Wednesday, April 24, 2019

Breaking News

   भाजपा के संकल्प पत्र में आतंकवाद और भ्रष्टाचार के खिलाफ कार्रवाई का वादा     ||   सुप्रीम कोर्ट ने लोकसभा चुनाव में ईवीएम और वीवीपैट के मिलान को पांच गुना बढ़ाया    ||    दिल्लीः NGT ने जर्मन कार कंपनी वोक्सवैगन पर 500 करोड़ का जुर्माना ठोंका     ||    दिल्लीः राहुल गांधी 11 मार्च को बूथ कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित करेंगे     ||    हैदराबाद: टीका लगाने के बाद एक बच्चे की मौत, 16 बीमार पड़े     ||   मध्य प्रदेश के ब्रांड एंबेसडर होंगे सलमान खान, CM कमलनाथ ने दी जानकारी     ||   पाकिस्तान को FATF से मिली राहत, ग्रे लिस्ट में रहेगा बरकरार     ||   आय से अधिक संपत्ति केसः हिमाचल के पूर्व CM वीरभद्र सिंह के खिलाफ आरोप तय     ||   भीमा-कोरेगांव केसः बॉम्बे HC ने आनंद तेलतुंबड़े की याचिका पर सुनवाई 27 तक टाली     ||   हिमाचल प्रदेश: किन्नौर जिले में आया भूकंप, तीव्रता 3.5     ||

आईएसआई लिए जासूसी करने वाला सिग्नल कोर का जवान मेरठ छावनी से गिरफ्तार, व्हाट्सएप करता था जानकारियां

अंग्वाल संवाददाता
आईएसआई लिए जासूसी करने वाला सिग्नल कोर का जवान मेरठ छावनी से गिरफ्तार, व्हाट्सएप करता था जानकारियां

मेरठ । पाकिस्तान के लिए जासूसी करने के आरोप में भारतीय सेना के सिग्नल रेजिमेंट के एक जवान को गिरफ्तार किया गया है। इस जवान को मेरठ छावनी से गिरफ्तार किया गया है। आरोप हैं कि इस जवान ने पाकिस्तान के लिए कुछ गुप्त जानकारियां और कई नक्शे जुटाए और उन्हें दुश्मन देश की एजेंसियों को मुहैया करवाया। यह जवान मूल रूप से उत्तराखंड का रहने वाला है, जिसे हिरासत में लेकर पूछताछ करने पर उसने कई अहम जानकारियां दी हैं। 

पिछले 10 माह से कर रहा था जासूसी

मिली जानकारी के मुताबिक, पिछले 10 सालों से भारतीय फौज में सेवा दे रहे इस जवान को पिछले दिनों एक सूचना के आधार पर निगरानी पर लिया गया। उसकी हरकतों पर नजर रखने के बाद एकाएक उसके खिलाफ कार्रवाई करते हुए उसे मेरठ छावनी से गिरफ्तार कर लिया है। वह पिछले 10 महीनों से पाकिस्तान की खुफिया एजेंसियों से जुड़े लोगों के संपर्क में था। 

कई बार फोन पर पाकिस्तान बात की 


इस दौरान जानकारी मिली है कि वह लंबे समय से पाकिस्तान की खुफिया एजेंसियों से जुड़े लोगों से फोन पर बात करता था। इतना ही नहीं कई जानकारियां व्हाट्सएप के जरिए दुश्मन देश की सैन्य एजेंसियों को मुहैया करवाता था। आर्मी इंटेलिजेंस को 3 महीनें पहले उसकी करतूतों का जानकारी मिली थी, जिसके बाद से उसपर लगाता नजर रखने का क्रम जारी था। 

अहम होता है सिग्नल कोर

इस दौरान यह बता दें कि सेना में  'सिग्नल कोर'  एक अहम हिस्सा होता है, जिसके पास सेना से जुड़ी कई अति महत्वपूर्ण जानकारियां होती हैं। गिरफ्तार किया गया जवान इसी कोर का जवान है। 

Todays Beets: