Saturday, December 15, 2018

Breaking News

   कुशल भ्रष्टाचार और अक्षम प्रशासन का मॉडल है कांग्रेस-कम्युन‍िस्ट सरकार-PM मोदी     ||   CBI: राकेश अस्थाना केस में द‍िल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई 20 द‍िसंबर तक टली     ||   बैडम‍िंटन खि‍लाड़ी साइना नेहवाल ने पी कश्यप से की शादी     ||   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||   बाबा रामदेव रांची में खोलेंगे आचार्यकुलम, क्लास 1 से क्लास 4 तक मिलेगी शिक्षा     ||   मैंने महिलाओं व अन्य वर्गों के लिए काम किया, मेरा काम बोलेगा: वसुंधरा राजे     ||   बजरंगबली पर दिए गए बयान को लेकर हिन्दू महासभा ने योगी को कानूनी नोटिस भेजा     ||   पीएम मोदी 3 द‍िसंबर को हैदराबाद में लेंगे पब्ल‍िक मीट‍िंग     ||   भगत स‍िंह आतंकवादी नहीं, हमारे देश को उन पर गर्व है- फारुख अब्दुल्ला     ||   अन‍िल अंबानी की जेब में देश का पैसा जा रहा है-राहुल गांधी     ||

अब अलीगढ़ तक होगा दिल्ली-एनसीआर का दायरा, उत्तरप्रदेश के 4 और जिले होंगे शामिल

अंग्वाल न्यूज डेस्क
अब अलीगढ़ तक होगा दिल्ली-एनसीआर का दायरा, उत्तरप्रदेश के 4 और जिले होंगे शामिल

नई दिल्ली। दिल्ली-एनसीआर का दायरा जल्द ही और बड़ा हो सकता है। इसमें उत्तरप्रदेश के 4 और जिलों को शामिल किया जाएगा। उत्तरप्रदेश सरकार ने दिल्ली-एनसीआर प्लानिंग बोर्ड को इसका प्रस्ताव भेजा है। सरकार ने मथुरा, अलीगढ़, हाथरस और बिजनौर को भी दिल्ली-एनसीआर में शामिल करने की बात कही है।

योगी सरकार ने केंद्र को भेजा प्रस्ताव

उत्तरप्रदेश के 4 जिलों को राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र में शामिल होने के लिए योगी सरकार की ओर से केंद्र को प्रस्ताव भेजा जा चुका है। आवास एवं शहरी नियोजन विभाग ने एनसीआर प्लानिंग बोर्ड को इसका प्लान भेज दिया है। बता दें कि दिल्ली-एनसीआर में अभी तक हरियाणा, उत्तर प्रदेश और राजस्थान के 23 जिले आते हैं। ऐसे में मथुरा, अलीगढ़, हाथरस और बिजनौर के शामिल होने से इसकी संख्या 27 हो जाएगी। 


ये भी पढ़ें - अभी-अभी...पुलिस के तीन सुरक्षा चक्र को चकमा देकर जिग्नेश जंतर-मंतर के करीब पहुंचे, हंगामे के आसार

एनसीआर प्लानिंग बोर्ड का है नियंत्रण

यहां बता दें कि दिल्ली और इसके आसपास के इलाकों में बुनियादी सुविधाओं का विकास करने लिए 1985 में बने कानून के तहत राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र की स्थापना की गई थी। केंद्र सरकार का शहरी विकास मंत्रालय नेशनल कैपिटल रीजन प्लानिंग बोर्ड के जरिए इन जिलों को विकास योजनाओं में सीधे नियंत्रित करता है।

Todays Beets: