Monday, October 22, 2018

Breaking News

   सेना हर चुनौती से न‍िपटने के ल‍िए तैयार, सर्जिकल स्ट्राइक भी व‍िकल्‍प: रणबीर सिंह    ||   BJP विधायक मानवेंद्र ने बदला पाला, राज्यवर्धन बोले- कांग्रेस ने 70 साल में मंत्री नहीं बनाया    ||   सबरीमाला मंदिर में महिलाओं के प्रवेश पर छिड़ी जंग, हिरासत में 30 प्रदर्शनकारी    ||   विवेक तिवारी हत्याकांडः HC की लखनऊ बेंच ने CBI जांच की मांग ठुकराई    ||   केरलः अंतरराष्ट्रीय हिंदू परिषद ने सबरीमाला फैसले के खिलाफ HC में लगाई याचिका    ||   कोलकाताः HC ने दुर्गा पूजा आयोजकों को ममता के 28 करोड़ देने के फैसले पर रोक लगाई    ||    रूस के साथ S-400 एयर डिफेंस मिसाइल पर भारत की डील    ||   नार्वेः राजधानी ओस्लो में आज होगा शांति के नोबेल पुरस्कार का ऐलान    ||   अंकित सक्सेना मर्डर केसः ट्रायल के लिए अभियोगपक्ष के 2 वकीलों की नियुक्ति    ||   जम्मू कश्मीर में नेशनल कॉफ्रेंस के दो कार्यकर्ताओं की गोली मारकर हत्या, मरने वालों में एक MLA का पीए भी     ||

विवादित राफेल को लेकर सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र से पूछा, सौदे कैसे किया, प्रक्रिया की जानकारी बंद लिफाफे में दें

अंग्वाल न्यूज डेस्क
विवादित राफेल को लेकर सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र से पूछा, सौदे कैसे किया, प्रक्रिया की जानकारी बंद लिफाफे में दें

नई दिल्ली। केंद्र सरकार द्वारा फ्रांस से खरीदे गए लड़ाकू राफेल विमान पर हो रहे विवाद के बीच सुप्रीम कोर्ट ने बुधवार को इसके खिलाफ दायर याचिका पर सुनवाई की। मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई, न्यायामूर्ति एके कौल और न्यायामूर्ति के एम जोसफ की पीठ ने इसकी सुनवाई करते हुए केंद्र सरकार को राफेल की खरीद प्रक्रिया की जानकारी बंद लिफाफे में देने के लिए कहा है। इसके लिए सरकार को 29 अक्टूबर तक का समय दिया गया है। अदालत की ओर से इस मामले पर अब अगली सुनवाई 21 अक्टूबर को होगी। इसके साथ ही अदालत ने खरीद रोकने वाली याचिका को खारिज कर दिया। 

गौरतलब है कि राफेल लड़ाकू विमान की खरीदारी को लेकर विपक्ष लगातार सरकार पर हमलावर रहा है। कांग्रेस की ओर से खरीद में भारी भ्रष्टाचार का आरोप लगाया गया है। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने तो इस मामले में प्रधानमंत्री और रक्षामंत्री पर देश से झूठ बोलने और अनिल अंबानी को फायदा पहुंचाने का आरोप लगाया है। अब सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र से सौदे की प्रक्रिया की जानकारी बंद लिफाफे में देने के निर्देश दिए हैं। इसमें विमान की कीमतों की जानकारी शामिल नहीं है।

ये भी पढ़ें - LIVE: दिल्ली सरकार के परिवहन मंत्री के घर और 16 ठिकानों पर आयकर विभाग का छापा, कई दस्तावेज लि...


यहां बता दें कि कांग्रेस ने सरकार पर आरोप लगाते हुए कहा था कि उनके शासनकाल में कुल 126 विमानों की खरीद के लिए समझौता किया गया था ऐसे में एनडीए सरकार ने सिर्फ 36 विमान ही क्यों खरीदे? इसके साथ ही अनिल अंबानी को विमान निर्माण का कोई अनुभव नहीं होने के बावजूद उन्हें ठेका दिलवाने का काम किया। हालांकि अनिल अंबानी ने इसका खंडन करते हुए कहा उनके साथ सरकार की ओर से कोई करार नहीं किया है। 

 

Todays Beets: