Monday, January 21, 2019

Breaking News

   ताबड़तोड़ एनकाउंटर पर योगी सरकार को SC का नोटिस, CJI बोले- विस्तृत सुनवाई की जरूरत     ||   तेहरान में बोइंग 707 किर्गिज कार्गो प्लेन क्रैश, 10 क्रू मेंबर की मौत     ||   PM मोदी बोले- जवानों के बाद किसानों की आंखों में धूल झोंक रही कांग्रेस     ||   PM मोदी बोले- हम ईमानदारी से कोशिश करते हैं, झूठे सपने नहीं दिखाते     ||   कुशल भ्रष्टाचार और अक्षम प्रशासन का मॉडल है कांग्रेस-कम्युन‍िस्ट सरकार-PM मोदी     ||   CBI: राकेश अस्थाना केस में द‍िल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई 20 द‍िसंबर तक टली     ||   बैडम‍िंटन खि‍लाड़ी साइना नेहवाल ने पी कश्यप से की शादी     ||   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||   बाबा रामदेव रांची में खोलेंगे आचार्यकुलम, क्लास 1 से क्लास 4 तक मिलेगी शिक्षा     ||   मैंने महिलाओं व अन्य वर्गों के लिए काम किया, मेरा काम बोलेगा: वसुंधरा राजे     ||

आईएसआई लिए जासूसी करने वाला सिग्नल कोर का जवान मेरठ छावनी से गिरफ्तार, व्हाट्सएप करता था जानकारियां

अंग्वाल संवाददाता
आईएसआई लिए जासूसी करने वाला सिग्नल कोर का जवान मेरठ छावनी से गिरफ्तार, व्हाट्सएप करता था जानकारियां

मेरठ । पाकिस्तान के लिए जासूसी करने के आरोप में भारतीय सेना के सिग्नल रेजिमेंट के एक जवान को गिरफ्तार किया गया है। इस जवान को मेरठ छावनी से गिरफ्तार किया गया है। आरोप हैं कि इस जवान ने पाकिस्तान के लिए कुछ गुप्त जानकारियां और कई नक्शे जुटाए और उन्हें दुश्मन देश की एजेंसियों को मुहैया करवाया। यह जवान मूल रूप से उत्तराखंड का रहने वाला है, जिसे हिरासत में लेकर पूछताछ करने पर उसने कई अहम जानकारियां दी हैं। 

पिछले 10 माह से कर रहा था जासूसी

मिली जानकारी के मुताबिक, पिछले 10 सालों से भारतीय फौज में सेवा दे रहे इस जवान को पिछले दिनों एक सूचना के आधार पर निगरानी पर लिया गया। उसकी हरकतों पर नजर रखने के बाद एकाएक उसके खिलाफ कार्रवाई करते हुए उसे मेरठ छावनी से गिरफ्तार कर लिया है। वह पिछले 10 महीनों से पाकिस्तान की खुफिया एजेंसियों से जुड़े लोगों के संपर्क में था। 

कई बार फोन पर पाकिस्तान बात की 


इस दौरान जानकारी मिली है कि वह लंबे समय से पाकिस्तान की खुफिया एजेंसियों से जुड़े लोगों से फोन पर बात करता था। इतना ही नहीं कई जानकारियां व्हाट्सएप के जरिए दुश्मन देश की सैन्य एजेंसियों को मुहैया करवाता था। आर्मी इंटेलिजेंस को 3 महीनें पहले उसकी करतूतों का जानकारी मिली थी, जिसके बाद से उसपर लगाता नजर रखने का क्रम जारी था। 

अहम होता है सिग्नल कोर

इस दौरान यह बता दें कि सेना में  'सिग्नल कोर'  एक अहम हिस्सा होता है, जिसके पास सेना से जुड़ी कई अति महत्वपूर्ण जानकारियां होती हैं। गिरफ्तार किया गया जवान इसी कोर का जवान है। 

Todays Beets: