Saturday, March 23, 2019

Breaking News

    दिल्लीः NGT ने जर्मन कार कंपनी वोक्सवैगन पर 500 करोड़ का जुर्माना ठोंका     ||    दिल्लीः राहुल गांधी 11 मार्च को बूथ कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित करेंगे     ||    हैदराबाद: टीका लगाने के बाद एक बच्चे की मौत, 16 बीमार पड़े     ||   मध्य प्रदेश के ब्रांड एंबेसडर होंगे सलमान खान, CM कमलनाथ ने दी जानकारी     ||   पाकिस्तान को FATF से मिली राहत, ग्रे लिस्ट में रहेगा बरकरार     ||   आय से अधिक संपत्ति केसः हिमाचल के पूर्व CM वीरभद्र सिंह के खिलाफ आरोप तय     ||   भीमा-कोरेगांव केसः बॉम्बे HC ने आनंद तेलतुंबड़े की याचिका पर सुनवाई 27 तक टाली     ||   हिमाचल प्रदेश: किन्नौर जिले में आया भूकंप, तीव्रता 3.5     ||   PAK सेना के ISPR के डीजी ने कहा- हम युद्ध की तैयारी नहीं कर रहे, भारत धमकी दे रहा है     ||   ICC को खत लिखेगी BCCI- आतंक समर्थक देश के साथ खत्म हो क्रिकेट संबंध     ||

अविश्वास प्रस्ताव बहुमत बनाम नैतिकता थी: चंद्रबाबू नायडू 

अंग्वाल न्यूज डेस्क
अविश्वास प्रस्ताव बहुमत बनाम नैतिकता थी: चंद्रबाबू नायडू 

नई दिल्ली। किसी सरकार के खिलाफ लोकसभा में 15 साल के बाद अविश्वास प्रस्ताव लाया गया। तेलगू देशम पार्टी के अध्यक्ष चंद्रबाबू नायडू ने शनिवार को नई दिल्ली मंे कहा कि हमें पता था कि एनडीए सरकार के पास बहुमत है और सरकार लोकसभा में अपना बहुमत साबित कर देगी। हमारा अविश्वास प्रस्ताव एक तरह से बहुमत बनाम नैतिकता था। केंद्र सरकार नैतिकता के मामले में सभी मोर्चो पर विफल रही है। आंध्रप्रदेश के मुख्यमंत्री ने कहा कि सरकार ने देश के लोगों का विश्वास खो दिया है।

चंद्रबाबू नायडू ने कहा कि एनडीए सरकार के पास भले ही बहुमत है लेकिन नैतिक रूप से सरकार हर मोर्चे पर विफल साबित हुई है। केंद्र की सरकार ने आंध्रप्रदेश के 5 करोड़ जनता की भावनाओं का भी सम्मान नहीं किया। 4 साल में एनडीए सरकार के खिलाफ यह पहला अविश्वास प्रस्ताव था, सरकार ने फ्लोर पर बहुत साबित करके विपक्ष को शिकस्त दे दी। बेरोजगारी, किसानों की समस्या की मुद्दे पर सरकार चुनाव से पहले जागी है। ये सरकार के नैतिक खोखलेपन को साबित करता है।  


बता दें कि लोकसभा में शुक्रवार को टीडीपी द्वारा लाए गए अविश्वास प्रस्ताव के दौरान एनडीए सरकार के पक्ष में 325 वोट मिले जबकि विपक्ष को 126 वोट मिले। शुक्रवार को कुल 451 सांसद लोकसभा में उपस्थित थे। एआईएडीएमके ने सरकार के समर्थन में वोटिंग की। शिवसेना और बीजद तटस्थ रहे। अर्थात् शिवसेना और बीजद ने न किसी पक्ष में वोट दिया न ही किसी का विरोध किया।   

Todays Beets: