Friday, June 22, 2018

Breaking News

   उत्तर भारत में धूल: चंडीगढ़ में सुबह 11 बजे अंधेरा छाया, 26 उड़ानें रद्द; दिल्ली में भी धूल कायम     ||   टेस्ट में भारत की सबसे बड़ी जीत: अफगानिस्तान को एक दिन में 2 बार ऑलआउट किया, डेब्यू टेस्ट 2 दिन में खत्म     ||   पेशावर स्कूल हमले का मास्टरमाइंड और मलाला पर गोली चलवाने वाला आतंकी फजलुल्लाह मारा गया: रिपोर्ट     ||   कानपुर जहरीली शराब मामले में 5अधिकारी निलंबित     ||   अब जल्द ही बिना नेटवर्क भी कर सकेंगे कॉल, बस Wi-Fi की होगी जरुरत     ||   मौलाना मदनी ने भी की एएमयू से जिन्‍ना की तस्‍वीर हटाने की वकालत     ||   भारत-चीन सेना के बीच हॉटलाइन की तैयारी, LoC पर तनाव होगा दूर     ||   कसौली में धारा 144 लागू, आरोपित पुलिस की गिरफ्त से बाहर     ||   स्कूली बच्चों पर पत्थरबाजी से भड़के उमर अब्दुल्ला, कहा- ये गुंडों जैसी हरकत     ||   थर्ड फ्रंट: ममता, कनिमोझी....और अब केसीआर की एसपी चीफ अखिलेश यादव के साथ बैठक     ||

सेना प्रमुख का बड़ा बयान, बोले- चीन शक्तिशाली देश, दबाव बढ़ने पर हमारे जवान और हमारी सेना दोनों तैयार 

अंग्वाल संवाददाता
सेना प्रमुख का बड़ा बयान, बोले- चीन शक्तिशाली देश, दबाव बढ़ने पर हमारे जवान और हमारी सेना दोनों तैयार 

नई दिल्ली । सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत ने शुक्रवार को एक बार फिर चीन पर सीधा हमला बोला। मीडिया से बातचीत में सेना प्रमुख ने कहा- चीन एक शक्तिशाली देश है, लेकिन भारत कोई कमजोर राष्ट्र नहीं है। पिछले कुछ समय से चीन कुछ मुद्दों को लेकर लगातार दबाव डाल रहा है, हम भी उनसे निपट रहे हैं। हालांकि हमारा ध्यान इस ओर भी है कि ये दबाव बढ़ने न पाए। हम अपने क्षेत्र को आतंकित करने की अनुमति नहीं देंगे। हमारे सैनिक तैनात हैं, यदि जरूरत पड़ी तो हमारी सेना भी तैयार हैं। 

ये भी पढ़ें- पीएम मोदी दुनिया के तीसरे सबसे लोकप्रिय नेता, ट्रंप, पुतिन और जिनपिंग को भी पछाड़ा

सेना प्रमुख ने चीन की हालिया नापाक हरकतों पर कहा कि हम चीन की हर प्रकार की हठ बाजी से निपटने के लिए पूरी तरह सक्षम हैं। हम अपने पड़ोसियों को चीन के पाले में जाने नहीं दे सकते। उन्होंने कहा कि भारत अपने पड़ोसियों को देश से दूर होकर चीन के करीब नहीं जाने दे सकता। 

ये भी पढ़ें-  सुप्रीम कोर्ट के 4 जजों ने मुख्य न्यायाधीश पर लगाए कई आरोप, पीएम ने बुलाया कानून मंत्री को


इस दौरान जनरल बिपिन रावत ने अमेरिका द्वारा आतंकवाद से निपटने को लेकर पाकिस्तान को दी गई चेतावनियों पर कहा कि भारत को इंतजार करना होगा और पाकिस्तान पर अमेरिकी दबाव के असर को देखना होगा। सेना प्रमुख ने कश्मीरी छात्रों से पूछा, आप लोगों में से कितनों ने पवित्र कुरान पढ़ी है? उन्होंने कहा कि पाकिस्तान में आतंकवादी केवल इस्तेमाल करके फेंकने की चीज हैं और भारतीय सेना का नजरिया यह सुनिश्चित करना रहा है कि उसे दर्द का एहसास हो। 

ये भी पढ़ें- चारा घोटाले मामले में सीबीआई की कोर्ट में बोले लालू, ओपन जेल गए तो नरसंहार हो जाएगा

उन्होंने पत्रकारों के सवालों का जवाब देते हुए कहा कि सैन्य स्तर पर, यदि कोई खतरा है तो हमें तैयार रहना चाहिए। अब हमें अपना ध्यान उत्तरी सीमा पर स्थानांतरित करना चाहिए। 2017 में हमारा ध्यान दक्षिण कश्मीर पर था। इस साल हम उत्तरी कश्मीर के बारामुला, पट्टन, हंडवारा, कुपवाड़ा, सोपोर और लोलाब और बांदीपोर के कुछ उत्तरी क्षेत्रों पर ध्यान केंद्रित कर रहे हैं, ताकि घुसपैठ को रोका जा सके। 

Todays Beets: