Sunday, February 24, 2019

Breaking News

   पाकिस्तान को FATF से मिली राहत, ग्रे लिस्ट में रहेगा बरकरार     ||   आय से अधिक संपत्ति केसः हिमाचल के पूर्व CM वीरभद्र सिंह के खिलाफ आरोप तय     ||   भीमा-कोरेगांव केसः बॉम्बे HC ने आनंद तेलतुंबड़े की याचिका पर सुनवाई 27 तक टाली     ||   हिमाचल प्रदेश: किन्नौर जिले में आया भूकंप, तीव्रता 3.5     ||   PAK सेना के ISPR के डीजी ने कहा- हम युद्ध की तैयारी नहीं कर रहे, भारत धमकी दे रहा है     ||   ICC को खत लिखेगी BCCI- आतंक समर्थक देश के साथ खत्म हो क्रिकेट संबंध     ||   महाराष्ट्रः ईस्ट इंडिया कंपनी द्वारा चलाई गई शकुंतला नैरो गेज ट्रेन में लगी आग     ||   केरलः दक्षिण पश्चिम तट से अवैध तरीके से भारत में घुसते 3 लोग गिरफ्तार     ||   ताबड़तोड़ एनकाउंटर पर योगी सरकार को SC का नोटिस, CJI बोले- विस्तृत सुनवाई की जरूरत     ||   तेहरान में बोइंग 707 किर्गिज कार्गो प्लेन क्रैश, 10 क्रू मेंबर की मौत     ||

आम्रपाली ग्रुप को सुप्रीम कोर्ट की फटकार, पुलिस ने 3 डायरेक्टरों को कस्टडी में लिया

अंग्वाल न्यूज डेस्क
आम्रपाली ग्रुप को सुप्रीम कोर्ट की फटकार, पुलिस ने 3 डायरेक्टरों को कस्टडी में लिया

नई दिल्ली। रियल एस्टेट का कारोबार करने वाली आम्रपाली ग्रुप को सुप्रीम कोर्ट ने बड़ा झटका दिया है। मंगलवार की दोपहर को कोर्ट के आदेश के बाद पुलिस ने आम्रपाली ग्रुप के 3 डायरेक्टरों को कस्टडी में ले लिया है। सुप्रीम कोर्ट ने अनिल शर्मा के साथ 2 अन्य निर्देशकों को जांच के लिए दस्तावेज दिखाने के लिए कहा है। बताया जा रहा है कि दस्तावेजों की जांच होने तक ये तीनांे पुलिस की कस्टडी में ही रहेंगे। 

गौरतलब है कि सुप्रीम कोर्ट के जस्टिस अरूण मिश्र और जस्टिस यूयू ललित की अध्यक्षता वाली पीठ इस मामले की सुनवाई करते हुए कहा कि आम्रपाली ग्रुप अदालत के साथ लुका-छिपी का खेल न खेले। बता दें कि इससे पहले कोर्ट ने डीआरटी को आम्रपाली की 16 संपत्तियों की नीलामी का आदेश दिया था। सम्पतियों की बिक्री से करीब 1600 करोड़ की उगाही होगी। ये रकम सुप्रीम कोर्ट परिसर में मौजूद बैक में जमा होगी।


ये भी पढ़ें - Breaking News - छत्तीसगढ़ के भिलाई स्टील प्लांट की गैस पाइप लाइन में मरम्मत के दौरान ब्लास्ट,...

यहां बता दें कि सुप्रीम कोर्ट ने इससे पहले भी कंपनी के निर्देशकों के विदेश जाने पर रोक लगा दी थी और अपने सभी दस्तावेज को डीआरटी के सामने पेश करने के आदेश दिए थे।  कोर्ट ने इस बात पर भी नाराजगी जताई कि साल 2015 के के बाद कंपनी के द्वारा खोले गए 46 बैंक खातों की जानकारी क्यों नहीं दी गई। 

Todays Beets: