Thursday, October 19, 2017

Breaking News

   पटना पहुंचे मोहन भागवत, यज्ञ में भाग लेने जाएंगे आरा, नीतीश भी जाएंगे    ||   अखिलेश को आया चाचा शिवपाल का फोन, कहा- आप अध्यक्ष हैं आपको बधाई    ||   अमेरिका में सभी श्रेणियों में H-1B वीजा के लिए आवश्यक कार्रवाई बहाल    ||   रोहिंग्या पर किया वीडियो पोस्ट, म्यांमार की ब्यूटी क्वीन का ताज छिना    ||   अब गेस्ट टीचरों को लेकर CM केजरीवाल और LG में ठनी    ||   केरल में अमित शाह के बाद योगी की पदयात्रा, राजनीतिक हत्याओं पर लेफ्ट को घेरने की रणनीति    ||   जम्मू कश्मीर के नौगाम में लश्कर कमांडर अबू इस्माइल के साथ मुठभेड़,     ||   राम रहीम मामले पर गौतम का गंभीर प्रहार, कहा- धार्मिक मार्केटिंग का यह एक क्लासिक उदाहरण    ||   ट्राई ने ओवरचार्जिंग के लिए आइडिया पर लगाया 2.9 करोड़ का जुर्माना    ||   मदरसों का 15 अगस्त को ही वीडियोग्राफी क्यों? याचिका दायर, सुनवाई अगले सप्ताह    ||

न्यूयॉर्क में जेटली बोले- भारत सरकार बोल्ड फैसले लेने और उन्हें लागू कराने में सक्षम

अंग्वाल न्यूज डेस्क
न्यूयॉर्क में जेटली बोले- भारत सरकार बोल्ड फैसले लेने और उन्हें लागू कराने में सक्षम

न्यूयॉर्क । भारतीय उद्योग परिसंघ (CII) और यूएस इंडिया बिजनेस काउंसिल (USIBC) में आयोजित एक समारोह में शिकरत करने के लिए भारतीय विदेश मंत्री बुधवार को अमेरिका में मौजूद रहे। इस दौरान अरुण जेटली ने कहा कि अन्य देशों की उभरती हुई अर्थव्यवस्थाओं के बीच भारतीय अर्थव्यवस्था एक बहुत साफ और बड़ी अर्थव्यवस्था बनने में सक्षम है। ऐसा इसलिए हो पाएगा क्योंकि भारत सरकार काफी बोल्ड फैसले लेने और उन्हें लागू करने में सक्षम है। उन्होंने कहा कि मौजूदा समय में उभरती अर्थव्यवस्थाओं के बीच, भारत में न केवल एक बड़े बाजार होने की संभावना है बल्कि यह एक बहुत ही साफ-सुथरी अर्थव्यवस्था भी है। 

जेटली ने इस दौरान कहा कि विपक्ष ने जीएसटी को लागू नहीं करने देने के प्रयासों के बावजूद GST काफी हद तक साफ है। आने वाले दिनों में लोगों को काफी बदलाव देखने को मिलेंगे। उन्होंने कहा कि पूर्व में कोई भी सरकार वास्तव में अपने राजनीतिक और आर्थिक एजेंडा का एक हिस्सा बनाने का साहस नहीं कर पाई। जीएसटी परिषद की अगली बैठक 9-10 नवंबर को गुवाहाटी में होगी। 


फेडरेशन ऑफ इंडियन चैंबर्स ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री (एफआईसीआईआई) और भारतीय उद्योग परिसंघ (सीआईआई) के प्रतिनिधिमंडल के साथ अमेरिका की एक सप्ताह की लंबी यात्रा पर आए जेटली अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ) और विश्व बैंक के प्रतिनिधियों के साथ बैठकों में शामिल होंगे। इस दौरान जेटली पिछले तीन सालों के अंतराल में हुए राष्ट्रीय विकास कार्यक्रमों, भारतीय अर्थव्यवस्था की स्थिति, जीएसटी और हाल में राजनीति से प्रेरित कुछ बदलावों पर भी विचार विमर्श कर सकते हैं।  

Todays Beets: