Monday, December 17, 2018

Breaking News

   कुशल भ्रष्टाचार और अक्षम प्रशासन का मॉडल है कांग्रेस-कम्युन‍िस्ट सरकार-PM मोदी     ||   CBI: राकेश अस्थाना केस में द‍िल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई 20 द‍िसंबर तक टली     ||   बैडम‍िंटन खि‍लाड़ी साइना नेहवाल ने पी कश्यप से की शादी     ||   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||   बाबा रामदेव रांची में खोलेंगे आचार्यकुलम, क्लास 1 से क्लास 4 तक मिलेगी शिक्षा     ||   मैंने महिलाओं व अन्य वर्गों के लिए काम किया, मेरा काम बोलेगा: वसुंधरा राजे     ||   बजरंगबली पर दिए गए बयान को लेकर हिन्दू महासभा ने योगी को कानूनी नोटिस भेजा     ||   पीएम मोदी 3 द‍िसंबर को हैदराबाद में लेंगे पब्ल‍िक मीट‍िंग     ||   भगत स‍िंह आतंकवादी नहीं, हमारे देश को उन पर गर्व है- फारुख अब्दुल्ला     ||   अन‍िल अंबानी की जेब में देश का पैसा जा रहा है-राहुल गांधी     ||

त्रिपुरा में आज से होगा ‘भगवाराज’, बिप्लवदेब लेंगे सीएम की शपथ, पीएम और भाजपाध्यक्ष भी रहेंगे मौजूद

अंग्वाल न्यूज डेस्क
त्रिपुरा में आज से होगा ‘भगवाराज’, बिप्लवदेब लेंगे सीएम की शपथ, पीएम और भाजपाध्यक्ष भी रहेंगे मौजूद

नई दिल्ली। त्रिपुरा में लेफ्ट के 25 सालों के शासन का परास्त कर भारी बहुमत से तीन हासिल करने वाली पार्टी भारतीय जनता पार्टी शुक्रवार को सरकार बनाने जा रही है। बिप्लवदेव असम राइफल्स मैदान में मुख्यमंत्री के तौर पर शपथ लेंगे। उनके साथ जिशनू देबबर्मा उपमुख्यमंत्री के पद की शपथ लेंगे। बिप्ल्वदेब के शपथ ग्रहण के बाद त्रिपुरा में पहली बार भाजपा के शासन की शुरुआत होगी। इस शपथ ग्रहण समारोह में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी, भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष के साथ भाजपा शासित प्रदेशों के मुख्यमंत्रियों के भी शामिल होंगे। 

 

गौरतलब है कि भारी जीत के बाद 48 वर्षीय बिप्ल्वदेब ने 6 मार्च को राज्यपाल तथागत राय से मिलकर सरकार बनाने का दावा पेश किया था। इसके बाद राज्यपाल ने सरकार बनाने के लिए उन्हें आमंत्रित किया। यहां बता दें कि मुख्यमंत्री के नाम को लेकर थोड़ी उहापोह की स्थिति बनी थी क्योंकि कुछ नेता आदिवासी नेता को मुख्यमंत्री बनाने की बात कह रहे थे लेकिन विधायक दल और आलाकमान ने बिप्लवदेव के नाम पर अपनी मुहर लगा दी।


ये भी पढ़ें - लखनऊ में बेकाबू सिटी बस ने कई लोगों को कुचला, 2 की मौके पर मौत, घायलों का इलाज जारी

यहां बता दें कि भाजपा और इंडीजीनियस पीपल्स पार्टी ऑफ त्रिपुरा(आईपीएफटी) गठबंधन  ने चुनाव में धमाकेदार प्रदर्शन किया और कम्यूनिस्ट पार्टी की 25 साल पुरानी सरकार को उखाड़ फेंका था। त्रिपुरा के 60 सीटों पर हुए चुनाव में भाजपा को 35 सीटें और उसकी सहयोगी पार्टी आईपीएफटी को 8 सीटों पर जीत हासिल हुई है।      

Todays Beets: