Monday, September 24, 2018

Breaking News

   ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण के पूर्व जीएम के ठिकानों पर आयकर के छापे     ||   बिहार: पूर्व मंत्री मदन मोहन झा बनाए गए प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष। सांसद अखिलेश सिंह बनाए गए अभियान समिति के अध्यक्ष। कौकब कादिरी समेत चार बनाए गए कार्यकारी अध्यक्ष।     ||   कर्नाटक के मंत्री शिवकुमार के खिलाफ ED ने मनी लॉन्ड्रिंग का केस दर्ज किया    ||   सीतापुर में श्रद्धालुओें से भरी बस खाई में पलटी 26 घायल, 5 की हालत गंभीर     ||   मंगल ग्रह पर आशियाना बनाएगा इंसान, वैज्ञानिकों को मिली पानी की सबसे बड़ी झील     ||   भाजपा नेता का अटपटा ज्ञान, 'मृत्युशैया पर हुमायूं ने बाबर से कहा था, गायों का सम्मान करो'     ||   आज से एक हुए IDEA-वोडाफोन! अब बनेगी देश की सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी     ||   गोवा में बड़ी संख्‍या में लोग बीफ खाते हैं, आप उन्‍हें नहीं रोक सकते: बीजेपी विधायक     ||   चीन फिर चल रहा 'चाल', डोकलाम में चुपचाप फिर शुरू कीं गतिविधियां : अमेरिकी अधिकारी     ||   नीरव मोदी, चोकसी के खिलाफ बड़ा एक्शन, 25-26 सितंबर को कोर्ट में पेश होने के आदेश     ||

सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बावजूद पंजाब में किसानों ने जलाई पराली, कहा-शौक नहीं हमारी मजबूरी

अंग्वाल न्यूज डेस्क
सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बावजूद पंजाब में किसानों ने जलाई पराली, कहा-शौक नहीं हमारी मजबूरी

चंडीगढ़ । एक और सुप्रीम कोर्ट दिल्ली-एनसीआर में प्रदूषण के स्तर को कम करने के लिए दीपावली पर पटाखों की ब्रिकी पर प्रतिबंध और पंजाब -हरियाणा में पराली जलाने पर प्रतिबंध के साथ कानूनी कार्रवाई के आदेश देती है, लेकिन बावजूद इसके कोर्ट के आदेशों का खुलेआम उल्लंघन हो रहा है। जहां दिल्ली-एनसीआर में ऑनलाइन पटाखों की ब्रिकी की बातें सामने आई हैं, वहीं गुरुवार को पंजाब के शेखपुरा गांव के किसानों ने सुप्रीम कोर्ट के आदेशों को धत्ता बताते हुए और सरकार के खिलाफ प्रदर्शन करते हुए गांवों में पराली में आग लगाई। गांव के किसानों ने सरकार से उन्हें सब्सिडी दिए जाने की मांग करते हुए खेतों में पड़ी पराली को आग लगा दी। इस घटना के बाद इलाके में धुएं का गुबार देखा गया, जिसे देखकर स्थानीय प्रशासन के अधिकारी तो पहुंचे लेकिन अब तक कोई कार्रवाई नहीं की है। 

बता दें कि सुप्रीम कोर्ट ने दिल्ली-एनसीआर में प्रदूषण के बढ़ते स्तर के लिए पंजाब-हरियाणा के किसानों द्वारा फसल काटे जाने के बाद बचे अवशेष को जलाने से मना किया है। कई रिपोर्ट से यह बात साबित हो चुकी है कि यह धुआं सर्दी के मौसम में दिल्ली-एनसीआर की आबोहवा को जहरीला बना देता है। ऐसे में पराली जलाने को कानूनी अपराध घोषित किया गया है और ऐसा करने वाले के खिलाफ कार्रवाई किए जाने की प्रावधान है। बावजूद इसके पंजाब के एक गांव शेखपुरा के ग्रामीणों ने गुरुवार को सरकार के खिलाफ अपना विरोध-प्रदर्शन करते हुए अपने खेतों में पड़ी इस पराली को जला दिया। 


इस दौरान गांव के एक किसान ने कहा कि हम अपने शौक के लिए पराली को आग नहीं लगाते। इसे जलाना हमारी मजबूरी है। पंजाब का किसान कर्ज के नीचे दबा हुआ है और पंजाब की सरकार इस ओर कोई ध्यान नहीं दे रही। हालांकि उन्होंने ये माना कि उन्हें सुप्रीम कोर्ट के पराली न जलाने के आदेश के बारे में मालूम है, लेकिन अपना विरोध दर्ज करने के लिए उन्होंने यह तरीका अपनाया है। 

Todays Beets: