Wednesday, September 19, 2018

Breaking News

   ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण के पूर्व जीएम के ठिकानों पर आयकर के छापे     ||   बिहार: पूर्व मंत्री मदन मोहन झा बनाए गए प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष। सांसद अखिलेश सिंह बनाए गए अभियान समिति के अध्यक्ष। कौकब कादिरी समेत चार बनाए गए कार्यकारी अध्यक्ष।     ||   कर्नाटक के मंत्री शिवकुमार के खिलाफ ED ने मनी लॉन्ड्रिंग का केस दर्ज किया    ||   सीतापुर में श्रद्धालुओें से भरी बस खाई में पलटी 26 घायल, 5 की हालत गंभीर     ||   मंगल ग्रह पर आशियाना बनाएगा इंसान, वैज्ञानिकों को मिली पानी की सबसे बड़ी झील     ||   भाजपा नेता का अटपटा ज्ञान, 'मृत्युशैया पर हुमायूं ने बाबर से कहा था, गायों का सम्मान करो'     ||   आज से एक हुए IDEA-वोडाफोन! अब बनेगी देश की सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी     ||   गोवा में बड़ी संख्‍या में लोग बीफ खाते हैं, आप उन्‍हें नहीं रोक सकते: बीजेपी विधायक     ||   चीन फिर चल रहा 'चाल', डोकलाम में चुपचाप फिर शुरू कीं गतिविधियां : अमेरिकी अधिकारी     ||   नीरव मोदी, चोकसी के खिलाफ बड़ा एक्शन, 25-26 सितंबर को कोर्ट में पेश होने के आदेश     ||

केजरीवाल का केन्द्र पर बड़ा हमला, कहा-एफडीआई से छोटे और मंझले व्यापारियों के लिए तो जैसे मरने की नौबत

अंग्वाल न्यूज डेस्क
केजरीवाल का केन्द्र पर बड़ा हमला, कहा-एफडीआई से छोटे और मंझले व्यापारियों के लिए तो जैसे मरने की नौबत

नई दिल्ली। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने शुक्रवार को अपनी चुप्पी तोड़ते हुए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी पर बड़ा हमला बोला है। केजरीवाल ने सिंगल ब्रांड रिटेल में 100 फीसदी एफडीआई के फैसले का विरोध करते हुए केन्द्र सरकार पर तीखा वार किया है।  दिल्ली के मुख्यमंत्री ने ट्विट कर कहा कि ‘पिछले एक साल में व्यापारियों पर तीन मार की गई हैं, जिनमें नोटबंदी फिर जीएसटी और अब एफडीआई का फैसला है।’ केजरीवाल ने लिखा कि ‘छोटे और मंझले व्यापारियों के लिए तो जैसे मरने की नौबत आ गई है।’

गोविंदाचार्य ने भी उठाए सवाल

गौरतलब है कि अरविंद केजरीवाल से पहले भाजपा के पूर्व नेता केएन गोविंदाचार्य ने भी सिंगल ब्रांड में 100 फीसदी एफडीआई की नीति के लिए केंद्र सरकार पर सवाल उठाए हैं।  गोविंदाचार्य का कहना है कि इन नीतियों को लागू करने की वजह आर्थिक सुधार हैं, लेकिन इसके परिणाम गंभीर होंगे। केएन गोविंदाचार्य  ने कहा कि भारत के सामने ब्राजील का भी उदाहरण है लेकिन इससे कोई सबक नहीं लिया जा रहा है।

 

 


ये भी पढ़ें - नए साल में इसरो ने रचा नया इतिहास,अन्तरिक्ष में भेजा अपना 100वां उपग्रह

यह है सरकार का फैसला

आपको बता दें कि केन्द्र सरकार ने विदेशी निवेश को बढ़ावा देने के लिए एफडीआई नीति में बड़ा बदलाव करने का फैसला लेते हुए सिंगल ब्रांड रिटेल ट्रेडिंग में ऑटोमैटिक रूट के तहत 100 फीसदी एफडीआई का फैसला लिया है। इसके साथ ही रियल एस्टेट के क्षेत्र में भी अब ऑटोमैटिक रूट के तहत 100 फीसदी एफडीआई अब संभव है।

उद्योग जगत में मिलीजुली प्रतिक्रिया

यहां गौर करने वाली बात है कि केन्द्र सरकार के इस फैसले से उद्योग जगत में मिली जुली प्रतिक्रिया मिल रही है। बड़े उद्योग तो इस फैसले का स्वागत कर रहे हैं लेकिन छोटे व्यापारियों के संगठन ने सरकार के इस कदम का विरोध कर रहे हैं। छोटे व्यापारियों का कहना है कि इससे खुदरा क्षेत्र में बहुराष्ट्रीय कंपनियों का प्रवेश काफी आसान हो जाएगा।

Todays Beets: