Friday, April 26, 2019

Breaking News

   भाजपा के संकल्प पत्र में आतंकवाद और भ्रष्टाचार के खिलाफ कार्रवाई का वादा     ||   सुप्रीम कोर्ट ने लोकसभा चुनाव में ईवीएम और वीवीपैट के मिलान को पांच गुना बढ़ाया    ||    दिल्लीः NGT ने जर्मन कार कंपनी वोक्सवैगन पर 500 करोड़ का जुर्माना ठोंका     ||    दिल्लीः राहुल गांधी 11 मार्च को बूथ कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित करेंगे     ||    हैदराबाद: टीका लगाने के बाद एक बच्चे की मौत, 16 बीमार पड़े     ||   मध्य प्रदेश के ब्रांड एंबेसडर होंगे सलमान खान, CM कमलनाथ ने दी जानकारी     ||   पाकिस्तान को FATF से मिली राहत, ग्रे लिस्ट में रहेगा बरकरार     ||   आय से अधिक संपत्ति केसः हिमाचल के पूर्व CM वीरभद्र सिंह के खिलाफ आरोप तय     ||   भीमा-कोरेगांव केसः बॉम्बे HC ने आनंद तेलतुंबड़े की याचिका पर सुनवाई 27 तक टाली     ||   हिमाचल प्रदेश: किन्नौर जिले में आया भूकंप, तीव्रता 3.5     ||

राफेल विमान के आने से वायुसेना होगी और मजबूत- वायुसेना प्रमुख

अंग्वाल न्यूज डेस्क
राफेल विमान के आने से वायुसेना होगी और मजबूत- वायुसेना प्रमुख

नई दिल्ली। केन्द्र सरकार के द्वारा फ्रांस से खरीदे जाने वाले राफेल लड़ाकू विमान पर पूरा विपक्ष सरकार को घेरने की कोशिश कर रही है। इस बीच वायुसेना प्रमुख बीएस धनोआ ने सरकार के इस फैसले का समर्थन करते हुए कहा कि वायुसेना को मजबूती प्रदान करने के लिए इस विमान की काफी जरूरत है। वायुसेना प्रमुख ने बुधवार को एक कार्यक्रम में बोलते हुए कहा कि पड़ोसी मुल्कों से देश को खतरा बताते हुए कहा कि राफेल की खरीद को बिल्कुल सही है। यहां बता दें कि राफेल डील को लेकर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने सरकार पर जमकर हमला बोला है।

गौरतलब है कि कांग्रेस अध्यक्ष ने इस मसले पर सरकार को घेरते हुए उस पर झूठ बोलने तक का आरोप लगा चुके हैं। राहुल गांधी का कहना है कि राफेल लड़ाकू विमान सौदे की आड़ में रिलायंस कंपनी को फायदा पहुंचाने का भी आरोप लगाया है। कांग्रेस अध्यक्ष के इस आरोप के बाद रिलायंस ग्रुप के अनिल अंबानी ने उन्हें पत्र लिखकर पहले गलत जानकारी फैलाने का आरोप लगाया, इसके बाद कंपनी की ओर से कई कांग्रेसी प्रवक्तओं को कानूनी नोटिस भी भेजा गया था। 

ये भी पढ़ें - अमेरिका में होने वाले चुनाव में दखलअंदाजी करने वाले देश हो जाएं सावधान, लगेगा प्रतिबंध 


आपको बता दें कि बुधवार को राजधानी दिल्ली में एक कार्यक्रम के दौरान उन्होंने कहा, ‘‘आज दुनिया में बहुत कम ऐसे देश हैं जो हमारी तरह की दिक्कतों का सामना कर रहे हैं। हमारे दोनों तरफ परमाणु शक्ति वाले देश हैं।’’ वायुसेना प्रमुख ने कहा कि फ्रेंच राफेल लड़ाकू जेट और रूसी एस-400 एयर डिफेंस मिसाइल सिस्टम खरीदने का सरकारी निर्णय वायुसेना को मजबूती प्रदान करेगा। उन्होंने कहा कि वायुसेना के लिए सिर्फ तेजस जैसे मध्यम तकनीक वाले जेट से काम नहीं चलेगा। सेना को राफेल जैसे उच्च तकनीक और क्षमताओं वाले विमानों से मुकाबला करने की क्षमता में भी बढ़ावा मिलेगा। 

 

यहां बता दें कि भारत को चीन और पाकिस्तान से अपनी सुरक्षा के लिए वायुसेना की करीब 42 स्क्वाड्रन की दरकार है जबकि मौजूदा समय में केवल 31 स्क्वाड्रन ही काम कर रही हैं। इसके मुताबिक हाल फिलहाल में ही भारत करीब 11 स्क्वाड्रन की कमी से जूझ रहा है। 

Todays Beets: