Monday, February 19, 2018

Breaking News

   98 साल की उम्र में MA करने वाले राज कुमार का संदेश, कहा-हमेशा कोशिश करते रहें     ||   मुंबई स्टॉक एक्सचेंज ने पार किया 34000 का आंकड़ा, ऑफिस में जश्न का माहौल     ||   पं. बंगाल: मालदा से 2 लाख रुपये के फर्जी नोट बरामद, एक गिरफ्तार    ||   सेक्स रैकेट का भंड़ाभोड़: दिल्ली की लेडी डॉन सोनू पंजाबन अरेस्ट    ||   रूपाणी कैबिनेट: पाटीदारों का दबदबा, 1 महिला को भी मंत्रिमंडल में मिली जगह    ||   पशु तस्करों और पुलिस में मुठभेड़, जवाबी गोलीबारी में एक मरा, घायल गायें बरामद    ||   RTI में खुलासा- भगत सिंह-राजगुरु-सुखदेव को अब तक नहीं मिला शहीद का दर्जा, सरकारी किताब में बताया गया 'आतंकी'     ||    गुजरात चुनाव: रैली में बोले BJP नेता- दाढ़ी-टोपी वालों को कम करना पड़ेगा, डराने आया हूं ताकि वो आंख न उठा सकें    ||   मध्य प्रदेश: बाबरी विध्वंस पर जुलूस निकाल रहे विहिप-बजरंग दल कार्यकर्ता पर पथराव, भड़क गई हिंसा    ||   बैंक अकाउंट को आधार से जोड़ने की तारीख बढ़ी, जानिए क्या है नई तारीख    ||

न्यूयॉर्क में जेटली बोले- भारत सरकार बोल्ड फैसले लेने और उन्हें लागू कराने में सक्षम

अंग्वाल न्यूज डेस्क
न्यूयॉर्क में जेटली बोले- भारत सरकार बोल्ड फैसले लेने और उन्हें लागू कराने में सक्षम

न्यूयॉर्क । भारतीय उद्योग परिसंघ (CII) और यूएस इंडिया बिजनेस काउंसिल (USIBC) में आयोजित एक समारोह में शिकरत करने के लिए भारतीय विदेश मंत्री बुधवार को अमेरिका में मौजूद रहे। इस दौरान अरुण जेटली ने कहा कि अन्य देशों की उभरती हुई अर्थव्यवस्थाओं के बीच भारतीय अर्थव्यवस्था एक बहुत साफ और बड़ी अर्थव्यवस्था बनने में सक्षम है। ऐसा इसलिए हो पाएगा क्योंकि भारत सरकार काफी बोल्ड फैसले लेने और उन्हें लागू करने में सक्षम है। उन्होंने कहा कि मौजूदा समय में उभरती अर्थव्यवस्थाओं के बीच, भारत में न केवल एक बड़े बाजार होने की संभावना है बल्कि यह एक बहुत ही साफ-सुथरी अर्थव्यवस्था भी है। 

जेटली ने इस दौरान कहा कि विपक्ष ने जीएसटी को लागू नहीं करने देने के प्रयासों के बावजूद GST काफी हद तक साफ है। आने वाले दिनों में लोगों को काफी बदलाव देखने को मिलेंगे। उन्होंने कहा कि पूर्व में कोई भी सरकार वास्तव में अपने राजनीतिक और आर्थिक एजेंडा का एक हिस्सा बनाने का साहस नहीं कर पाई। जीएसटी परिषद की अगली बैठक 9-10 नवंबर को गुवाहाटी में होगी। 


फेडरेशन ऑफ इंडियन चैंबर्स ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री (एफआईसीआईआई) और भारतीय उद्योग परिसंघ (सीआईआई) के प्रतिनिधिमंडल के साथ अमेरिका की एक सप्ताह की लंबी यात्रा पर आए जेटली अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ) और विश्व बैंक के प्रतिनिधियों के साथ बैठकों में शामिल होंगे। इस दौरान जेटली पिछले तीन सालों के अंतराल में हुए राष्ट्रीय विकास कार्यक्रमों, भारतीय अर्थव्यवस्था की स्थिति, जीएसटी और हाल में राजनीति से प्रेरित कुछ बदलावों पर भी विचार विमर्श कर सकते हैं।  

Todays Beets: