Tuesday, February 20, 2018

Breaking News

   98 साल की उम्र में MA करने वाले राज कुमार का संदेश, कहा-हमेशा कोशिश करते रहें     ||   मुंबई स्टॉक एक्सचेंज ने पार किया 34000 का आंकड़ा, ऑफिस में जश्न का माहौल     ||   पं. बंगाल: मालदा से 2 लाख रुपये के फर्जी नोट बरामद, एक गिरफ्तार    ||   सेक्स रैकेट का भंड़ाभोड़: दिल्ली की लेडी डॉन सोनू पंजाबन अरेस्ट    ||   रूपाणी कैबिनेट: पाटीदारों का दबदबा, 1 महिला को भी मंत्रिमंडल में मिली जगह    ||   पशु तस्करों और पुलिस में मुठभेड़, जवाबी गोलीबारी में एक मरा, घायल गायें बरामद    ||   RTI में खुलासा- भगत सिंह-राजगुरु-सुखदेव को अब तक नहीं मिला शहीद का दर्जा, सरकारी किताब में बताया गया 'आतंकी'     ||    गुजरात चुनाव: रैली में बोले BJP नेता- दाढ़ी-टोपी वालों को कम करना पड़ेगा, डराने आया हूं ताकि वो आंख न उठा सकें    ||   मध्य प्रदेश: बाबरी विध्वंस पर जुलूस निकाल रहे विहिप-बजरंग दल कार्यकर्ता पर पथराव, भड़क गई हिंसा    ||   बैंक अकाउंट को आधार से जोड़ने की तारीख बढ़ी, जानिए क्या है नई तारीख    ||

सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बावजूद पंजाब में किसानों ने जलाई पराली, कहा-शौक नहीं हमारी मजबूरी

अंग्वाल न्यूज डेस्क
सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बावजूद पंजाब में किसानों ने जलाई पराली, कहा-शौक नहीं हमारी मजबूरी

चंडीगढ़ । एक और सुप्रीम कोर्ट दिल्ली-एनसीआर में प्रदूषण के स्तर को कम करने के लिए दीपावली पर पटाखों की ब्रिकी पर प्रतिबंध और पंजाब -हरियाणा में पराली जलाने पर प्रतिबंध के साथ कानूनी कार्रवाई के आदेश देती है, लेकिन बावजूद इसके कोर्ट के आदेशों का खुलेआम उल्लंघन हो रहा है। जहां दिल्ली-एनसीआर में ऑनलाइन पटाखों की ब्रिकी की बातें सामने आई हैं, वहीं गुरुवार को पंजाब के शेखपुरा गांव के किसानों ने सुप्रीम कोर्ट के आदेशों को धत्ता बताते हुए और सरकार के खिलाफ प्रदर्शन करते हुए गांवों में पराली में आग लगाई। गांव के किसानों ने सरकार से उन्हें सब्सिडी दिए जाने की मांग करते हुए खेतों में पड़ी पराली को आग लगा दी। इस घटना के बाद इलाके में धुएं का गुबार देखा गया, जिसे देखकर स्थानीय प्रशासन के अधिकारी तो पहुंचे लेकिन अब तक कोई कार्रवाई नहीं की है। 

बता दें कि सुप्रीम कोर्ट ने दिल्ली-एनसीआर में प्रदूषण के बढ़ते स्तर के लिए पंजाब-हरियाणा के किसानों द्वारा फसल काटे जाने के बाद बचे अवशेष को जलाने से मना किया है। कई रिपोर्ट से यह बात साबित हो चुकी है कि यह धुआं सर्दी के मौसम में दिल्ली-एनसीआर की आबोहवा को जहरीला बना देता है। ऐसे में पराली जलाने को कानूनी अपराध घोषित किया गया है और ऐसा करने वाले के खिलाफ कार्रवाई किए जाने की प्रावधान है। बावजूद इसके पंजाब के एक गांव शेखपुरा के ग्रामीणों ने गुरुवार को सरकार के खिलाफ अपना विरोध-प्रदर्शन करते हुए अपने खेतों में पड़ी इस पराली को जला दिया। 


इस दौरान गांव के एक किसान ने कहा कि हम अपने शौक के लिए पराली को आग नहीं लगाते। इसे जलाना हमारी मजबूरी है। पंजाब का किसान कर्ज के नीचे दबा हुआ है और पंजाब की सरकार इस ओर कोई ध्यान नहीं दे रही। हालांकि उन्होंने ये माना कि उन्हें सुप्रीम कोर्ट के पराली न जलाने के आदेश के बारे में मालूम है, लेकिन अपना विरोध दर्ज करने के लिए उन्होंने यह तरीका अपनाया है। 

Todays Beets: