Tuesday, February 19, 2019

Breaking News

   महाराष्ट्रः ईस्ट इंडिया कंपनी द्वारा चलाई गई शकुंतला नैरो गेज ट्रेन में लगी आग     ||   केरलः दक्षिण पश्चिम तट से अवैध तरीके से भारत में घुसते 3 लोग गिरफ्तार     ||   ताबड़तोड़ एनकाउंटर पर योगी सरकार को SC का नोटिस, CJI बोले- विस्तृत सुनवाई की जरूरत     ||   तेहरान में बोइंग 707 किर्गिज कार्गो प्लेन क्रैश, 10 क्रू मेंबर की मौत     ||   PM मोदी बोले- जवानों के बाद किसानों की आंखों में धूल झोंक रही कांग्रेस     ||   PM मोदी बोले- हम ईमानदारी से कोशिश करते हैं, झूठे सपने नहीं दिखाते     ||   कुशल भ्रष्टाचार और अक्षम प्रशासन का मॉडल है कांग्रेस-कम्युन‍िस्ट सरकार-PM मोदी     ||   CBI: राकेश अस्थाना केस में द‍िल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई 20 द‍िसंबर तक टली     ||   बैडम‍िंटन खि‍लाड़ी साइना नेहवाल ने पी कश्यप से की शादी     ||   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||

कांग्रेस पदाधिकारियों की लगेगी क्लास, राहुल लेंगे कामकाज का हिसाब

अंग्वाल न्यूज डेस्क
कांग्रेस पदाधिकारियों की लगेगी क्लास, राहुल लेंगे कामकाज का हिसाब

 नई दिल्ली। कांग्रेस पार्टी के अध्यक्ष राहुल गांधी पार्टी में कामकाज के तरीकों में बदलाव करने के लिए लगातार प्रयास कर रहे हैं। वे पार्टी में पुरानी परंपरा की जगह नई परंपरा को शामिल कर रहे हैं। राहुल ने अब पार्टी के पदाधिकारियों को हर महीने कामकाज का रिपोर्ट जमा करने को कहा है। राहुल गांधी के द्वारा नियुक्त पार्टी के सचिवों और पदाधिकारियों को अपने दौरों और कामकाज का लेखा-जोखा पार्टी के संगठन महासचिव अशोक गहलोत को जमा करना होगा। 

दरअसल कांग्रेस में एक बार शीर्ष पद हासिल कर लेने के बाद उस पद पर जमे रहने की प्रवृति देखी गई है। आला कमान इस प्रवृति को बदलना चाह रहा है। ऐसे में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी नई परंपरा को लागू करना चाह रहे हैं। इसके अनुसार पद पर आसीन हैं तो काम कीजिए अन्यथा पद छोड़ दीजिए। कांग्रेस पार्टी के पदाधिकारियों को हर महीने 10 तरीख को पिछले महीने का रिपोर्ट संगठन महासचिव अशोक गहलोत को सौंपने को कहा गया है। इसके बाद 15 तारीख को यह रिपोर्ट राहुल गांधी के पास जाएगी। रिपोर्ट में देखा जाएगा पदाधिकारी महीने में दिल्ली से बाहर कितने बार गए और धरना प्रदर्शन में कितनी बार शामिल हुए।


फिलहाल विस्तृत रिपोर्ट खुद पदाधिकारी ही बनाकर जमा करेंगे, कुछ दिनों बाद पार्टी की ओर से प्रोफर्मा नेताओं को दिया जाएगा। जिसे भरकर उन्हें लौटाना होगा। मठाधीश बनकर पार्टी कार्यालय में जमे रहने से काम नहीं चलेगा बाहर सक्रियता दिखानी होगी ताकि पार्टी का जनाधार बढ़े। पार्टी की ओर से एक तरह से साफ किया गया है कि काम करो नहीं तो संगठन से छुट्टी कर दी जाएगी।   

Todays Beets: