्थल पर दीपक जलाने के दौरान न करें ये भूल, सही तरीके से जलाया गया दीपक लाएगा जीवन में उन्नति

अंग्वाल न्यूज डेस्क
पूजा स्थल पर दीपक जलाने के दौरान न करें ये भूल, सही तरीके से जलाया गया दीपक लाएगा जीवन में उन्नति

मंदिर या अपने घर में बने देव स्थान में पूजा-अर्चना की शुरुआत अमूमन आदमी दीपक लगाकर ही करता है। ऐसा कहा जाता है कि देवस्थान पर दीपक जलाने से देव प्रसन्न होते हैं। शास्त्रों में भी दीपक जलाने के महत्व को बताया गया है लेकिन क्या आप यह जानते हैं कि गलत तरीके से देव स्थान पर जलाया गया दीपक' आपको कोई पुण्य नहीं देता, बल्कि गलत तरीके से जलाए गए दीपक को पूजा स्थान में रखने में अहित भी हो सकता है। अमूमन लोग दीपक जलाने के सही तरीके को नहीं जानते और अनचाहे ही भूल कर बैठते हैं। वहीं सही तरीके से रोजाना अपने घर में दीपक जलाने वालों के उन्नति के द्वार खुल जाते हैं। तो चलिए हम बताते हैं कि आखिर अपने मंदिर में आप जब दीपक जलाए तो किन बातों का रखें ध्यान...

ये भी पढ़ें-आस्था और प्रार्थना के 5 ऐसे स्थल जिसके रहस्य के बारे में आज तक पता नहीं चला

असल में मंदिर और अपने घर के देव स्थान पर दीपक जलाने के लिए कुछ जरिए सावधनियां जरूर बरतनी चाहिए। सही तरीके से देवी-देवताओं के सामने जलाया गया दीपक आपको पुण्य का भागीदार बनाता है। तो दीपक जलाते वक्त रखें इन बातों का ध्यान...

1- मंदिर या अपने घर के देव स्थान पर दीपक जलाते वक्त ध्यान रखें कि मिट्टी का दीपक खंडित न हो, पूजा स्थान पर टूटा हुआ दीपक रखना वर्जित माना जाता है।

2- अगर आप किसी धातु का बना दीपक जला रहे हैं तो ध्यान रखें कि दीपक पूरी तरह से साफ हो, उसमें पहले से घी या तेल जमा हुआ न हो।

3- दीपक को पूजा स्थल पर ऐसे स्थान में रखें जहां वह बुझे नहीं, पूजा के दौरान दीपक के बुझने को आपकी पूजा में विध्न के तौर पर देखा जाता है। 

4-मंदिर या अपने देव स्थान पर केवल घी या तेल का ही दिया जलाना चाहिए।


5- कुछ विद्वानों का मानना है कि धी का दिया जलाने के एकदम बाद तेल का दीपक नहीं जलाना चाहिए। 

6- यूं तो शास्त्रों में धी के दीपक को ही सर्वश्रेष्ठ बताया गया है लेकिन तेल के दीपक को भी जलाने में कोई बुराई नहीं 

7-शास्त्रों में पूजन के दौरान पंचामृत का बड़ा महत्व बताया गया है। इन पंचामृत में घी भी एक है। इसलिए पूजन के दौरान घी का दिया जलाने के लिए कहा जाता है। 

8-अमूमन दीपक के बुझ जाने के चार घंटे तक उसे नहीं छेड़ना चाहिए। ऐसा माना जाता है कि दीपक बुझने के काफी देर बाद तक भी सात्विक ऊर्जा बनाए रखता है। 

9-प्रतिदिन अपने घर में दीपक जलाने से आपके घर में सकारात्मक ऊर्जा का संचार होता है, साथ ही दरिद्रता दूर होती है। 

एक नजर यहां भी...

Todays Beets: