Tuesday, December 11, 2018

Breaking News

   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||   बाबा रामदेव रांची में खोलेंगे आचार्यकुलम, क्लास 1 से क्लास 4 तक मिलेगी शिक्षा     ||   मैंने महिलाओं व अन्य वर्गों के लिए काम किया, मेरा काम बोलेगा: वसुंधरा राजे     ||   बजरंगबली पर दिए गए बयान को लेकर हिन्दू महासभा ने योगी को कानूनी नोटिस भेजा     ||   पीएम मोदी 3 द‍िसंबर को हैदराबाद में लेंगे पब्ल‍िक मीट‍िंग     ||   भगत स‍िंह आतंकवादी नहीं, हमारे देश को उन पर गर्व है- फारुख अब्दुल्ला     ||   अन‍िल अंबानी की जेब में देश का पैसा जा रहा है-राहुल गांधी     ||    दिल्ली: TDP नेता वाईएस चौधरी को HC से राहत, गिरफ्तारी पर रोक     ||    पूर्व क्रिकेटर अजहर तेलंगाना कांग्रेस समिति के कार्यकारी अध्यक्ष बनाए गए     ||   किसानों को कांग्रेस ने मजबूर और बीजेपी ने मजबूत बनाया: PM मोदी     ||

केजरीवाल का केन्द्र पर बड़ा हमला, कहा-एफडीआई से छोटे और मंझले व्यापारियों के लिए तो जैसे मरने की नौबत

अंग्वाल न्यूज डेस्क
केजरीवाल का केन्द्र पर बड़ा हमला, कहा-एफडीआई से छोटे और मंझले व्यापारियों के लिए तो जैसे मरने की नौबत

नई दिल्ली। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने शुक्रवार को अपनी चुप्पी तोड़ते हुए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी पर बड़ा हमला बोला है। केजरीवाल ने सिंगल ब्रांड रिटेल में 100 फीसदी एफडीआई के फैसले का विरोध करते हुए केन्द्र सरकार पर तीखा वार किया है।  दिल्ली के मुख्यमंत्री ने ट्विट कर कहा कि ‘पिछले एक साल में व्यापारियों पर तीन मार की गई हैं, जिनमें नोटबंदी फिर जीएसटी और अब एफडीआई का फैसला है।’ केजरीवाल ने लिखा कि ‘छोटे और मंझले व्यापारियों के लिए तो जैसे मरने की नौबत आ गई है।’

गोविंदाचार्य ने भी उठाए सवाल

गौरतलब है कि अरविंद केजरीवाल से पहले भाजपा के पूर्व नेता केएन गोविंदाचार्य ने भी सिंगल ब्रांड में 100 फीसदी एफडीआई की नीति के लिए केंद्र सरकार पर सवाल उठाए हैं।  गोविंदाचार्य का कहना है कि इन नीतियों को लागू करने की वजह आर्थिक सुधार हैं, लेकिन इसके परिणाम गंभीर होंगे। केएन गोविंदाचार्य  ने कहा कि भारत के सामने ब्राजील का भी उदाहरण है लेकिन इससे कोई सबक नहीं लिया जा रहा है।

 

 


ये भी पढ़ें - नए साल में इसरो ने रचा नया इतिहास,अन्तरिक्ष में भेजा अपना 100वां उपग्रह

यह है सरकार का फैसला

आपको बता दें कि केन्द्र सरकार ने विदेशी निवेश को बढ़ावा देने के लिए एफडीआई नीति में बड़ा बदलाव करने का फैसला लेते हुए सिंगल ब्रांड रिटेल ट्रेडिंग में ऑटोमैटिक रूट के तहत 100 फीसदी एफडीआई का फैसला लिया है। इसके साथ ही रियल एस्टेट के क्षेत्र में भी अब ऑटोमैटिक रूट के तहत 100 फीसदी एफडीआई अब संभव है।

उद्योग जगत में मिलीजुली प्रतिक्रिया

यहां गौर करने वाली बात है कि केन्द्र सरकार के इस फैसले से उद्योग जगत में मिली जुली प्रतिक्रिया मिल रही है। बड़े उद्योग तो इस फैसले का स्वागत कर रहे हैं लेकिन छोटे व्यापारियों के संगठन ने सरकार के इस कदम का विरोध कर रहे हैं। छोटे व्यापारियों का कहना है कि इससे खुदरा क्षेत्र में बहुराष्ट्रीय कंपनियों का प्रवेश काफी आसान हो जाएगा।

Todays Beets: