Wednesday, January 17, 2018

Breaking News

   98 साल की उम्र में MA करने वाले राज कुमार का संदेश, कहा-हमेशा कोशिश करते रहें     ||   मुंबई स्टॉक एक्सचेंज ने पार किया 34000 का आंकड़ा, ऑफिस में जश्न का माहौल     ||   पं. बंगाल: मालदा से 2 लाख रुपये के फर्जी नोट बरामद, एक गिरफ्तार    ||   सेक्स रैकेट का भंड़ाभोड़: दिल्ली की लेडी डॉन सोनू पंजाबन अरेस्ट    ||   रूपाणी कैबिनेट: पाटीदारों का दबदबा, 1 महिला को भी मंत्रिमंडल में मिली जगह    ||   पशु तस्करों और पुलिस में मुठभेड़, जवाबी गोलीबारी में एक मरा, घायल गायें बरामद    ||   RTI में खुलासा- भगत सिंह-राजगुरु-सुखदेव को अब तक नहीं मिला शहीद का दर्जा, सरकारी किताब में बताया गया 'आतंकी'     ||    गुजरात चुनाव: रैली में बोले BJP नेता- दाढ़ी-टोपी वालों को कम करना पड़ेगा, डराने आया हूं ताकि वो आंख न उठा सकें    ||   मध्य प्रदेश: बाबरी विध्वंस पर जुलूस निकाल रहे विहिप-बजरंग दल कार्यकर्ता पर पथराव, भड़क गई हिंसा    ||   बैंक अकाउंट को आधार से जोड़ने की तारीख बढ़ी, जानिए क्या है नई तारीख    ||

अब अलीगढ़ तक होगा दिल्ली-एनसीआर का दायरा, उत्तरप्रदेश के 4 और जिले होंगे शामिल

अंग्वाल न्यूज डेस्क
अब अलीगढ़ तक होगा दिल्ली-एनसीआर का दायरा, उत्तरप्रदेश के 4 और जिले होंगे शामिल

नई दिल्ली। दिल्ली-एनसीआर का दायरा जल्द ही और बड़ा हो सकता है। इसमें उत्तरप्रदेश के 4 और जिलों को शामिल किया जाएगा। उत्तरप्रदेश सरकार ने दिल्ली-एनसीआर प्लानिंग बोर्ड को इसका प्रस्ताव भेजा है। सरकार ने मथुरा, अलीगढ़, हाथरस और बिजनौर को भी दिल्ली-एनसीआर में शामिल करने की बात कही है।

योगी सरकार ने केंद्र को भेजा प्रस्ताव

उत्तरप्रदेश के 4 जिलों को राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र में शामिल होने के लिए योगी सरकार की ओर से केंद्र को प्रस्ताव भेजा जा चुका है। आवास एवं शहरी नियोजन विभाग ने एनसीआर प्लानिंग बोर्ड को इसका प्लान भेज दिया है। बता दें कि दिल्ली-एनसीआर में अभी तक हरियाणा, उत्तर प्रदेश और राजस्थान के 23 जिले आते हैं। ऐसे में मथुरा, अलीगढ़, हाथरस और बिजनौर के शामिल होने से इसकी संख्या 27 हो जाएगी। 


ये भी पढ़ें - अभी-अभी...पुलिस के तीन सुरक्षा चक्र को चकमा देकर जिग्नेश जंतर-मंतर के करीब पहुंचे, हंगामे के आसार

एनसीआर प्लानिंग बोर्ड का है नियंत्रण

यहां बता दें कि दिल्ली और इसके आसपास के इलाकों में बुनियादी सुविधाओं का विकास करने लिए 1985 में बने कानून के तहत राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र की स्थापना की गई थी। केंद्र सरकार का शहरी विकास मंत्रालय नेशनल कैपिटल रीजन प्लानिंग बोर्ड के जरिए इन जिलों को विकास योजनाओं में सीधे नियंत्रित करता है।

Todays Beets: