Wednesday, November 14, 2018

Breaking News

   एसबीआई ने क्लासिक कार्ड से पैसे निकालने के बदले नियम    ||   बाजार में मंगलवार को आई बहार, सेंसेक्स और निफ्टी में बढ़त     ||   हिंदूराव अस्पताल के ऑपरेशन थियेटर में निकला सांप , हंगामा     ||   सीबीआई के स्पेशल डायरेक्टर राकेश अस्थाना के आरोपों के बाद हो सकता है उनका लाइ डिटेक्टर टेस्ट    ||   देहरादून की मॉडल ने किया मुंबई में हंगामा , वाचमैन के साथ की हाथापाई , पुलिस आई तो उतार दिए कपड़े     ||   दंतेवाड़ा में नक्सली हमला, दो जवान शहीद , दुरदर्शन के कैमरामैन की भी मौत     ||   सेना हर चुनौती से न‍िपटने के ल‍िए तैयार, सर्जिकल स्ट्राइक भी व‍िकल्‍प: रणबीर सिंह    ||   BJP विधायक मानवेंद्र ने बदला पाला, राज्यवर्धन बोले- कांग्रेस ने 70 साल में मंत्री नहीं बनाया    ||   सबरीमाला मंदिर में महिलाओं के प्रवेश पर छिड़ी जंग, हिरासत में 30 प्रदर्शनकारी    ||   विवेक तिवारी हत्याकांडः HC की लखनऊ बेंच ने CBI जांच की मांग ठुकराई    ||

आईएसआई लिए जासूसी करने वाला सिग्नल कोर का जवान मेरठ छावनी से गिरफ्तार, व्हाट्सएप करता था जानकारियां

अंग्वाल संवाददाता
आईएसआई लिए जासूसी करने वाला सिग्नल कोर का जवान मेरठ छावनी से गिरफ्तार, व्हाट्सएप करता था जानकारियां

मेरठ । पाकिस्तान के लिए जासूसी करने के आरोप में भारतीय सेना के सिग्नल रेजिमेंट के एक जवान को गिरफ्तार किया गया है। इस जवान को मेरठ छावनी से गिरफ्तार किया गया है। आरोप हैं कि इस जवान ने पाकिस्तान के लिए कुछ गुप्त जानकारियां और कई नक्शे जुटाए और उन्हें दुश्मन देश की एजेंसियों को मुहैया करवाया। यह जवान मूल रूप से उत्तराखंड का रहने वाला है, जिसे हिरासत में लेकर पूछताछ करने पर उसने कई अहम जानकारियां दी हैं। 

पिछले 10 माह से कर रहा था जासूसी

मिली जानकारी के मुताबिक, पिछले 10 सालों से भारतीय फौज में सेवा दे रहे इस जवान को पिछले दिनों एक सूचना के आधार पर निगरानी पर लिया गया। उसकी हरकतों पर नजर रखने के बाद एकाएक उसके खिलाफ कार्रवाई करते हुए उसे मेरठ छावनी से गिरफ्तार कर लिया है। वह पिछले 10 महीनों से पाकिस्तान की खुफिया एजेंसियों से जुड़े लोगों के संपर्क में था। 

कई बार फोन पर पाकिस्तान बात की 


इस दौरान जानकारी मिली है कि वह लंबे समय से पाकिस्तान की खुफिया एजेंसियों से जुड़े लोगों से फोन पर बात करता था। इतना ही नहीं कई जानकारियां व्हाट्सएप के जरिए दुश्मन देश की सैन्य एजेंसियों को मुहैया करवाता था। आर्मी इंटेलिजेंस को 3 महीनें पहले उसकी करतूतों का जानकारी मिली थी, जिसके बाद से उसपर लगाता नजर रखने का क्रम जारी था। 

अहम होता है सिग्नल कोर

इस दौरान यह बता दें कि सेना में  'सिग्नल कोर'  एक अहम हिस्सा होता है, जिसके पास सेना से जुड़ी कई अति महत्वपूर्ण जानकारियां होती हैं। गिरफ्तार किया गया जवान इसी कोर का जवान है। 

Todays Beets: