Tuesday, February 19, 2019

Breaking News

   महाराष्ट्रः ईस्ट इंडिया कंपनी द्वारा चलाई गई शकुंतला नैरो गेज ट्रेन में लगी आग     ||   केरलः दक्षिण पश्चिम तट से अवैध तरीके से भारत में घुसते 3 लोग गिरफ्तार     ||   ताबड़तोड़ एनकाउंटर पर योगी सरकार को SC का नोटिस, CJI बोले- विस्तृत सुनवाई की जरूरत     ||   तेहरान में बोइंग 707 किर्गिज कार्गो प्लेन क्रैश, 10 क्रू मेंबर की मौत     ||   PM मोदी बोले- जवानों के बाद किसानों की आंखों में धूल झोंक रही कांग्रेस     ||   PM मोदी बोले- हम ईमानदारी से कोशिश करते हैं, झूठे सपने नहीं दिखाते     ||   कुशल भ्रष्टाचार और अक्षम प्रशासन का मॉडल है कांग्रेस-कम्युन‍िस्ट सरकार-PM मोदी     ||   CBI: राकेश अस्थाना केस में द‍िल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई 20 द‍िसंबर तक टली     ||   बैडम‍िंटन खि‍लाड़ी साइना नेहवाल ने पी कश्यप से की शादी     ||   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||

दिल्ली हाईकोर्ट ने पूर्व मुख्य सचिव अंशु प्रकाश समेत 3 अधिकारियों को दिया झटका, विधानसभा समिति पेश हों नहीं तो होगी कार्रवाई

अंग्वाल न्यूज डेस्क
दिल्ली हाईकोर्ट ने पूर्व मुख्य सचिव अंशु प्रकाश समेत 3 अधिकारियों को दिया झटका, विधानसभा समिति पेश हों नहीं तो होगी कार्रवाई

नई दिल्ली। दिल्ली के पूर्व मुख्य सचिव अंशु प्रकाश से मारपीट का मामला ठंडा नहीं पड़ रहा है। दिल्ली हाईकोर्ट ने इस मामले में अंशु प्रकाश समेत 3 अधिकारियों को एक बड़ा झटका दिया है। कोर्ट ने इन सभी अधिकारियों को दिल्ली विधानसभा की समिति के समाने पेश होने के निर्देश दिए हैं। अदालत ने अधिकारियों को सख्त चेतावनी देते हुए कहा है कि अगर वे पेश नहीं होते हैं तो उनके खिलाफ अदालत की अवमानना का मामला चलाया जाएगा। इन अधिकारियों ने प्रश्न एवं संदर्भ समिति की ओर से जारी समन को हाईकोर्ट में चुनौती दी थी।

गौरतलब है कि विधानसभा की विशेषाधिकार समिति ने अंशु प्रकाश को 20 फरवरी को नोटिस जारी किया था। बता दें कि इससे एक दिन पहले उनके साथ आप के 2 विधायकों ने कथित रूप से मारपीट की थी। विशेषाधिकार समिति ने यह नोटिस प्रश्न एवं संदर्भ समिति से शिकायत मिलने के बाद जारी किया था। यहां बता दें कि हाईकोर्ट ने दिल्ली विधानसभा, विधानसभा अध्यक्ष और 2 समितियों की दलीलें सुनने के बाद दिया है जिसमें कहा गया है कि ये अधिकारी न ही विधानसभा समिति के सामने पेश हो रहे हैं और न ही पूछे गए सवालों का जवाब ही दे रहे हैं। अधिकारी कोर्ट के 9 मार्च के आदेश की आड़ में मनमानी कर रहे हैं। हाईकोर्ट के जस्टिस विभू बाखरू ने अपने निर्देश में कहा कि याचिकाकर्ता अधिकारी हैं और उन्हें समिति के समक्ष पेश होना होगा। अगर वे ऐसा नहीं करते हैं तो कोर्ट उनके खिलाफ अदालती अवमानना का नोटिस जारी कर सकती है। 

ये भी पढ़ें - अखनूर में सुरक्षा का जायजा लेंगे रावत, आतंकवादियों से निपटने का मंत्र देंगे सैन्य अधिकारियों को  


यहां बता दें कि कोर्ट ने विधानसभाध्यक्ष और समितियों की दलीलें सुनने के बाद अधिकारियों को सख्त निर्देश दिए हैं कि अधिकारी बिना किसी पूर्वाग्रह समितियों की कार्यवाही में शामिल हों। कोर्ट ने यह भी कहा कि इन अधिकारियों की याचिका पर सुनवाई होने तक समिति कोई कार्रवाई नहीं करेगी। इन कार्यवाहियों की वीडियो रिकाॅर्डिंग भी कराने के निर्देश दिए हैं। 

 

Todays Beets: